News Nation Logo
उत्तराखंड : बारिश के दौरान चारधाम यात्रा बड़ी चुनौती बनी, संवेदनशील क्षेत्रों में SDRF तैनात आंधी-बारिश को लेकर मौसम विभाग ने दिल्ली-NCR के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया राजस्थान : 11 जिलों में आज आंधी-बारिश का ऑरेंज अलर्ट, ओला गिरने की भी आशंका बिहार : पूर्णिया में त्रिपुरा से जम्मू जा रहा पाइप लदा ट्रक पलटने से 8 मजदूरों की मौत, 8 घायल पर्यटन बढ़ाने के लिए यूपी सरकार की नई पहल, आगरा मथुरा के बीच हेली टैक्सी सेवा जल्द महाराष्ट्र के पंढरपुर-मोहोल रोड पर भीषण सड़क हादसा, 6 लोगों की मौत- 3 की हालत गंभीर बारिश के कारण रोकी गई केदारनाथ धाम की यात्रा, जिला प्रशासन के सख्त निर्देश आंधी-बारिश के कारण दिल्ली एयरपोर्ट से 19 फ्लाइट्स डाइवर्ट
Banner

2021 में चीन की जनसंख्या में 4.8 लाख की वृद्धि, कम प्रजनन दर को कैसे देखते हैं?

2021 में चीन की जनसंख्या में 4.8 लाख की वृद्धि, कम प्रजनन दर को कैसे देखते हैं?

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 20 Jan 2022, 07:50:01 PM
new from

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

बीजिंग:   चीनी राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो द्वारा 17 जनवरी को जारी 2021 के आर्थिक आंकड़ों के अनुसार, उस वर्ष देश में नवजात शिशुओं की संख्या 1.062 करोड़ थी। यह संख्या साल 2020 की 1.2 करोड़ और साल 2019 की 1.465 करोड़ से कम है। वर्ष 2016 में चीन में जन्मों की संख्या 1.883 करोड़ के एक छोटे से शिखर पर पहुंच गई, और तब से इसमें गिरावट जारी है। वर्ष 2021 की जनसंख्या साल 2020 की तुलना में केवल 4.8 लाख बढ़ी, इस पर विदेशी मीडिया का ध्यान केंद्रित हुआ।

चीनी राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो के प्रधान निंग ची-जे ने विश्लेषण करते हुए कहा कि प्रसव उम्र की महिलाओं की संख्या में निरंतर गिरावट और कोविड-19 महामारी का प्रकोप चीन की जनसंख्या वृद्धि को प्रभावित करने वाले कारक हैं। 2021 में, चरम प्रजनन अवधि में 21 से 35 वर्ष की आयु के बीच प्रसव उम्र की महिलाओं की संख्या में लगभग 30 लाख की कमी आई। कोरोना महामारी ने भी कुछ हद तक युवा लोगों के लिए शादी और बच्चे के जन्म की व्यवस्था में देरी की है। कई अंतरराष्ट्रीय जांच और शोध से पता चला है कि महामारी के फैलने के बाद से, कई देशों और क्षेत्रों में प्रजनन स्तर में गिरावट आई है। 2020 में, जापान और दक्षिण कोरिया में साल 2019 की तुलना में नवजात शिशुओं का जन्म कम रहा।

एक और कारण जिसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है, वह है बच्चों के लिए युवाओं की कम इच्छा। अब, चीन में अधिक से अधिक पुरानी पीढ़ी के लोग कम लोगों के परिवार, हल्का आर्थिक बोझ और बेहतर शिक्षा के विचार को स्वीकार करने लगे हैं। यह एक सामाजिक सच्चाई भी बन गई है कि 1990 और 2000 के दशक में जन्मे युवा लोगों, जिनके पास बेहतर आर्थिक स्थिति है और व्यक्तिगत स्वतंत्रता पर अधिक जोर देते हैं, को बच्चे पैदा करने की इच्छा नहीं हैं।

इसके अलावा, महिलाओं के शिक्षा स्तर की उन्नति और श्रम में भागीदारी दर में वृद्धि, गर्भनिरोधक विधियों की लोकप्रियता, जीवन शैली में बदलाव, प्रजनन अवधारणाओं व पालन-पोषण के पैटर्न में बदलाव आदि कारणों से वर्तमान में जनसंख्या की धीमी वृद्धि पैदा हुई।

आंकड़े बताते हैं कि चीन में अभी भी प्रसव उम्र की महिलाओं की संख्या 30 करोड़ से अधिक है, हर साल एक करोड़ से अधिक जन्म के साथ कुल जनसंख्या वृद्धि के एक निश्चित स्तर को बनाए रखेगी।

परिवारों के लिए अच्छी खबर यह है कि महिलाओं को जन्म देने में अधिक सहज महसूस कराने और परिवारों के आर्थिक बोझ को कम करने के लिए संबंधित पक्षों ने सक्रिय कदम उठाए, देश में एक अधिक पूर्ण प्रजनन समर्थन प्रणाली का गठन किया जा रहा है।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 20 Jan 2022, 07:50:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.