News Nation Logo

चीन मधुमेह की रोकथाम व नियंत्रण में सक्रियशील है

चीन मधुमेह की रोकथाम व नियंत्रण में सक्रियशील है

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 12 Nov 2021, 09:55:01 PM
new from

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

बीजिंग: हर साल 14 नवंबर को संयुक्त राष्ट्र मधुमेह दिवस मनाया जाता है। इस साल का मुख्य विषय है कि हरेक व्यक्ति को मधुमेह की स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध होनी चाहिए। इस दिवस को मनाने के लिए इधर के कुछ दिनों में चीन में तरह-तरह की गतिविधियां आयोजित की जा रही हैं, जैसे नि:शुल्क चिकित्सक परामर्श, ब्लड शुगर की जांच, शैक्षिक सामग्रियों का वितरण, मीडिया पर मधुमेह संबंधी जानकारियों का प्रसारण इत्यादि।

वर्तमान में चीन में मधुमेह रोगियों की संख्या 11 करोड़ के पार है, जो विश्व में सबसे ज्यादा है। चिंता की बात है कि मधुमेह रोगियों की वृद्धि दर तेज है। इस गंभीर स्वास्थ्य चुनौती के निपटारे के लिए चीन समग्र प्रक्रिया वाले प्रबंधन की रणनीति लागू कर रहा है। इस रणनीति का मूल विषय है कि मधुमेह की विशेषता के अनुसार विभिन्न समुदायों के प्रति विभिन्न लक्षित नीति अपनायी जाती है।

सबसे पहले स्वस्थ लोगों के बीच जागरूकता बढ़ाकर उनका मधुमेह रोगी बनने से रोकने की पूरी कोशिश करना। मधुमेह ऐसा रोग है, जिसकी रोकथाम की जा सकती है। मधुमेह हमारे अस्वस्थ व अवैज्ञानिक जीवन शैली से घनिष्ठ रूप से जुड़ा है। जीवन में हमारे खाने की मात्रा समुचित होना चाहिए यानी हर बार पेटभर खाना नहीं खाना और शराब व तंबाकू के सेवन से बचना चाहिए। हमें नियमित रूप से व्यायाम करने की आदत अपनानी चाहिए। सबसे अच्छा है कि हरेक हफ्ते 5 बार तीस मिनट से अधिक समय तक शारीरिक कसरत करनी चाहिए ताकि शरीर मजबूत हो और मोटापा न बढ़े।

इसके अलावा हमें हद से ज्यादा तनाव, थकान से बचना चाहिए और विश्राम करना चाहिए। संबंधित अध्ययन के अनुसार अच्छी जीवनशैली से एक व्यक्ति की मधुमेह से पीड़ित होने की संभावना कम से कम 50 प्रतिशत घट जाएगी। वर्ष 2019 से चीन नियमित रूप से मधुमेह की रोकथाम विशेष अभियान आयोजित करता है। इसका मुख्य उद्देश्य लोगों में मधुमेह की जानकारियों का प्रचार-प्रसार करना है, ताकि हरेक व्यक्ति इस रोग के खतरे और रोकथाम के उपाय जान सकें।

दूसरा, मधुमेह से पीड़ित होने की आशंका रखने वाले लोगों का यथाशीघ्र पता लगा कर उनके स्वास्थ्य मार्गदर्शन को मजबूत करना। संबंधित सर्वे और गणना के अनुसार बड़ी संख्या वाले चीनियों को अपने ब्लड शुगर स्तर का आंकड़ा पता नहीं है। उनमें से बहुत से लोग या तो मधुमेह रोगी बन चुके हैं या मधुमेह रोगी बन रहे हैं। इस खतरनाक स्थिति को बदलने के लिए चीन समग्र समाज को इस क्रोनिक रोगी का पता, रोकथाम और प्रबंधन में भाग लेने की प्रेरणा देने के साथ चिकित्सक आपूर्ति तथा व्यक्तिगत मांग दोनों पक्षों पर जोर दे रहा है। असामान्य मधुमेह स्तर का पता लगाने के बाद पीड़ितो को भोजन पर नियंत्रित करना और वैज्ञानिक रूप से व्यायाम करना चाहिए। अगर प्री-डायबीटिज ग्रस्त लोग पेशेवर मार्गदर्शन का पालन कर अपना स्वास्थ्य प्रबंधन मजबूत करेंगे, तो 6 साल में 30 प्रतिशत लोगों का ब्लड शुगर स्तर सामान्य होगा।

तीसरा, मधुमेह रोगी का वैज्ञानिक और कारगर इलाज कर रोग की स्थिति स्थिर बनाने की भरसक कोशिश करना चाहिए ताकि अन्य रोग पैदा न हो और उनकी जीवन गुणवत्ता की गारंटी की जाए। मुधमेह दिक्कतें रोगियों की जीवन के लिए प्रत्यक्ष खतरा है। इससे लोग विकलांग या सामान्य समय से पहले मर सकते हैं। वर्तमान मधुमेह रोगियों के इलाज में चीन बुनियादी स्तर के डॉक्टरों का स्तर उन्नत करने और इलाज के मानकीकरण पर बल दे रहा है। इसके अलावा इस रोग के अध्ययन और वैदेशिक सहयोग को भी मजबूत किया जा रहा है।

(वेइतुंग---चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 12 Nov 2021, 09:55:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.