News Nation Logo
गृह मंत्री अमित शाह ने भाजपा के 'सेवा ही संगठन' कार्यक्रम के तहत 'मोदी वैन' पहल को हरी झंडी दिखाई मैं PM नरेंद्र मोदी, अमित शाह, जे.पी. नड्डा और राजनाथ सिंह का आभार व्यक्त करता हूं: बाबुल सुप्रियो जिस पार्टी के लिए मैंने 7 साल मेहनत की, उसे छोड़ते वक्त दिल व्यथित था: बाबुल सुप्रियो बिहार: CBSE ने 10वीं और 12वीं कक्षा के टर्म-1 की डेटशीट जारी की युवाओं को रोजगार देने दिल्ली सरकार लांच करेगी रोजगार 2.0 एप सेना प्रमुख एमएम नरवणे जम्मू के दो दिवसीय दौरे पर, लेंगे सुरक्षा का जायजा बांग्लादेश में हिंदुओं पर हो रहे हमलों को लेकर देश में उबाल नैनीताल में बादल फटने से तबाही का आलम. रामनगर के रिसॉर्ट में 100 लोग फंसे उत्तराकंड के सीएम ने जलप्रलय वाले स्थानों का दौरा किया

दिल्ली: बहुमंजिला इमारत गिरने मामले पर निगम कर्मियों को क्लीन चिट, मामले की फिर होगी जांच

दिल्ली: बहुमंजिला इमारत गिरने मामले पर निगम कर्मियों को क्लीन चिट, मामले की फिर होगी जांच

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 22 Sep 2021, 07:45:01 PM
New Delhi

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: उत्तरी दिल्ली नगर निगम क्षेत्र में बहुमंजिला इमारत गिरने से दो मासूमों की मौत की जांच में निगम के अधिकारियों को क्लीन चिट दे दी गई है। लेकिन इस मामले की एक बार फिर जांच की जाएगी।

दरअसल 13 सितंबर पुरानी सब्जी मंडी क्षेत्र में एक बहुमंजिला इमारत गिर गई थी, जिसके बाद निगम के अधिकारियों और कर्मचारियों से लापरवाही हुई या नहीं इसकी जांच कराई गई थी।

निगमायुक्त संजय गोयल के आदेश के बाद मंगलवार को जांच समिति ने रिपोर्ट सौंप दी। जांच समिति ने सिविल लाइंस जोन के चार अधिकारियों की भूमिका की भी जांच की, जिसमें कनिष्ठ अभियंता विपिन, उपायुक्त सतनाम सिंह, सहायक अभियंता केसी रोहिल और अधिशासी अभियंता संजय शर्मा शामिल हैं।

रिपोर्ट में साफ कर दिया गया है कि, निगम के स्तर पर कोई लापरवाही नहीं हुई है। क्योंकि इमारत न तो जर्जर थी, न किसी प्रकार की इमारत को लेकर शिकायत प्राप्त हुई थी। उस इमारत में किसी तरह कोई क्रैक और प्लास्टर नहीं मिला है। इसी कारण किसी की जिम्मेदारी निर्धारित नहीं हुई है।

निगम के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, 4 से 5 स्थानीय लोगों के आधिकारिक बयान लिए गए थे, जिनके अनुसार दुकान का शटर डाल निर्माण कार्य किया जा रहा था, वहीं इसको लेकर निगम के पास न मुख्यालय और न ही जोनल विभाग में किसी तरह की आधिकारिक शिकायत मिली है।

इसके अलावा इससे पहले किसी तरह की कोई शिकायत आती या पता लगता तब तक इमारत गिर चुकी थी। इसलिए इसमें किसी की जिम्मेदारी निर्धारित नहीं होती है।

जांच अधिकारियों ने इसी आधार पर सभी को क्लीन चिट दे दी है।

दूसरी ओर उत्तरी पूर्वी निगम के स्थायी समिति के अध्यक्ष जोगी राम जैन ने कहा कि, एक बार विस्तृत रिपोर्ट पढ़ने के बाद परखेंगे कि कितने कर्मचारी और अन्य अधिकारियों की इस मामले पर क्या जिम्मेदारियां बनती हैं। इसके बाद निगम के महापौर और नेता सदन से इसपर विचार करेंगे साथ ही कमिश्नर से भी पूछेंगे, वहीं इसपर फिर से जांच करेंगे।

निगम ने इस घटना के बाद एक बार फिर से जर्जर इमारतों का सर्वे किया, जानकारी के मुताबिक 48 घंटे बाद आए सर्वे के मुताबिक कुल उस वार्ड में 38 इमारतें जर्जर पाई गई थीं। वहीं घटना से पहले उस वार्ड में करीब 20 इमारत जर्जर थीं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 22 Sep 2021, 07:45:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो