News Nation Logo
विपक्षी सांसदों की नारेबाजी के बीच राज्यसभा आज दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित हुई भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से हराकर टेस्ट मैच श्रृंखला 1-0 से जीती टीम इंडिया ने घर में लगातार 14वीं टेस्ट सीरीज जीती न्यूजीलैंड पर 372 रनों से जीत रनों के लिहाज से भारत की टेस्ट मैचों में सबसे बड़ी जीत है उत्तराखंड के चमोली में देवल ब्लॉक के ब्रह्मताल ट्रेक मार्ग पर बर्फबारी हुई रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर के साथ नई दिल्ली में बैठक की बाबा साहब आंबेडकर का महापरिनिर्वाण दिवस आज. बसपा कर रही बड़ा कार्यक्रम नीट काउंसिलिंग में हो रही देरी के खिलाफ रेजिडेंट डॉक्टर्स आज ठप रखेंगे सेवा रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन आज आ रहे भारत. कई समझौतों को देंगे अंतिम रूप पंजाब के पूर्व सीएम अमरिंदर सिंह आज करेंगे अमित शाह-जेपी नड्डा से मुलाकात.

कृषि कानूनों को निरस्त करने से ट्रेड यूनियनों को श्रम कानूनों में बदलाव का विरोध करने के लिए मिलेगा प्रोत्साहन

कृषि कानूनों को निरस्त करने से ट्रेड यूनियनों को श्रम कानूनों में बदलाव का विरोध करने के लिए मिलेगा प्रोत्साहन

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 21 Nov 2021, 03:50:01 PM
New Delhi

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: आईएएनएस-सी वोटर सर्वेक्षण के अनुसार, कृषि कानूनों को निरस्त करने से ट्रेड यूनियनों और उनके नेताओं को श्रम कानूनों में बदलाव का विरोध करने के लिए प्रोत्साहन मिलेगा।

सर्वेक्षण के अनुसार, इस पर लगभग 43 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने अपनी सहमति व्यक्त की है। इस बारे में एनडीए और विपक्षी समर्थकों की राय में ज्यादा अंतर नहीं है।

दिलचस्प बात यह है कि 25 प्रतिशत से अधिक उत्तरदाताओं ने कोई निश्चित राय व्यक्त नहीं की, जिसका अर्थ है कि वे श्रम सुधारों को लेकर अनिश्चित हैं।

पिछले साल से मुखर विरोध कर रहे किसानों का एक वर्ग और मोदी शासन के कट्टर आलोचक तीन कृषि कानूनों को रद्द करने के बाद अपनी जीत का जश्न मनाने में व्यस्त हैं।

सरकार द्वारा आक्रामक तरीके से अपनाए जा रहे सुधार के उपाय केवल कृषि कानून ही तक सीमित नहीं थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई अन्य सुधारों के अलावा दो और सुधार उपायों पर बहुत अधिक जोर दिया है। पहला प्राचीन श्रम कानूनों में बदलाव से संबंधित है, जो केवल कुछ विशेषाधिकार प्राप्त लोगों को लाभान्वित कर रहे हैं, जबकि अधिकांश श्रमिकों (विश्वसनीय अनुमानों के अनुसार लगभग 90 प्रतिशत श्रमिकों) को किसी भी लाभ से वंचित कर रहे हैं। 2020 से वे श्रम संहिताओं में परिवर्तन लागू होने की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

कुछ ऐसा ही तब सामने आया जब उत्तरदाताओं से पूछा गया कि क्या सरकार के विरोधी महत्वाकांक्षी निजीकरण कार्यक्रम को आगे बढ़ाने की कोशिश करेंगे, तो लगभग 48 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने एनडीए और विपक्षी समर्थकों के बीच बहुत अंतर नहीं होने से सहमति व्यक्त की। लगभग 25 प्रतिशत लोग अनिश्चितता को दर्शाते हुए एक राय नहीं दे सके।

आईएएनएस-सी वोटर सर्वेक्षण ने उत्तरदाताओं से पूछा कि क्या भारतीय और विदेशी निवेशकों को यह संदेश मिलेगा कि भारत में सुधार नहीं हो रहे हैं? इसपर लगभग समान 36 प्रतिशत सहमत और बाकी लोग असहमत दिखे, लेकिन फिर से 29 प्रतिशत एक राय व्यक्त नहीं कर सके। इसका स्पष्ट अर्थ है कि आम भारतीय अब सुधार के एजेंडे को मोदी शासन द्वारा जोश के साथ आगे बढ़ाने के बारे में निश्चित नहीं है।

इसका मतलब है कि भारतीय अर्थव्यवस्था के भविष्य की संभावनाओं के लिए यह एक बुरी यह खबर हो सकती है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 21 Nov 2021, 03:50:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.