News Nation Logo
भारत हमेशा से एक शांतिप्रिय देश रहा है और आज भी है: रक्षामंत्री राजनाथ सिंह हमारा देश किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए तैयार है: रक्षामंत्री राजनाथ सिंह किसी भी विवाद को अपनी तरफ़ से शुरू करना हमारे मूल्यों के ख़िलाफ़ है: रक्षामंत्री राजनाथ सिंह राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों को वैक्सीन की 108 करोड़ डोज़ उपलब्ध कराई गईं: स्वास्थ्य मंत्रालय कर्नाटकः कोडागू जिले के जवाहर नवोदय विद्यालय में 32 बच्चे कोरोना पॉजिटिव महाराष्ट्र के गृहमंत्री दिलीप वासले हुए कोरोना पॉजिटिव कोरोना अपडेटः पिछले 24 घंटे में देश में 16,156 केस आए, 733 मरीजों की मौत हुई जम्मू-कश्मीरः डोडा में खाई में गिरी मिनी बस, 8 लोगों की मौत आर्य़न खान ड्रग्स केस में गवाह किरण गोसावी पुणे से गिरफ्तार पेट्रोल और डीजल के दामों में 35 पैसे की बढ़ोतरी कैप्टन अमरिंदर सिंह आज फिर मुलाकात करेंगे गृह मंत्री अमित शाह से क्रूज ड्रग्स मामले में आर्यन खान की जमानत पर आज फिर दोपहर में सुनवाई पीएम नरेंद्र मोदी आज आसियान-भारत शिखर वार्ता को करेंगे संबोधित दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पंजाब के दो दिवसीय दौरे पर आज जाएंगे

मनीष सिसोदिया ने दिल्ली के कोयला संकट के लिए केंद्र को ठहराया जिम्मेदार

मनीष सिसोदिया ने दिल्ली के कोयला संकट के लिए केंद्र को ठहराया जिम्मेदार

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 10 Oct 2021, 08:50:02 PM
New Delhi

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कोयला संकट को लेकर केंद्र पर आरोप लगाते हुए रविवार को कहा कि केंद्र बिजली उत्पादन में कमी के मुद्दे से भाग रहा है।

उपमुख्यमंत्री ने कोविड-19 की दूसरी लहर के चरम के दौरान ऑक्सीजन संकट का जिक्र करते हुए आरोप लगाया कि केंद्र सरकार हमेशा वास्तविक मुद्दों की उपेक्षा करती है।

उन्होंने कहा, कोयले की स्थिति ऑक्सीजन संकट के समान है। हालांकि, केंद्र इसे स्वीकार नहीं करेगा।

सिसोदिया ने कहा कि वह केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आर.के. सिंह केगैर-जिम्मेदाराना रवैये से दुखी हैं।

सिसोदिया ने कहा कि राजस्थान, दिल्ली और आंध्र प्रदेश सहित कई राज्य बिजली की कमी को लेकर चिंता जता रहे हैं।

उन्होंने कहा कि दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और आंध्र प्रदेश के सीएम वाई.एस. जगन मोहन रेड्डी पहले ही इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिख चुके हैं।

देश में कोयले की कमी होने से उत्तर प्रदेश में बिजली प्लांटों ने काम करना बंद कर दिया है, लेकिन केंद्र सरकार इस ओर आंखें मूंद रही है।

केजरीवाल ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मौजूदा कोयले की कमी के बारे में पत्र लिखा है, जिसमें लगातार तीसरे महीने राष्ट्रीय राजधानी को प्रभावित किया, जिससे शहर में बिजली उत्पादन प्रभावित हुआ है।

मुख्यमंत्री ने लिखा, अगस्त से जारी समस्या ने दिल्ली के एनसीटी को बिजली की आपूर्ति करने वाले प्रमुख केंद्रीय उत्पादन प्लांटों से बिजली उत्पादन को प्रभावित किया है।

हालांकि, आर.के. सिंह ने रविवार को कहा था कि दिल्ली को ऊर्जा संकट का सामना नहीं करना पड़ेगा, क्योंकि सभी ताप विद्युत प्लांटों में कोयले की स्थिति की समीक्षा के बाद राष्ट्रीय राजधानी की आपूर्ति करने वाले बिजली प्लांटों को पर्याप्त ईंधन उपलब्ध कराया जा रहा है।

दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता प्रवीण शंकर कपूर ने कहा है कि यह अजीब है कि आप सरकार दिल्ली में बिजली कटौती का डर बार-बार फैला रही है, लेकिन यह नहीं बता रही है कि राष्ट्रीय राजधानी में बिजली की उचित आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए उन्होंने क्या वैकल्पिक व्यवस्था की है।

उन्होंने कहा कि यह केंद्रीय ऊर्जा मंत्री के आश्वासन के बावजूद है कि बिजली प्लांटों के लिए ईंधन की कोई कमी नहीं है और केंद्र दिल्ली के लिए उचित बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करेगा।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 10 Oct 2021, 08:50:02 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो