News Nation Logo
Banner

NCPCR ने ICMR-स्वास्थ्य मंत्रालय को लिखा ये पत्र, बच्चों के लिए की ये मांग

कोरोना वायरस (Corona Virus) की तीसरी लहर की आशंका और उसमें भी बच्चों पर मंडराते खतरे को देखते हुए कोरोना के खिलाफ जारी लड़ाई में एक और बड़ा कदम उठाया गया है.

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 20 May 2021, 08:17:54 PM
vaccination

NCPCR ने ICMR-स्वास्थ्य मंत्रालय को लिखा ये पत्र (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

देश में एक तरफ कोरोना की तीसरी ने कहर बरपा रखा है तो दूसरी तरफ कई राज्यों में आक्सीजन की कमी से हाहाकार मचा हुआ है. कोरोना वायरस (Corona Virus) की तीसरी लहर की आशंका और उसमें भी बच्चों पर मंडराते खतरे को देखते हुए कोरोना के खिलाफ जारी लड़ाई में एक और बड़ा कदम उठाया गया है. पिछले दिनों ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने भारत बायोटेक (Bharat Biotech) की कोवैक्सीन को 2 से 18 साल के बच्चों पर ट्रायल की मंज़ूरी दे दी है. इसे लेकर राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने स्वास्थ्य मंत्रालय और आईसीएमआर को पत्र लिखा है. 

आयोग ने स्वास्थ्य मंत्रालय, आईसीएमआर, राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रालयों को पत्र लिखकर कहा कि कोरोना महामारी के चलते तीसरी लहर में बच्चों और नवजात शिशुओं को होने वाले संभावित खतरे को देखते हुए उचित कदम उठाए जाएं. एनसीपीसीआर ने आईसीएमआर को लिखे पत्र में ये आग्रह किया है कि बच्चों के उपचार और क्लीनिकल प्रबंधन को लेकर जरूरी दिशा निर्देश और प्रोटोकॉल को जारी करें. 

साथ ही NCPCR ने स्वास्थ्य मंत्रालय से भी आग्रह किया है कि बच्चों और शिशुओं के लिए इमरजेंसी एम्बुलेंस को लेकर आवश्यक दिशा निर्देश जारी करें. एनसीपीसीआर ने तीसरा पत्र सभी राज्यों और UT's के स्वास्थ्य मंत्रालयों को लिखते हुए आग्रह किया है कि कोरोना से संबंधित वो अपने राज्यों के डाटा तैयार करने के लिए नोडल अफसर की तैनाती करें.

कोरोना की तीसरे लहर को रोकने के लिए बच्चों का टीकाकरण आवश्यक: AIIMS

कोरोना वायरस की संभावित तीसरी लहर (COVID19 Third Wave ) से पहले केंद्र सरकार ने मंगलवार को अहम फैसला लिया है. सरकार जल्द ही भारत बायोटेक द्वारा बनाई जा रही कोवैक्सीन का बच्चों पर ट्रायल शुरू करने वाली है. आशंका है कि कुछ महीनों के बाद देश में महामारी की तीसरी लहर आ सकती है, जिसमें सबसे ज्यादा बच्चों पर असर पड़ेगा.  इसको देखते हुए ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने 2 वर्ष से 18 वर्ष की आयु के बच्चों पर कोवैक्सीन के दूसरे और तीसरे फेज के ट्रायल की मंजूरी दी थी. 

इसी बीच AIIMS COVID-19 टास्क फोर्स के चेयरपर्सन डॉ नवनीत विग ( Dr Navneet Wig) ने कहा है कि कोरोना वायरस की संभावित तीसरी लहर के इंतजार नहीं किया जा सकता है कि आने के बाद बच्चों का टीकाकरण (Vaccination Drive for KIds ) किया जाए. कोरोना वायरस के तीसरे लहर आने के पहले ही हमें बच्चों का  टीकाकरण शुरू कर देना चाहिए। उन्होंने कहा  'बच्चों के लिए वैक्सीन की मात्रा और सुरक्षा डेटा उपलब्ध होने के बाद, टीके लगाए जाएंगे। बच्चों की सुरक्षा के मामले में हम पीछे नहीं रह सकते. हमें तीसरी लहर को अंदर नहीं आने देना है.  डॉ नवनीत ने आगे कहा कि हमें अपनी परीक्षण सकारात्मकता दर को कम रखना है और अपनी रणनीतियों को हर समय बदलते रहना है. इस वायरस से निपटने के लिए सिर्फ कोई एक फॉर्मूला कारगर नहीं सकता. लोगों में जागरूकता सबसे जयादा जरुरी है.    

नीति आयोग के मेंबर वीके पॉल ने बताया, ''डीसीजीआई ने  कोवैक्सीन के दूसरे/तीसरे फेज के क्लीनिकल फेज के ट्रायल के लिए मंजूरी प्रदान की है. यह ट्रायल 2-18 साल की उम्र के बच्चों पर किया जाएगा. इस ट्रायल की शुरुआत आगामी 10-12 दिनों में हो जाएगी.'' दरसअल, डीसीजीआई ने बीते गुरुवार को भारत बायोटेक को 2 से 18 साल की उम्र के बच्चों को वैक्सीन देने के लिए कोवैक्सीन के दूसरे और तीसरे फेज के लिए ट्रायल की मंजूरी दे दी थी. विशेषज्ञ समिति ने इस ट्रायल की सिफारिश की थी. बताया जा रहा है कि यह परीक्षण दिल्ली एवं पटना के एम्स और नागपुर स्थित मेडिट्रिना चिकित्सा विज्ञान संस्थान समेत विभिन्न स्थानों पर किया जाएगा. 

First Published : 20 May 2021, 08:16:46 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.