News Nation Logo
Banner

अनुच्छेद-370 की बहाली तक नेशनल कांफ्रेंस राजनीति में हिस्सा नहीं लेगी

हम अनुच्छेद 371 नहीं चाहते हैं, जो लोग इसे चाहते हैं, उन्हें इसे लेने दें. वे एक तीसरे मोर्चे के बारे में बात कर रहे हैं. उन्हें इसके साथ जाने दें.

न्‍यूज स्‍टेट ब्‍यूरो | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 10 Dec 2019, 11:42:11 PM
फारूक अब्दुल्ला

नई दिल्‍ली:  

नेशनल कांफ्रेस के वरिष्ठ नेता मुस्तफा कमाल ने कहा है कि जब तक अनुच्छेद-370 और जम्मू-कश्मीर राज्य की बहाली नहीं हो जाती, तब तक नेकां राजनीतिक प्रक्रिया में हिस्सा नहीं लेगी. हिरासत में लिए गए पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कांफ्रेंस प्रमुख फारूक अब्दुल्ला के भाई मुस्तफा ने मीडिया के साथ एक विशेष बातचीत में यह बात कही. उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी किसी भी राजनीतिक प्रक्रिया का हिस्सा नहीं होगी, क्योंकि जम्मू-कश्मीर के लोगों के हितों को नहीं देखा जा रहा है. नेकां नेता ने कहा, उन्होंने जम्मू एवं कश्मीर की विशेष स्थिति को ध्वस्त कर दिया. हम इस प्रणाली में किसी भी राजनीतिक प्रक्रिया में भाग नहीं ले सकते.

उन्होंने कहा, हम अनुच्छेद 371 नहीं चाहते हैं, जो लोग इसे चाहते हैं, उन्हें इसे लेने दें. वे एक तीसरे मोर्चे के बारे में बात कर रहे हैं. उन्हें इसके साथ जाने दें. नेशनल कॉन्फ्रेंस अपना रुख नहीं बदलेगी. उन्होंने जम्मू एवं कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को निरस्त करने की कड़ी आलोचना भी की. उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी केंद्र के इस एकतरफा फैसले के खिलाफ एक प्रस्ताव को आगे बढ़ाने के लिए जमीन तैयार कर रही है और उन्हें उम्मीद है कि सुप्रीम कोर्ट अनुच्छेद 370 को असंवैधानिक घोषित करेगा.

यह भी पढ़ें-गुजरात दंगे पर जस्टिस नानावती-मेहता आयोग की अंतिम रिपोर्ट आज विधानसभा में होगी पेश

उन्होंने कहा, हमें सुप्रीम कोर्ट पर भरोसा है. यह एक तथ्य है कि अनुच्छेद 370 जम्मू-कश्मीर विधानसभा की मंजूरी के बिना निरस्त कर दिया गया था.उन्होंने कहा कि कश्मीर को लेकर भारत पर अंतर्राष्ट्रीय दबाव बढ़ रहा है और वर्तमान स्थिति हमेशा के लिए जारी नहीं रह सकती. मुस्तफा ने कहा कि वह फारूक अब्दुल्ला के संपर्क में हैं और उन्होंने कहा है कि वह कोई भी समझौता नहीं करेंगे. उन्होंने कहा कि जब फारूक अब्दुल्ला हमेशा अपने सिद्धांतों पर अड़े रहे हैं तो अब वह अपना रुख क्यों बदलेंगे?

यह भी पढ़ें-Citizenship Amendment Bill 2019 बुधवार को राज्यसभा में पेश किया जाएगा 

धारा-370 हटने के बाद 84 बार हुई घुसपैठ
कश्मीर से धारा-370 हटने के बाद पहली बार सरकार ने संसद में इसकी स्थिति को लेकर आंकड़े पेश किए हैं. गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी ने लोकसभा में कहा कि अगस्त से अब तक कश्मीर में घुसपैछ के 84 मामले सामने आ चुके हैं. उन्होंने बताया कि 59 आतंकवादियों ने अगस्त से अब तक घुसपैठ की. कश्मीर में धारा-370 हटने के बाद घुसपैठ की घटनाओं में तेजी आई है.

सभी थानों से हटाया कर्फ्यू
गृहमंत्री अमित शाह ने लोकसभा में कहा कि कश्मीर से हालात तेजी से सामान्य हो रहे हैं. सभी थाना क्षेत्रों से कर्फ्यू हटा लिया गया है. धारा-144 से भी लोगों को राहत मिल गई है. उन्होंने कहा कि कश्मीर में धारा-370 हटने के बाद से अब तक कोई भी गोली नहीं चली है. उन्होंने विपक्ष को आंड़े हाथों लेते हुए कहा कि कुछ नेताओं के हिरासत में रहने से कश्मीर में शांति है तो इससे लोगों को परेशानी क्यों हो रही है.

(इनपुट - आईएएनएस)

First Published : 10 Dec 2019, 07:03:30 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.