News Nation Logo
29 अक्टूबर से पीएम मोदी का इटली दौरा जेल में डालने वाला आज जेल में जाने से डरने लगा: नवाब मलिक जो फर्जीवाड़ा किया गया है, वो खुल खुलकर सामने आने लगा है: नवाब मलिक पंजाब में AAP की सरकार बनी, तो प्रदेश में किसी किसान को नहीं करने देंगे खुदकुशी: अरविंद केजरीवाल शाहरुख खान की 'मन्नत' पूरी, आर्यन को बेल; अब मन्नत में मनेगी दीपावली आर्यन खान समेत तीनों आरोपियों के विदेश जाने पर रोक भारत हमेशा से एक शांतिप्रिय देश रहा है और आज भी है: रक्षामंत्री राजनाथ सिंह हमारा देश किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए तैयार है: रक्षामंत्री राजनाथ सिंह किसी भी विवाद को अपनी तरफ़ से शुरू करना हमारे मूल्यों के ख़िलाफ़ है: रक्षामंत्री राजनाथ सिंह राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों को वैक्सीन की 108 करोड़ डोज़ उपलब्ध कराई गईं: स्वास्थ्य मंत्रालय कर्नाटकः कोडागू जिले के जवाहर नवोदय विद्यालय में 32 बच्चे कोरोना पॉजिटिव महाराष्ट्र के गृहमंत्री दिलीप वासले हुए कोरोना पॉजिटिव कोरोना अपडेटः पिछले 24 घंटे में देश में 16,156 केस आए, 733 मरीजों की मौत हुई जम्मू-कश्मीरः डोडा में खाई में गिरी मिनी बस, 8 लोगों की मौत आर्य़न खान ड्रग्स केस में गवाह किरण गोसावी पुणे से गिरफ्तार पेट्रोल और डीजल के दामों में 35 पैसे की बढ़ोतरी कैप्टन अमरिंदर सिंह आज फिर मुलाकात करेंगे गृह मंत्री अमित शाह से क्रूज ड्रग्स मामले में आर्यन खान की जमानत पर आज फिर दोपहर में सुनवाई पीएम नरेंद्र मोदी आज आसियान-भारत शिखर वार्ता को करेंगे संबोधित दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पंजाब के दो दिवसीय दौरे पर आज जाएंगे

आलाकमान से चन्नी करेंगे मुलाकात, बैकफुट पर आए नवजोत सिंह सिद्धू

एक समय पंजाब कांग्रेस में सर्वेसर्वा की हैसियत रखने वाले नवजोत सिंह सिद्धू अब बैकफुट पर आ चुके हैं. प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद से ही वह एकदम अकेले से दिख रहे हैं. एक समय 60 से अधिक विधायकों की अपने घर में बैठक करने वाले सिद्धू के समर्थन

News Nation Bureau | Edited By : Kuldeep Singh | Updated on: 01 Oct 2021, 11:02:06 AM
Navjot Singh Sidhu

नवजोत सिंह सिद्धू (Photo Credit: न्यूज नेशन)

चंडीगढ़:

एक समय पंजाब कांग्रेस में सर्वेसर्वा की हैसियत रखने वाले नवजोत सिंह सिद्धू अब बैकफुट पर आ चुके हैं. प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद से ही वह एकदम अकेले से दिख रहे हैं. एक समय 60 से अधिक विधायकों की अपने घर में बैठक करने वाले सिद्धू के समर्थन में इस्तीफे भी ना के बराबर हुए हैं. नवजोत सिंह सिद्धू नए डीजीपी और एजी को लाये जाने को लेकर नाराज चल रहे थे. जिसकी वजह से उन्होंने इस्तीफा दे दिया लेकिन गुरुवार को उनकी मुख्यमंत्री चरनजीत सिंह चन्नी के साथ हुई बैठक के बाद भी सीएम तत्काल प्रभाव से दोनों को हटाने पर राजी नहीं हुए. हालांकि सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस मीटिंग के बाद एक कमेटी का गठन करने की बात कही गई है और उसके बाद ही विचार विमर्श इन नामों को हटाए जाने को लेकर होगा. 

यह भी पढ़ेंः कैप्टन अमरिंदर सिंह बना सकते हैं नई पार्टी, कई कांग्रेस नेता संपर्क में

सूत्रों के अनुसार इस मीटिंग में मुख्यमंत्री ने यह जरूर नवजोत सिंह सिद्धू को आश्वासन दिया है कि आने वाले दिनों में जब और नियुक्तियां की जाएंगी तो नवजोत सिंह सिद्धू की अध्यक्ष पद के तौर पर उनकी सलाह ली जाएगी. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार यूपीएससी को कुछ पुलिस अधिकारियों के नाम भेजे गए हैं ताकि आने वाले दिनों में नए डीजीपी को पद पर तैनात किया जाए उसमें एक नाम वर्तमान में काम कर रहे डीजीपी सहोता का नाम भी है. नवजोत सिंह सिद्धू का इस्तीफा हाईकमान द्वारा स्वीकार न कर जाने के बावजूद नवजोत सिंह सिद्धू इसी पद पर बने रहेंगे. नवजोत सिंह सिद्धू को मनाने के लिए कोई कोई बड़ा नेता उनके आवास पर नही पहुंचा सिर्फ उनके खास व्यक्ति जिसमें दो कैबिनेट मिनिस्टर परगट सिंह और अमरिंदर सिंह वरिंग ही पटियाला गए. इस पूरे सिलसिले में सिर्फ एक मंत्री ने सिद्धू के पक्ष में अपना इस्तीफा दिया जबकि परगट सिंह सबसे खास नवजोत सिंह सिद्धू के माने जाते हैं उन्होंने इस्तीफा देने के बजाय नवजोत सिंह सिद्धू को मनाने की कोशिश की

यह भी पढ़ेंः तालिबान को सालेह की कड़ी चुनौती, बनाई अफगानिस्तान की निर्वासित सरकार

नवजोत सिंह सिद्धू चाहते हैं कि राणा गुरजीत सिंह को मंत्रिमंडल से हटाया जाए लेकिन इस पर भी मुख्यमंत्री के साथ हुई नवजोत सिंह सिद्धू की मुलाकात में कोई चर्चा नहीं हुई. कांग्रेस के आलाकमान नवजोत सिंह सिद्धू के उठाए गए इस कदम के बाद सिद्धू को ज्यादा तवज्जो नहीं मिल रही है और शायद यही वजह है कि इस पूरे विवाद पर नवजोत सिंह सिद्धू बैकफुट पर नजर आ रहे हैं. कांग्रेस आलाकमान ने जिस तरह से नकारा, उसने सिद्धू के तेवर ढीले कर दिए. नवजोत सिंह सिद्धू को 10 जनपथ का आशीर्वाद हासिल था जिसकी बदौलत वे न सिर्फ पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष बने बल्कि उन्होंने अमरिंदर सिंह को इस्तीफा देने के लिए भी मजबूर कर दिया.

चुप हो गए नवजोत सिंह सिद्धू
हालात की गंभीरता का अंदाजा लगा तो नवजोत सिंह सिद्धू मामला सुलझाने चंडीगढ़ पहुंच गए और सीएम चरणजीत सिंह चन्नी से मुलाकात की. चरणजीत सिंह चन्नी के साथ करीब दो घंटे तक चली मुलाकात के बाद सिद्धू वहां से निकले भी तो खामोशी से निकल लिए. जो सिद्धू बोलते नहीं थकते थे वे चुप हो गए. कमेंट्री के किंग सिद्धू को इस्तीफे का दांव उल्टा पड़ गया. जो सिद्धू ढाई महीने से पंजाब कांग्रेस पर हावी दिखाई दे रहे थे, वही सिद्धू आज पूरी तरह से बैकफुट पर आ गए हैं.

First Published : 01 Oct 2021, 11:02:06 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.