News Nation Logo

नासा (Nasa) ने खोज निकाला चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) का विक्रम लैंडर (Vikram Lander), फोटो जारी

अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा (National Aeronautics and Space Administration) ने इसरो (ISRO) के चंद्रयान-2 मिशन के विक्रम लैंडर को खोज निकाला है. नासा ने तस्वीर जारी करके इस बारे में जानकारी दी.

By : Yogendra Mishra | Updated on: 03 Dec 2019, 08:00:28 AM
नासा की सैटेलाइट के द्वारा ढूढ़ा गया विक्रम लैंडर का मलबा।

नासा की सैटेलाइट के द्वारा ढूढ़ा गया विक्रम लैंडर का मलबा। (Photo Credit: फाइल फोटो।)

नई दिल्ली:

अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा (National Aeronautics and Space Administration) ने चंद्रयान-2 मिशन के विक्रम लैंडर को खोज निकाला है. नासा ने तस्वीर जारी करके इस बारे में जानकारी दी. हालांकि नासा ने जो तस्वीर जारी की है उसके मुताबिक विक्रम लैंडर का मलबा मिला है. यानी क्रैश लैंडिंग होने के बाद विक्रम लैंडर पूरी तरह टूट गया.

यह भी पढ़ें- चिन्मयानंद केस : पीड़ित छात्रा को हाईकोर्ट से नहीं मिल पाई जमानत, जस्टिस अशोक ने खुद को केस से अलग किया

चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) के विक्रम लैंडर (Vikram Lander) की तस्वीरें नासा के LRO (Lunar Reconnaissance Orbiter) सैटेलाइट ने ली है. इस तस्वीर के मुताबिक 6 सितंबर को क्रैश हुआ विक्रम लैंडर कई हिस्सों में टूट गया. विक्रम लैंडर का मलबा भी कई दर्जन हिस्सों में बंट गया.

इस क्रैश लैंडिंग के असर का इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि विक्रम लैंडर के टुकड़े कई किलोमीटर तक फैल गए. इसके साथ ही चांद की मिट्टी भी कई किलोमीटर दूर तक उछल गई. एक बयान में, नासा ने कहा कि उसने 26 सितंबर को साइट की एक मोज़ेक छवि जारी की थी. जनता को लैंडर के संकेतों की खोज करने के लिए आमंत्रित किया.

यह भी पढ़ें- एटा में फर्जी मार्कशीट के सहारे नौकरी पाने वाले 116 शिक्षक बर्खास्त 

नासा ने बताया कि इसके बाद शनमुगा सुब्रमण्यन नाम के एक व्यक्ति ने मलबे की एक सकारात्मक पहचान के साथ LRO परियोजना से संपर्क किया. मुख्य दुर्घटनास्थल से लगभग 750 मीटर उत्तर पश्चिम में पहला टुकड़ा मिला. आपको बता दें कि सितंबर में चंद्रयान-2 मिशन में लैंडिंग के दौरान विक्रम लैंडर से भारतीय स्पेस एजेंसी इसरो का संपर्क टूट गया था.

यह भी पढ़ें- बीजेपी राज में सुरक्षित नहीं बेटियां, घर से निकलने में लगता है डर, बोले अखिलेश यादव

जिसके बाद विक्रम लैंडर की क्रैश लैंडिंग हो गई थी. हालांकि उसी समय इसरो ने विक्रम लैंडर ढूंढ निकाला था लेकिन उससे दोबारा संपर्क नहीं कर पाया. अगर यह मिशन कामयाब हो जाता तो अमेरिका, रूस और चीन के बाद भारत चौथा ऐसा देश होता जो चांद पर पहुंच जाता.

First Published : 03 Dec 2019, 06:18:12 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

Related Tags:

Nasa Chandrayaan 2