News Nation Logo

NTLF-2021: प्रधानमंत्री मोदी बोले- बंधनों में भविष्य की लीडरशिप विकसित नहीं हो सकती

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि एक ऐसा समय है कि दुनिया भारत की तरफ पहले से ज्यादा उम्मीद और भरोसे के साथ देख रही है.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 17 Feb 2021, 03:04:06 PM
pm modi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Photo Credit: ANI)

highlights

  • PM मोदी ने NTLF कार्यक्रम को किया संबोधित
  • कंपनियों के CEO's को दिया खास संदेश
  • सम्मेलन का आयोजन 17 से 19 फरवरी होगा

नई दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से नैस्कॉम टेक्नॉलॉजी एंड लीडरशिप फोरम (एनटीएलएफ) को संबोधित करते हुए कहा कि इस बार का यह कार्यक्रम बहुत विशेष है. एक ऐसा समय है कि दुनिया भारत की तरफ पहले से ज्यादा उम्मीद और भरोसे के साथ देख रही है. उन्होंने कहा कि कोरोना के दौरान हमारे ज्ञान-विज्ञान और हमारी टेक्नोलॉजी ने खुद को साबित किया है. आज हम दुनिया के अनेकों देशों को मेड इन इंडिया वैक्सीन दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि कोरोना काल में भारत ने जो सॉल्यूशन दिए वो पूरी दुनिया के प्रेरणा हैं.

यह भी पढ़ें : मोदी सरकार बैंकों के निजीकरण के लिए इन 2 कानूनों में कर सकती है संशोधन 

IT सेक्टर को बंधनों से बाहर निकालने के प्रयास

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार ये भलीभांति जानती है कि बंधनों में भविष्य की लीडरशिप विकसित नहीं हो सकती. इसलिए सरकार द्वारा टेक इंडस्ट्री को अनावश्यक रेगुलेशंस से, बंधनों से, बाहर निकालने का प्रयास किया जा रहा है. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, 'जब दुनिया भारत की तरफ नई उम्मीद और भरोसे के साथ देख रही है, सरकार को देश के नागरिकों पर, स्टाट्र्अप पर, इनोवेटर्स पर पूरा भरोसा है. इसी भरोसे के साथ सेल्फ सर्टिफिकेशन को प्रोत्साहित किया जा रहा है. बीते 6 वर्षों में आईटी इंटस्ट्री ने जो समाधान तैयार किए हैं, उन्हें हमने गवर्नेंस का अहम हिस्सा बनाया है.'

'चुनौती कैसी भी हो, खुद को कमजोर नहीं समझना चाहिए'

नरेंद्र मोदी ने कहा, 'हमारे यहां कहा गया है- न दैन्यं न पलायनम. यानी चुनौती कैसी भी हो, हमें खुद को कमजोर नहीं समझना चाहिए और न चुनौती से पलायन करना चाहिए. कोरोना के दौरान भारत के ज्ञान, विज्ञान ने न सिर्फ खुद को साबित किया है, बल्कि खुद को इवोल्व किया है. नया भारत, हर भारतवासी, प्रगति के लिए अधीर है. हमारी सरकार नए भारत के युवाओं की इस भावना को समझती है. 130 करोड़ से अधिक भारतवासियों की आकांक्षाएं हमें तेजी से आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती हैं.'

यह भी पढ़ें : Toolkit case: निकिता जैकब को बॉम्बे हाईकोर्ट से तीन सप्‍ताह की अंतरिम बेल 

'आईटी इंडस्ट्री भारत विकास का मजबूत पिलर'

मोदी ने कहा, 'जब हर सेक्टर कोरोना से प्रभावित था तब भी आपने करीब 2% की ग्रोथ हासिल की. जब डी ग्रोथ की आशंका जताई जा रही थी तब भी अगर भारत की आईटी इंडस्ट्री अपने रेवेन्यू में 4 बिलियन डॉलर और जोड़े तो ये सचमुच में प्रशंसनीय है. कोरोना के दौरान लाखों नए रोज़गार देकर आईटी इंडस्ट्री ने सिद्ध किया है कि वो भारत विकास का मजबूत पिलर क्यों है.'

स्टार्ट-अप फाउंडर्स के लिए खास संदेश

उन्होंने कहा, 'मेरा स्टार्ट-अप फाउंडर्स के लिए एक संदेश है. खुद को सिर्फ वैल्यूएशन और एक्जिट स्ट्रैटजीज तक ही सीमित मत करिए. सोचें कि आप ऐसी संस्थाएं कैसे बना सकते हैं जो इस सदी से आगे निकल जाएंगी. सोचें कि आप कैसे विश्व स्तर के उत्पाद बना सकते हैं जो वैश्विक बेंचमार्क को उत्कृष्टता पर स्थापित करेंगे.' नरेंद्र मोदी ने कहा, 'आज 90% से ज्यादा लोग अपने घरों से काम कर रहे हैं. कुछ लोग तो अपने गांव से काम कर रहे हैं. यह अपने आप में बड़ी ताकत बनने वाला है. 2 दिन पहले ही एक नीति में सुधार किया गया है. मैप और जियो स्पेशल डेटा को कंट्रोल से मुक्त कर इसे उद्योग के लिए खोला गया है.'

यह भी पढ़ें : आजाद भारत में पहली बार किसी महिला को होने जा रही है फांसी, चल रही तैयारी 

'डिजिटल ट्रांसजेक्शन से कालेधन में गिरावट' 

पीएम मोदी ने कहा, 'जितना डिजिटल ट्रांसजेक्शन ज़्यादा होता जा रहा है उतने ही काले धन के स्रोत कम हो रहे हैं. पारदर्शिता गुड गवर्नेंस की सबसे अहम शर्त होती है. यही बदलाव अब देश की शासन व्यवस्था पर हो रहा है. यही कारण कि हर सर्वे में भारत सरकार पर जनता का भरोसा मजबूत से मजबूत होता जा रहा है. आत्मनिर्भर भारत के बड़े सेंटर आज देश के टियर-2, टियर-3 शहर बनते जा रहे हैं. यही छोटे शहर आज IT बेस्ड तकनीक की डिमांड और ग्रोथ के बड़े सेंटर बनते जा रही हैं. देश के इन छोटे शहरों के युवा अद्भुत इनोवेटर के रूप में सामने आ रहे हैं.'

तीन दिन तक चलेगा NTLF सम्मेलन

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, 'आप ने सुनिश्चित किया है कि हमारी टेक्नोलॉजी ज्यादा से ज्यादा मेड इन इंडिया हो. अगर हमें भारतीय टेक्नोलॉजी में आगे बढ़ना है तो इसके लिए हमें अपनी प्रतिस्पर्धा के लिए नए मापदंड बनाने होंगे. हमें अपने आप से प्रतिस्पर्धा करनी होगी.' बता दें कि नास्कॉम टेक्नॉलॉजी एंड लीडरशिप फोरम के 29वें सम्मेलन का आयोजन 17 से 19 फरवरी तक किया जा रहा है. यह सम्मेलन नेशनल एसोसिएशन ऑफ सॉफ्टवेयर एंड सर्विस कंपनीज (नास्कॉम) का अग्रणी आयोजन है. इस वर्ष के आयोजन का विषय है, 'शेपिंग द फ्यूचर टूवर्डस ए बेटर नॉर्मल'.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 17 Feb 2021, 02:09:17 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.