News Nation Logo

नाना पटोले निर्विरोध रूप से चुने गए महाराष्ट्र विधानसभा के स्पीकर

नाना पटोले निर्विरोध रूप से चुने गए महाराष्ट्र विधानसभा के स्पीकर

By : Vikas Kumar | Updated on: 01 Dec 2019, 03:22:13 PM
नाना पटोले निर्वोरोध रुप से चुने गए महाराष्ट्र विधानसभा के स्पीकर

नाना पटोले निर्वोरोध रुप से चुने गए महाराष्ट्र विधानसभा के स्पीकर (Photo Credit: फाइल फोटो)

highlights

  • कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नाना पटोले निर्विवाद रुप से स्पीकर चुन लिए गए हैं.
  • स्पीकर के चुनाव के लिए बीजेपी (BJP) ने नाम वापस लिया.
  • बीजेपी ने संसदीय परंपरा और गरीमा का लाज रखते हुए ये कदम उठाए हैं.

मुंबई:

कांग्रेस (Congress) के वरिष्ठ नेता नाना पटोले (Nana Patole) निर्विवाद रुप से महाराष्ट्र असेंबली के स्पीकर चुन लिए गए हैं. स्पीकर के चुनाव (Speaker Election) के लिए बीजेपी (BJP) ने नाम वापस लिया. स्पीकर को लेकर सर्वदलीय बैठक में फैसला लिया गया है. BJP ने अपना स्पीकर पद पर किया नामांकन वापस ले लिया जिसके बाद कांग्रेस के नाना पटोले निर्विरोध रूप से स्पीकर चुन लिए गए. बता दें कि स्पीकर के लिए बीजेपी की ओर से किशन कथोरे (Kisan Kathore) का नाम आगे किया है. 

दरअसल बीजेपी ने संसदीय परंपरा और गरीमा का लाज रखते हुए ये कदम उठाए हैं. बता दें कि 30 नवंबर को हुए फ्लोर टेस्ट में महा विकास अघाड़ी के सीएम उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र के असेंबली में बहुमत हासिल कर लिया था. 

यह भी पढ़ें: महाराष्ट्र: विधानसभा स्पीकर के चुनाव के बाद अब मुक्त होंगे होटल में रह रहे विधायक

एनसीपी नेता छगन भुजबल ने कहा कि इससे पहले, विपक्ष (बीजेपी) ने विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए भी पर्चा भरा था, लेकिन अन्य विधायकों के अनुरोध और विधानसभा की गरिमा को बनाए रखने के लिए, उन्होंने नाम वापस ले लिया। अब अध्यक्ष का चुनाव निर्विरोध होना चाहिए.

उद्धव सरकार के पक्ष में कुल 169 विधायकों ने वोट किया जबकि 4 विधायको ने वोटिंग नहीं की है. बता दें कि बीजेपी (BJP) ने फ्लोर टेस्ट (Floor Test) से पहले ही सदन की कार्रवाई का बहिष्कार (Walkout) किया है.

यह भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर: अनुच्छेद 370 के खत्म होने का खामियाजा भुगत रहे छात्र, स्टूडेंट एसोसिएशन का दावा

महा विकास अघाड़ी (Maha Vikas Agadhi) ओर से कांग्रेस के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण (Ashok Chavan) ने सदन के पटल पर विश्वास प्रस्ताव रखा था. प्रोटेम स्पीकर ने हेड काउंट करवाया. एक एक करके कुल 169 विधायकों ने सरकार के पक्ष में वोट किया लेकिन कुल 4 विधायक ऐसे रहे जिन्होंने वोटिंग नहीं की. जिन चार विधायकों ने वोटिंग नहीं की है उनमें 1 MNS, 2 MIM और 1CPIM के विधायक हैं.

यह भी पढ़ें: प्रियंका गांधी ने छात्रा की मौत की जांच के लिए सीएम योगी को लिखा पत्र

फ्लोर टेस्ट के बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि वो छत्रपति शिवाजी और अपने माता पिता के नाम पर शपथ लेते हैं कि ये कार्रवाई असंवैधानिक नहीं है. अगर ये कार्रवाई असंवैधानिक है तो वो इसी काम को दुबारा भी कर सकते हैं.

First Published : 01 Dec 2019, 10:11:26 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.