News Nation Logo
Breaking
Banner

पद्मश्री की खुशी के साथ जामिया ने मनाया 73 वां गणतंत्र

पद्मश्री की खुशी के साथ जामिया ने मनाया 73 वां गणतंत्र

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 26 Jan 2022, 08:00:01 PM
Najma Akhtar,

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:   जामिया मिलिया इस्लामिया (जेएमआई) की कुलपति प्रो नजमा अख्तर ने 73वें गणतंत्र दिवस समारोह के अवसर पर विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय ध्वज फहराया। भारत सरकार ने प्रोफेसर अख्तर को पद्मश्री से सम्मानित करने का फैसला किया है।

इस उपलब्धि पर उत्साहित जामिया की कुलपति ने कहा, मैं यह सम्मान पाकर सम्मानित और विनम्र महसूस कर रही हूं। मैं इस अवसर पर भारत सरकार को धन्यवाद देती हूं, जिन्होंने मुझ पर विश्वास किया और मुझे पद्मश्री सम्मान देकर और जिम्मेदारी का एहसास करवाया, जिसका मतलब है कि मुझे भविष्य में और भी कड़ी मेहनत करनी होगी। मैं अपने परिवार, मित्रों और सहकर्मियों को भी धन्यवाद देती हूं जो हर मुश्किल समय में मेरे साथ खड़े रहे। मैं इस सम्मान के लिए अपने अन्य प्राप्तकर्ताओं को भी हार्दिक बधाई देती हूं।

गौरतलब है है जामिया मिलिया इस्लामिया को राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद (नैक) ने वर्ष 2021 में ए प्लस प्लस ग्रेडिंग प्रदान की गई है। यह किसी संस्थान को दिया गया उच्चतम ग्रेड है। इससे पहले 2015 में नैक के पहले चक्र में जामिया विश्वविद्यालय को ए रैंक दिया गया था।

प्रतिष्ठित नैक द्वारा एक कड़े मूल्यांकन पद्धति का पालन करके अनुसंधान, बुनियादी ढांचे, सीखने के संसाधनों, मूल्यांकन, नवाचार और शासन सहित विभिन्न मापदंडों के आधार पर किसी संस्थान को दिया गया उच्चतम ग्रेड है।

प्रो. अख्तर ने आगे कहा कि पिछले दो साल से पूरी दुनिया कोरोना वायरस और इससे जुड़े विभिन्न मुद्दों से जूझ रही है। इसने मानव जीवन के हर पहलू को प्रभावित किया है। लेकिन तमाम समस्याओं के बावजूद इस संकट काल में विश्वविद्यालय ने कई उपलब्धियां हासिल की हैं।

गौरतलब है कि जामिया देश का पहला विश्वविद्यालय है जिसमें कई महिला डीन एवं विभागाध्यक्ष हैं, इनके अलावा एक ही समय में कुलाधिपति, कुलपति, सम-कुलपति और वित्त अधिकारी भी महिलाएं ही हैं।

साहित्य और शिक्षा के क्षेत्र में विशिष्ट सेवाओं के लिए देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों में से एक, पद्म श्री से सम्मानित होने पर कुलपति को सभागार में उपस्थित लोगों ने तालियां बजाकर मुबारकबाद दी।

जामिया के विभिन्न स्कूलों के विद्यार्धियों ने सभागार में सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। संविधान सभा के नाटकीय प्रतिनिधित्व के माध्यम से, छात्रों ने भारत के संविधान की ड्राफ्टिंग की व्याख्या की। छोटी बच्चियों ने राष्ट्रीय बालिका दिवस के उपलक्ष्य में, भारत की पहली उपलब्धि हासिल करने वाली महिलाओं को समर्पित एक फैंसी ड्रेस कार्यक्रम प्रस्तुत किया। देशभक्ति समूह गीत और भाषण इस कार्यक्रम के अन्य मुख्य आकर्षण थे। कुलपति और विश्वविद्यालय के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा छात्र-छात्राओं को प्रमाण पत्र प्रदान किए गए।

गणतंत्र दिवस के अवसर पर विश्वविद्यालय के छात्रों और कर्मचारियों को बधाई देते हुए उन्होंने कहा, ह्लहमारा देश हमें संयम, गरिमा, अपनेपन और मानवता का संदेश देता है। मित्रता, परोपकार, मानवीय प्रेम, उदारता जैसे गुण भारत को पूरी दुनिया को अपना बनाने में मदद करते हैं। इन्हीं गुणों के कारण हमारा देश विश्व पटल पर अपनी मर्यादा बनाए रखने में सक्षम है। देश और मानव समुदाय के स्वतंत्र विकास में योगदान देना हम सबका दायित्व है। हम अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते रहें। मानव मित्रता और मानव सेवा ही हमारी संस्कृति है। यही संस्कृति और मानवीय भावना जामिया मिलिया इस्लामिया की अनूठी पहचान है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 26 Jan 2022, 08:00:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.