News Nation Logo
Banner

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम: ब्रजेश ठाकुर समेत सभी आरोपी POCSO कोर्ट में पेश, बेउर जेल प्रशासन को कारण बताओ नोटिस

मुजफ्फरपुर आश्रय गृहकांड के सभी आरोपियों को स्पेशल पोक्सो कोर्ट में पेश किया गया. नाबालिगों के साथ यौन शोषण मामले में ब्रजेश ठाकुर मुख्य आरोपी है.

News Nation Bureau | Edited By : Ruchika Sharma | Updated on: 17 Jan 2019, 05:49:45 PM
मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर (फाइल फोटो)

मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

मुजफ्फरपुर आश्रय गृह कांड के सभी आरोपियों को स्पेशल पोक्सो कोर्ट में पेश किया गया. नाबालिगों के साथ यौन शोषण मामले में ब्रजेश ठाकुर मुख्य आरोपी है. मामले में आरोपी महिलाओं को पेश करने में विफल रहने के लिए कोर्ट ने बेउर जेल प्रशासन को कारण बताओ नोटिस जारी किया है. पिछले महीने सीबीआई ने सभी आरोपियों के खिलाफ विशेष POCSO कोर्ट में चार्जशीट दायर की थी. बिहार के मुजफ्फरपुर शेल्टर होम में लड़कियों के साथ दरिंदगी के मामले ने पूरे देश को झकझोर दिया था. सीबीआई ने मुख्य आरोपी बृजेश ठाकुर सहित 20 आरोपियों के खिलाफ पॉक्सो कोर्ट में चार्जशीट दायर की थी, जिसमें गंभीर आरोप लगाए थे. चार्जशीट में कई शर्मनाक करतूतों का खुलासा किया था.

चार्जशीट में यह कहा गया है कि बच्चियों को कुर्सी पर बांधकर ब्लू फिल्म दिखाया जाता था और फिर दरिंदगी की हदें पार की जाती थी. उन्हें नशे की दवा देकर हवस का शिकार बनाया जाता था. इतना ही नहीं बच्चियों को शेल्टरहोम के बाहर भी भेजा जाता था. 33 किशोरियों समेत 102 लोगों के बयान के आधार पर सीबीआई ने चार्जशीट बनाया है. पुलिस चार्जशीट के आधार पर ही सीबीआई चार्जशीट भी कोर्ट में दाखिल की गई है.

शेल्टर होम में 30 से ज्यादा नाबालिग लड़कियों के साथ यें शोषण किया गया था. इसके साथ ही नगर निगम ने शेल्टर होम को गिराने की प्रक्रिया शुरू की, जिसमें सुप्रीम कोर्ट ने दखल देने से इंकार कर दिया.

ब्रजेश छोटा दैनिक अखबार 'प्रात:कमल' भी निकालता था. इस अखबार के लिए उसे नीतीश सरकार के करोड़ों के विज्ञापन मिला करते थे, जो उसकी आय का अतिरिक्त स्रोत था. इसी अखबार की ओट में वह सफेदपोश बना हुआ था. इस कांड से जुड़े एक मामले में नीतीश सरकार की मंत्री रहीं मंजू वर्मा जेल में हैं.

मंजू वर्मा के पति और मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के बीच काफी अच्छे सबंधों का मामला सामने आया था जिसके बाद मंजू वर्मा को समाज कल्याण मंत्री के पद से इस्तीफ़ा देना पड़ा था. इस मामले में अदालत के आदेश के बाद उनकी संपत्ति की कुर्की-जब्ती की भी कार्रवाई चल रही थी. 29 अक्टूबर को मंजू वर्मा के पति चंद्रशेखर ने आत्मसमर्पण किया था. फिलाहल वह भी जेल में बंद है.

और पढ़ें: अश्लील गानों पर डांस, नशा देकर नींद में रेप...CBI चार्जशीट में सामने आई मुजफ्फरपुर शेल्टर होम की हैवानियत

क्या है मामला?

बता दें कि मुंबई स्थित टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ़ सोशल साइंस की एक रिपोर्ट में इस मामले का खुलासा हुआ था. इंस्टिट्यूट ने सूबे की सरकार को सामाजिक अंकेक्षण रिपोर्ट सौंपी थी. रिपोर्ट में बच्चियों के साथ मुजफरपुर बालिका आश्रय गृह में लड़कियों के साथ यौन शोषण की घटना सामने आई थी. बच्चियों की चिकित्सकीय जांच के बाद 34 लड़कियों के साथ दुष्कर्म की पुष्टि हुई थी.

First Published : 17 Jan 2019, 05:45:31 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×