News Nation Logo
NCB के DDG ज्ञानेश्वर सिंह समेत NCB की 5 सदस्यीय टीम दिल्ली से मुंबई पहुंची NCB की टीम प्रभाकर के भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच करेगी प्रभाकर मुंबई के क्रूज़ ड्रग्स मामले में एक गवाह है सभी गवाहों के कॉल डिटेल की जांच हो: नवाब मलिक सीएम तीर्थयात्रा योजना में अयोध्या शामिल: अरविंद केजरीवाल, सीएम दिल्ली दिल्ली के लोग रामलला के दर्शन कर सकेंगे: अरविंद केजरीवाल, सीएम दिल्ली कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किया नई पार्टी बनाने का ऐलान, कहा- सभी 117 सीटों पर लड़ेंगे चुनाव पेगासस जासूसी मामले की जांच करेगी एक्सपर्ट कमेटी, सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश कोविड के चलते दक्षिण 24 परगना जिले के सोनारपुर इलाके में 3 दिन का लॉकडाउन बॉम्बे हाईकोर्ट में नवाब मलिक के खिलाफ PIL दायर, ड्रग्स केस में टिप्पणी से रोकने की मांग पंजाब में दिवाली पर 2 घंटे पटाखे चलाने की इजाजत, रात 8 से 10 बजे तक कर सकेंगे आतिशबाजी अक्टूबर महीने में 20वीं बार महंगा हुआ पेट्रोल और डीजल दिल्ली में पेट्रोल 35 पैसे और डीजल 35 पैसे प्रति लीटर महंगा हुआ पीएम मोदी आज ईस्ट एशिया समिट को संबोधित करेंगे, वर्चुअली होंगे शामिल

Central Vista: दायरे में आ रही मस्जिदों पर दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई 29 को

कुल 6 इबादत स्थल हैं, जो 100 साल से भी ज्यादा पुराने हैं. इनके भविष्य को लेकर ही याचिका दाखिल की गई है.

Written By : नीतू कुमारी | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 24 Sep 2021, 12:59:54 PM
Central Vista

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के दायरे में कई मस्जिदें भी आ रहीं (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के दायरे में कई मस्जिदें भी आ रही
  • 100 साल से भी ज्यादा पुराने हैं कुल 6 इबादत स्थल
  • मस्जिदों एवं मजार के भविष्य पर स्थिति साफ करने की मांग

नई दिल्ली:

नए संसद भवन, पीएम आवास, उपराष्ट्रपति भवन समेत कई इमारतों के निर्माण के लिए चल रहे सेंट्रल विस्टा (Central Vista) प्रोजेक्ट के दायरे में कई मस्जिदें भी आ रही हैं. ऐसे में उनका भविष्य क्या होगा और सरकार ने उनके बारे में क्या प्लान बनाया है. इसे लेकर दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) में अर्जी दाखिल की गई है, जिस पर अगली सुनवाई अब 29 सितंबर को सुनवाई होने वाली है. इनमें से एक मस्जिद उपराष्ट्रपति भवन में स्थित है. कुल 6 इबादत स्थल हैं, जो 100 साल से भी ज्यादा पुराने हैं. इनके भविष्य को लेकर ही याचिका दाखिल की गई है. न्यायमूर्ति संजीव सचदेव ने दिल्ली वक्फ बोर्ड की याचिका पर सुनवाई करते हुए सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पर रोक लगाने की किसी भी संभावना पर विराम लगाते हुए कहा कि इस संबंध में उच्चतम न्यायालय ने पहले ही स्थिति साफ कर दी थी.

इन मस्जिदों को लेकर दायर की गई है याचिका
न्यायालय ने कहा था कि सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट को रोका नहीं जा सकता है. प्रोजेक्ट कार्य पूरा करने की अवधि पहले से तय है. न्यायमूर्ति सचदेव ने कहा कि यह सर्वविदित है कि याचिका में जिन मस्जिदों और मजार के बारे में स्थिति स्पष्ट करने की मांग की गई है, वे काफी पुरानी हैं और परियोजना में निश्चित रूप से इसके बारे में कोई उचित व्यवस्था की गई होगी. दिल्ली वक्फ बोर्ड ने मस्जिद उप राष्ट्रपति भवन के अलावा मस्जिद ज़ाब्ता गंज, मस्जिद सुनहरी बाग, जामा मस्जिद क्रॉस रोड, मस्जिद कृषि भवन और मज़ार सुनहरी बाग को लेकर अदालत में याचिका दायर की है.

यह भी पढ़ेंः IAF का एयरबस से हुआ 22 हजार करोड़ का करार, टाटा ग्रुप बनाएगा C-295 एयरक्राफ्ट्स

सरकार से स्थिति स्पष्ट करने की मांग
याचिका में लुटियन क्षेत्र की इन मस्जिदों एवं मजार के भविष्य को लेकर आशंका व्यक्त करते हुए सरकार से स्थिति स्पष्ट करने की मांग की गई है. यह स्पष्ट करने को कहा गया है कि प्रोजेक्ट में मस्जिदों एवं मजार के बारे में क्या योजना है. सेंट्रल विस्टा परियजोना के तहत 2024 तक काम को पूरा करने का लक्ष्य तय किया गया है. इसके तहत सेंट्रल एडमिनिस्ट्रेटिव एरिया में बड़ी तब्दीली और सुधार किए जा रहे हैं. कोरोना काल में इस प्रोजेक्ट में तेजी को लेकर सरकार की आलोचना भी की गई थी. हाल ही में इस प्रोजेक्ट के तहत बने रक्षा कार्यालयों का उद्घाटन करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने इसका जिक्र भी किया था.

First Published : 24 Sep 2021, 12:57:35 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.