News Nation Logo

मोदी सरकार ने कश्मीर पर सौदेबाजी करनी चाही थी : जाकिर नाईक का सनसनीखेज आरोप

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने का समर्थन करने के एवज में केंद्र सरकार ने लगाए गए तमाम आरोप हटाने का आश्वासन दिया था.

News State | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 11 Jan 2020, 11:45:12 AM
जाकिर नाईक के प्रत्यर्पण की बाट जोह रहा है भारत.

जाकिर नाईक के प्रत्यर्पण की बाट जोह रहा है भारत. (Photo Credit: न्यूज स्टेट)

highlights

  • कश्मीर पर समर्थन के एवज में आरोप वापस लेने का दिया था आश्वासन.
  • भारत के तमाम शीर्ष मुस्लिम नेताओं को धमकी या सौदेबाजी की गई थी.
  • इसके बाद वह भारत में आकर रह सकता है.

नई दिल्ली:

मलेशिया में भगोड़े की जिंदगी जी रहे भारत में वांछित विवादास्पद धर्म गुरु जाकिर नाईक ने कश्मीर को लेकर एक बेहद उकसावेपूर्ण बयान दिया है. जाकिर नाईक ने मोदी सरकार पर कथित तौर पर सौदेबाजी का आरोप लगाते हुए कहा है कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने का समर्थन करने के एवज में केंद्र सरकार ने लगाए गए तमाम आरोप हटाने का आश्वासन दिया था. जाकिर नाईक का कहना है कि मोदी सरकार के नुमाइंदे ने यह भी कहा था कि इसके बाद वह भारत में आकर रह सकता है.

यह भी पढ़ेंः अमेरिका ने भी 1988 में गलती से मारा था ईरान का विमान, ऐसी कई गलतियां कर चुका है यूएस

अन्य मुस्लिम नेताओं को भी किया गया ब्लैकमेल
एक सोशल मीडिया पोस्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए जाकिर नाईक ने यह सनसनीखेज आरोप लगाया है. शेख यासिर कदी की पोस्ट का जवाब देते हुए जाकिर ने लिखा कि सिर्फ उससे ही नहीं भारत के तमाम शीर्ष मुस्लिम नेताओं को इसी तरह की धमकी या सौदेबाजी की गई थी. सरकार का मकसद कश्मीर पर उनके समेत कथित तौर पर अन्य मुस्लिम नेताओं से समर्थन जुटाना था. इस तरह की पेशबंदी उन नेताओं से ज्यादा की गई थी, जिनका अन्य मुस्लिम देशों में अच्छा-खासा प्रभाव है.

यह भी पढ़ेंः ईरानी सेना ने अब माना, मानवीय चूक से उक्रेन का विमान मार गिराया; सवार थे 176 यात्री

मलेशिया ने लगाई भाषण देने पर रोक
गौरतलब है कि मलेशिया में छिप कर रहे रहे जाकिर नाईक के प्रत्यर्पण को लेकर मोदी सरकार खासा कूटनीतिक दबाव बनाए हुए हैं. इन्हीं प्रयासों के तहत मलेशिया के गृहमंत्री एम यासीन को अगस्त में कहना पड़ा था कि नाईक कानून से ऊपर नहीं है. इससे पहले मलेशिया की सरकार ने जाकिर नाइक के भाषण देने पर रोक लगा दी थी. मलेशियाई अधिकारियों ने जाकिर नाइक को हिंदुओं एवं चीनियों के खिलाफ कथित नस्ली टिप्पणी करने के मामले में तलब भी किया था. इससे कुछ घंटे पहले प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने विवादित भारतीय इस्लामी धर्म उपदेशक को कहा था कि उसे देश में राजनीतिक गतिविधियों में शामिल होने की इजाजत नहीं है.

First Published : 11 Jan 2020, 11:45:12 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो