News Nation Logo
Banner

वॉर मेमोरियल की लौ में अमर जवान ज्योति का विलय, देखें Video

अब इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति नहीं दिखाई देगी. अमर जवान ज्योति का वॉर मेमोरिलय की लौ में विलय कर दिया गया है.

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 21 Jan 2022, 04:38:44 PM
Amar Jawan Jyoti

वॉर मेमोरियल की लौ में अमर जवान ज्योति का विलय (Photo Credit: ANI)

highlights

  • अब इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति नहीं दिखाई देगी
  • 1971 के युद्ध के 50 साल पूरे होने पर लौ का किया गया विलय
  • राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में शहीद हुए करीब 26000 जवानों के नाम अंकित हैं

नई दिल्ली:  

अब इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति नहीं दिखाई देगी. वॉर मेमोरिलय की लौ में अमर जवान ज्योति का विलय कर दिया गया है. पाकिस्तान के साथ 1971 के युद्ध के 50 साल पूरे होने के मौके पर भारत ने इस अमर जवान ज्योति को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर शिफ्ट करने का फैसला लिया है. अमर जवान ज्योति को जलने के साथ इंडिया गेट से राष्ट्रीय वॉर मेमोरियल में विलय कर दिया गया है. इस दौरान मशाल की लौ को बुझने नहीं दिया गया है.

यह भी पढ़ें : 10 लाख के इनामी नक्सली कमांडर महाराज प्रमाणिक ने एके-47 के साथ झारखंड पुलिस के समक्ष किया सरेंडर

राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में अभी तक के युद्ध और सभी सैन्य ऑपरेशन्स में शहीद हुए करीब 26000 जवानों के नाम अंकित किए गए हैं. आपको बता दें कि इंडिया गेट पर 1972 में अमर जवान ज्योति का निर्माण किया गया था. इसका निर्माण 1971 में हुए भारत-पाक युद्ध में सर्वोच्च बलिदान देने वाले सैनिकों की याद में किया गया था. इस वॉर के 50 साल पूरे होने पर इसे राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर शिफ्ट कर दिया गया है. 

राष्ट्रीय युद्ध स्मारक के अस्तित्व में आने के बाद दो साल पहले अमर जवान ज्योति के अस्तित्व पर सवाल उठाया गया था. यह इसलिए, क्योंकि सवाल उठाए जा रहे थे कि अब जब देश के शहीदों के लिए नेशनल वॉर मेमोरियल बन गया है, तो फिर अमर जवान ज्योति पर क्यों अलग से ज्योति जलाई जाती रहे. हालांकि, पहले भारतीय सेना ने कहा था कि अमर जवान ज्योति जारी रहेगी, क्योंकि यह देश के इतिहास का एक अविभाज्य हिस्सा है.

यह भी पढ़ें : कंगना रनौत के पोस्ट पर सेंसर की मांग वाली याचिका का Supreme Court ने किया निपटारा

तीनों सेनाओं के प्रमुख और आने वाले प्रतिनिधि अमर जवान ज्योति पर जाकर अपना सिर झुकाते थे और शहीदों का सम्मान करते रहे हैं. गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस जैसे सभी महत्वपूर्ण दिनों में भी तीनों सेनाओं के प्रमुख अमर जवान ज्योति पर उपस्थिति दर्ज कराते रहे हैं.

First Published : 21 Jan 2022, 03:50:11 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.