News Nation Logo

भगवान राम पर अपने विवादित बयान के बाद मांझी ने भाजपा पर साधा निशाना

भगवान राम पर अपने विवादित बयान के बाद मांझी ने भाजपा पर साधा निशाना

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 23 Sep 2021, 03:45:01 PM
Manjhi hit

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

पटना: भगवान राम पर अपने विवादित बयान को लेकर आलोचनाओं का सामना कर रहे बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने गुरुवार को पलटवार करते हुए कहा कि उन्हें भी मंदिरों में दलितों के प्रवेश के बारे में बोलना चाहिए।

मांझी कर्नाटक की उस घटना का जिक्र कर रहे थे जहां मंदिर प्रशासन ने एक दलित पिता पर 23,000 रुपये का जुर्माना लगाया, जो मंदिर के द्वार के बाहर पूजा कर रहा था, लेकिन उसका दो साल का बेटा 4 सितंबर को इसमें प्रवेश कर गया।

मांझी ने कहा, धार्मिक माफिया ऐसी घटना के बारे में कुछ नहीं कहेंगे। वे इसके बारे में चुप हो जाते हैं। कोई भी दलित समुदाय के मंदिरों में प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने पर नहीं बोलेगा। वे दलित लोगों को मंदिरों में प्रवेश करना या धार्मिक किताबें पढ़ना पसंद नहीं करते हैं।

मांझी ने ट्वीट में आगे कहा, मैं जो कुछ भी कह रहा हूं.. सदियों के दर्द का नतीजा है.हमने अब तक अपना गुस्सा जाहिर नहीं किया है।

मांझी ने मंगलवार को कहा कि उन्हें बिहार के स्कूली पाठ्यक्रम में रामायण को शामिल करने से कोई आपत्ति नहीं है। लेकिन उन्होंने यह कहकर विवाद खड़ा कर दिया कि रामायण की कहानी सच्चाई पर आधारित नहीं है।

मांझी ने कहा, रामायण में कई अच्छी चीजें हैं जिनका उपयोग हमारे बच्चों और महिलाओं को शिक्षित करने के लिए किया जा सकता है। हमारे बड़ों और महिलाओं का सम्मान करना इस पुस्तक की विशेषताएं हैं। मुझे रामायण को पाठ्यक्रम में शामिल करने में कोई आपत्ति नहीं है लेकिन मैं व्यक्तिगत रूप से मानता हूं कि यह एक काल्पनिक पुस्तक है और मुझे नहीं लगता कि राम एक महान व्यक्ति थे और वह जीवित थे।

उनके बयान के बाद, भाजपा विधायक हरिभूषण ठाकुर ने कहा, मांझी ने राम के अस्तित्व पर सवालिया निशान लगाया। मैं मांझी से सवाल पूछना चाहता हूं कि उनके माता-पिता ने उनका नाम जीतन राम मांझी क्यों रखा। वह मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम के नाम पर घटिया राजनीति कर रहे हैं।

भाजपा के ओबीसी विंग के राष्ट्रीय महासचिव निखिल आनंद ने कहा, जीतन राम मांझी बिहार के एक वरिष्ठ नेता हैं और उन्हें ऐसी किसी भी चीज पर बयान देने से बचना चाहिए, जिससे लोगों के ध्रुवीकरण की संभावना हो।

रामायण को मध्य प्रदेश के स्कूलों के पाठ्यक्रम में शामिल किया गया है और बिहार में इसे यहां भी पाठ्यक्रम में शामिल करने की चर्चा चल रही है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 23 Sep 2021, 03:45:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.