News Nation Logo
Banner

मोदी सरकार की बड़ी कार्रवाई, इनकम टैक्स विभाग के 21 अफसरों को जबरन रिटायर किया

इस साल अब तक 85 अधिकारियों को जबरन रिटायर किया जा चुका है. केंद्र सरकार ने ऐसे 21 अफसरों को जबरन रिटायर (Compulsory Retirement) करने का फैसला लिया है.

By : Drigraj Madheshia | Updated on: 26 Nov 2019, 06:20:26 PM
भ्रष्‍टाचार के खिलाफ मोदी सरकार की बड़ी कार्रवाई

नई दिल्‍ली:

भ्रष्‍टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस नीति पर चलते हुए मोदी सरकार ने भ्रष्टाचार के आरोप में फंसे अफसरों पर कड़ी कार्वाई की है.  इस साल अब तक 85 अधिकारियों को जबरन रिटायर किया जा चुका है. केंद्र सरकार ने ऐसे 21 अफसरों को जबरन रिटायर (Compulsory Retirement) करने का फैसला लिया है. ये सभी अफसर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के हैं. इस साल जून के बाद यह पांचवां मौका है जब सरकार ने भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उन्हें नौकरी  से निकाला है. 

सरकार की इस बड़ी कार्रवाई में जबरन रिटायर किए गए सभी अधिकारी ग्रुप बी ग्रेड के हैं. इस साल अब तक 85 अधिकारियों को जबरन रिटायर किया गया जा चुका है जिसमें 64 टैक्स अधिकारी हैं.सरकार ने यह कार्वाई सेंट्रल सिविल सर्विसेज 1972 के नियम 56 (J) के तहत की है. इसके मुताबिक 30 साल तक सेवा पूरी कर चुके या 50 साल की उम्र पर पहुंच चुके अधिकारियों की सेवा सरकार समाप्त कर सकती है.

यह भी पढ़ेंः पाकिस्‍तानः PM इमरान खान की बढ़ी मुश्‍किलें, इस मामले में कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा

सरकार ऐसे लोगों को नोटिस और तीन महीने के वेतन-भत्ते देकर घर भेज सकती है. ऐसे अधिकारियों के काम की हर तीसरे महीने समीक्षा की जाती है और अगर उन पर भ्रष्टाचार या अक्षमता/अनियमितता के आरोप पाए जाते हैं तो जबरन रिटायरमेंट दिया जा सकता है.

यह भी पढ़ेंः महाराष्‍ट्रः चाचा शरद पवार के पावर से चित हुआ भतीजा, अकड़ पड़ गई ढीली

सरकार के पास यह विकल्प दशकों से मौजूद हैं, लेकिन अब तक गंभीरता से इस पर कारवाई नहीं की जाती थी. मोदी सरकार में भी साल 2014, 2015 और 2017 में इस नियम पर गंभीरता से अमल करने के आदेश दिए गए, इस बार सरकार अब कमर कसकर इसे लागू कराने के प्रयास में जुटी है.

यह भी पढ़ेंः फेफड़े का कैंसरः आपके घर की दीवारें भी हैं जिम्‍मेदार, तुरंत करें ये उपाय

इस नियम में अब तक ग्रुप ए और बी के अधिकारी ही शामिल थे, अब ग्रुप सी के अधिकारी भी इसमें आ गए हैं. केंद्र सरकार ने सभी केंद्रीय संस्थानों से इस बारे में मासिक रिपोर्ट मंगाना शुरू कर दिया है. सरकार के जरिए ऐसे अधिकारियों को अनिवार्य रिटायरमेंट दिया जा सकता है. ऐसा करने के पीछे सरकार का मकसद नॉन-परफार्मिंग सरकारी सेवक को रिटायर करना होता है.

First Published : 26 Nov 2019, 06:18:36 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

Related Tags:

Modi Government Curruption