News Nation Logo
Banner

सरदार वल्लभ भाई पटेल की मूर्ति के साथ एकता का पिंड तैयार हुआ: पीएम मोदी

इस मूर्ति की उंचाई 182 नीटर बतायी जा रही है और संभवत: विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा होगी. ताज़ा जानकारी के मुताबिक सुबह 10 बजे प्रतिमा का अनावरण होगा.

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Kumar | Updated on: 31 Oct 2018, 03:28:21 PM

नई दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लौहपुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल के 143वीं जयंती पर आज (बुधवार) देश को दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा स्टैच्यू ऑफ यूनिटी समर्पित किया. इस मूर्ति की उंचाई 182 मीटर है और यह विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा है. यह प्रतिमा नर्मदा नदी पर सरदार सरोवर बांध से 3.5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. इस मूर्ति के अनावरण के लिए पीएम मोदी मंगलवार को ही गुजरात पहुंच गए थे.

गुजरात के राज्यपाल ओपी कोहली, मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, गृह राज्यमंत्री प्रदीप सिंह जडेजा और मुख्य सचिव जे एन सिंह ने अहमदाबाद हवाई अड्डे पर प्रधानमंत्री मोदी की अगवानी की.

प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि पीएम मोदी प्रतिमा का अनावरण करने के लिए बुधवार सुबह नर्मदा जिले के सरदार सरोवर बांध के पास केवडिया कॉलोनी जाएंगे. मोदी ने यहां पहुंचने से कुछ घंटे पहले ट्वीट किया, "कल, सरदार पटेल की जयन्ती के मौके पर, 'स्टेच्यू ऑफ यूनिटी' राष्ट्र को समर्पित की जाएगी. नर्मदा के तट पर स्थित यह प्रतिमा महान सरदार पटेल को सच्ची श्रद्धांजलि है."

मूर्ति बनाने वाली कंपनी एलएंडटी के मुख्य कार्यपालक अधिकारी एवं प्रबंध निदेशक एस एन सुब्रमण्यन ने कहा, "स्टैच्यू आफ यूनिटी जहां राष्ट्रीय गौरव और एकता की प्रतीक है वहीं यह भारत के इंजीनियरिंग कौशल तथा परियोजना प्रबंधन क्षमताओं का सम्मान भी है."

गुजरात सरकार को उम्मीद है कि इस विशालकाय मूर्ति को देखने के लिए देश ही नहीं विदेशों के पर्यटक भी आएंगे. 

LIVE TV NN

NS

NS

हमारी जिम्मेदारी है कि हम देश को बांटने की हर तरह की कोशिश का पुरजोर जवाब दें. इसलिए हमें हर तरह से सतर्क रहना है. समाज के तौर पर एकजुट रहना है- पीएम मोदी

आज देश के लिए सोचने वाले युवाओं की शक्ति हमारे पास है. देश के विकास के लिए, यही एक रास्ता है, जिसको लेकर हमें आगे बढ़ना है. देश की एकता, अखंडता और सार्वभौमिकता को बनाए रखना, एक ऐसा दायित्व है, जो सरदार साहब हमें देकर गए हैं - पीएम मोदी

देश के हर गांव को सड़क से जोड़ने, डिजिटल कनेक्टिविटी से जोड़ने का काम भी तेज गति से किया जा रहा है. देश में आज हर घर में गैस कनेक्शन पहुंचाने के प्रयास के साथ ही देश के हर घर में शौचालय की सुविधा पहुंचाने पर काम हो रहा है- पीएम मोदी

कई बार तो मैं हैरान रह जाता हूं, जब देश में ही कुछ लोग हमारी इस मुहिम को राजनीति से जोड़कर देखते हैं. सरदार पटेल जैसे महापुरुषों, देश के सपूतों की प्रशंसा करने के लिए भी हमारी आलोचना होने लगती है. ऐसा अनुभव कराया जाता है मानो हमने बहुत बड़ा अपराध कर दिया है- पीएम मोदी

देश के हर गांव को सड़क से जोड़ने, डिजिटल कनेक्टिविटी से जोड़ने का काम भी तेज गति से किया जा रहा है. देश में आज हर घर में गैस कनेक्शन पहुंचाने के प्रयास के साथ ही देश के हर घर में शौचालय की सुविधा पहुंचाने पर काम हो रहा है- पीएम मोदी

हम देश के हर बेघर को पक्का घर देने की भगीरथ योजना पर काम कर रहे हैं. हमने उन 18 हजार गावों तक बिजली पहुंचाई है, जहां आजादी के इतने वर्षों के बाद भी बिजली नहीं पहुंची थी. हमारी सरकार सौभाग्य योजना के तहत देश के हर घर तक बिजली कनेक्शन पहुंचाने के लिए काम कर रही है- पीएम मोदी

कई बार तो मैं हैरान रह जाता हूं, जब देश में ही कुछ लोग हमारी इस मुहिम को राजनीति से जोड़कर देखते हैं. सरदार पटेल जैसे महापुरुषों, देश के सपूतों की प्रशंसा करने के लिए भी हमारी आलोचना होने लगती है. ऐसा अनुभव कराया जाता है मानो हमने बहुत बड़ा अपराध कर दिया है- पीएम मोदी

सरदार साहब के दर्शन करने आने वाले टूरिस्ट सरदार सरोवर डैम, सतपुड़ा और विंध्य के पर्वतों के दर्शन भी कर पाएंगे- पीएम मोदी

सरदार पटेल का ये स्मारक उनके प्रति करोड़ों भारतीयों के सम्मान, हमारे सामर्थ्य, का प्रतीक तो है ही, ये देश की अर्थव्यवस्था, रोज़गार निर्माण का भी महत्वपूर्ण स्थान होने वाला है. इससे हज़ारों आदिवासी बहन-भाइयों को हर वर्ष सीधा रोज़गार मिलने वाला है- पीएम मोदी

स्टैचू ऑफ यूनिटी हमारे इंजीनियरिंग और तकनीकि सामर्थ्य का भी प्रतीक है. बीते करीब साढ़े तीन वर्षों में हर रोज़ कामगारों ने, शिल्पकारों ने मिशन मोड पर काम किया है. राम सुतार जी की अगुवाई में देश के अद्भुत शिल्पकारों की टीम ने कला के इस गौरवशाली स्मारक को पूरा किया है- पीएम मोदी

सरदार पटेल का ये स्मारक उनके प्रति करोड़ों भारतीयों के सम्मान, हमारे सामर्थ्य, का प्रतीक तो है ही, ये देश की अर्थव्यवस्था, रोज़गार निर्माण का भी महत्वपूर्ण स्थान होने वाला है. इससे हज़ारों आदिवासी बहन-भाइयों को हर वर्ष सीधा रोज़गार मिलने वाला है- पीएम मोदी

करोड़ों भारतीयों की तरह तब मेरे मन में एक ही भावना थी कि जिस व्यक्ति ने देश को एक करने के लिए इतना बड़ा पुरुषार्थ किया हो, उसको वो सम्मान अवश्य मिलना चाहिए जिसका वो हकदार है- पीएम मोदी 

आज का सहकार आंदोलन जो देश के अनेक गांवों की अर्थव्यवस्था का मजबूत आधार बन चुका है, ये सरदार साहब की ही देन है- पीएम मोदी

करोड़ों भारतीयों की तरह तब मेरे मन में एक ही भावना थी कि जिस व्यक्ति ने देश को एक करने के लिए इतना बड़ा पुरुषार्थ किया हो, उसको वो सम्मान आवश्य मिलना चाहिए जिसका वो हकदार है- पीएम मोदी

आज जो ये सफर एक पड़ाव तक पहुंचा है, उसकी यात्रा 8 वर्ष पहले आज के ही दिन शुरु हुई थी. 31 अक्टूबर 2010 को अहमदाबाद में मैंने इसका विचार सबके सामने रखा था- पीएम मोदी 

यह प्रतिमा, सरदार पटेल के उसी प्रण, प्रतिभा, पुरुषार्थ और परमार्थ की भावना का प्रकटीकरण है. ये प्रतिमा भारत के अस्तित्व पर सवाल उठाने वालों को ये याद दिलाने के लिए है कि ये राष्ट्र शाश्वत था, शाश्वत है और शाश्वत रहेगा- पीएम मोदी 

गुजरात के लोगो ने मुझे जो अभिनंदन पत्र दिया है उसके लिए में गुजरात के लोगो का बहुत बहुत आभारी हूं. आज में आपके यह सन्मान पत्र में आशिर्वाद की अनुभूति कर रहा हूं.- पीएम मोदी

ये ऊंचाई, ये बुलंदी भारत के युवाओं को ये याद दिलाने के लिए है कि भविष्य का भारत आपकी आकांक्षाओं का है, जो इतनी ही विराट हैं. इन आकांक्षाओं को पूरा करने का सामर्थ्य और मंत्र सिर्फ और सिर्फ एक ही है- एक भारत, श्रेष्ठ भारत- - पीएम मोदी

सरदार साहब का संकल्प न होता, तो सिविल सेवा जैसा प्रशासनिक ढांचा खड़ा करने में हमें बहुत मुश्किल होती- पीएम मोदी

देश के लोकतंत्र से सामान्य जन को जोड़ने के लिए सरदार साहब प्रतिपल समर्पित रहे- पीएम मोदी

सरदार साहब ने संकल्प न लिया होता, तो आज गीर के शेर को देखने के लिए, सोमनाथ में पूजा करने के लिए और हैदराबाद चार मीनार को देखने के लिए हमें वीज़ा लेना पड़ता. सरदार साहब का संकल्प न होता, तो कश्मीर से कन्याकुमारी तक की सीधी ट्रेन की कल्पना भी नहीं की जा सकती थी- पीएम मोदी

देश के लोकतंत्र से सामान्य जन को जोड़ने के लिए वो हमेशा समर्पित रहे. महिलाओं को भारत की राजनीति में सक्रिय योगदान का अधिकार देने के पीछे भी सरदार पटेल का बहुत बड़ा रोल रहा है- पीएम मोदी

इस परियोजना की कल्पना मैंने तब की थी जब मैं गुजरात का मुख्यमंत्री था. इस प्रतिमा के निर्माण के लिए लाखों किसान साथ आए और अपने औजार और मिट्टी देकर अपने हिस्से का योगदान दिया- पीएम मोदी

कच्छ से कोहिमा तक, करगिल से कन्याकुमारी तक आज अगर बेरोकटोक हम जा पा रहे हैं तो ये सरदार साहब की वजह से, उनके संकल्प से ही संभव हो पाया है- पीएम मोदी

जिस कमज़ोरी पर दुनिया हमें उस समय ताने दे रही थी, उसी को ताकत बनाते हुए सरदार पटेल ने देश को रास्ता दिखाया. उसी रास्ते पर चलते हुए संशय में घिरा वो भारत आज दुनिया से अपनी शर्तों पर संवाद कर रहा है, दुनिया की बड़ी आर्थिक और सामरिक शक्ति बनने की तरफ आगे बढ़ रहा है- पीएम मोदी

दुनिया की ये सबसे उंची प्रतिमा पूरी दुनिया और हमारी भावी पीढ़ियों को सरदार साहब के साहस, सामर्थ और संकल्प की याद दिलाती रहेगी- पीएम मोदी

सरदार साहब के आह्वान पर देश के सैकड़ों रजवाड़ों ने त्याग की मिसाल कायम की थी. हमें इस त्याग को भी कभी नहीं भूलना चाहिए- पीएम मोदी

सरदार पटेल की प्रतिमा राष्ट्र को समर्पित करना सौभाग्य की बात. देश की जनता का बहुत आभारी हूं- पीएम मोदी

सरदार साहब के इसी संवाद से, एकीकरण की शक्ति को समझते हुए उन्होंने अपने राज्यों का विलय कर दिया. देखते ही देखते, भारत एक हो गया- पीएम मोदी

सरदार पटेल ने 5 जुलाई, 1947 को रियासतों को संबोधित करते हुए कहा था कि- “विदेशी आक्रांताओं के सामने हमारे आपसी झगड़े, आपसी दुश्मनी, वैर का भाव, हमारी हार की बड़ी वजह थी. अब हमें इस गलती को नहीं दोहराना है और न ही दोबारा किसी का गुलाम होना है- पीएम मोदी 

पूरा देश सरदार पटेल की स्मृति में राष्ट्रीय एकता दिवस मना रहा है. इस अवसर पर देश के अलग-अलग कोने में हमारे देश को नौजवान दौड़ लगा रहे हैं, रन फॉर यूनिटी, उनके इस जज्बे को मैं नमन करता हूं: पीएम मोदी

सरदार पटेल में कौटिल्य की कूटनीति और शिवाजी के शौर्य का समावेश था- पीएम मोदी

सरदार साहब का सामर्थ्य तब भारत के काम आया था जब मां भारती साढ़े पांच सौ से ज्यादा रियासतों में बंटी थी. दुनिया में भारत के भविष्य के प्रति घोर निराशा थी. निराशावादियों को लगता था कि भारत अपनी विविधताओं की वजह से ही बिखर जाएगा- पीएम मोदी

आज का यह दिवस भारत के इतिहास के महत्वपूर्ण दिनों में से एक है. भारत के सन्मान के लिए समर्पित एक विराट व्यक्तित्व का उचित स्थान देने का और अपने इतिहास को उजागर करने का काम भारत के वर्तमान ने किया है- पीएम मोदी

आज जब धरती से लेकर आसमान तक सरदार साहब का अभिषेक हो रहा है, तब भारत ने न सिर्फ अपने लिए एक नया इतिहास रचा है, बल्कि भविष्य के लिए प्रेरणा का गगनचुम्बी आधार भी रखा है: पीएम मोदी

आज का दिन इतिहास में कोई नहीं मिटा पाएगा, आज देश के विराट व्यक्ति को उचित स्थान मिला- पीएम मोदी

आज भारत के वर्तमान ने अपने इतिहास के एक स्वर्णिम पृष्ठ को उजागर करने का काम किया है- पीएम मोदी

धरती से आसमान तक आज सरदार वल्लभ भाई पटेल का अभिषेक हो रहा है. आज के दिन को इतिहास में रखा जाएगा.

पीएम मोदी ने कहा- पूरा देश आज राष्ट्रीय एकता दिवस मना रहा है. भारत भक्ति की भावना से ही हमारी सभ्यता फल फूल रही है.

पीएम मोदी ने सरदार वल्लभ भाई पटेल की 143वीं जयंती पर स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का किया अनावरण



गुजरात के सीएम विजय रुपाणी ने फूलों का गुलदस्ता देकर पीएम मोदी का मंच पर स्वागत किया. अब से थोड़ी ही देर में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का करेंगे अनावरण. 



स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के अनावरण से पहले बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, गुजरात के सीएम विजय रुपाणी, उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल और मध्यप्रदेश के गवर्नर और गुजरात की पूर्व सीएम आनंदीबेन पटेल मंच पर मौजूद.



गुजरात के केवड़िया में मूर्ति के अनावरण से पहले रंगारंग कार्यक्रम चल रहा है. 



पीएम मोदी केवड़िया पहुंच गए हैं, थोड़ी देर में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का अनावरण करेंगे. 



सरदार बल्लभ भाई पटेल की मूर्ती जो विश्व की सबसे ऊंची मूर्ति है काफी साल पहले बन जाना चाहिए था. आज भारत ने उन्हें सही मायने में श्रद्धांजलि दी है जिन्होंने भारत के निर्माण के लिए काम किया.- राज्यवर्धन सिंह राठौड़



हम उस सरदार पटेल को नमन करते हैं जिन्होंने देश को एकजु़ट किया और बिना थके देश की सेवा करते रहे.



राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू और गुह मंत्री राजनाथ सिंह ने दिल्ली में सरदार बल्लभ भाई पटेल की 143वीं जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की.



सरदार बल्लभ भाई पटेल के 143वीं जयंती पर पीएम मोदी आज देश को स्टैच्यू ऑफ़ यूनिटी समर्पित करेंगे.



First Published : 31 Oct 2018, 07:51:30 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.