News Nation Logo

Farmer Protest:राष्ट्रगान के बाद शाम 5 बजे खत्म हुआ किसान संसद

सदन के बाहर जंतर-मंतर पर किसानों की आज 'संसद' चलेगी. संयुक्त किसान मोर्चे में देशभर के करीब 40 किसान संगठन शामिल हैं. ऐसे में एक समूह के रूप में इजाजत देने के बजाय अलग-अलग संगठनों के स्तर पर यह इजाजत दी गई है.

News Nation Bureau | Edited By : Shailendra Kumar | Updated on: 22 Jul 2021, 06:44:11 PM
Farmer Protest

जंतर-मंतर पर चलेगी किसानों की 'संसद' (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्ली:

सदन के बाहर जंतर-मंतर पर किसानों की आज 'संसद' चलेगी. संयुक्त किसान मोर्चे में देशभर के करीब 40 किसान संगठन शामिल हैं. ऐसे में एक समूह के रूप में इजाजत देने के बजाय अलग-अलग संगठनों के स्तर पर यह इजाजत दी गई है. हर संगठन से 5-5 सदस्यों को जंतर-मंतर पर जाने की इजाजत मिली है. ये सभी लोग गुरुवार सुबह सिंघु बॉर्डर पर इकट्ठा होंगे, जहां से पुलिस खुद 5-6 बसों में बैठाकर इन लोगों को एस्कॉर्ट करते हुए एक तय रूट से जंतर-मंतर तक लेकर आएगी. जानकारी के मुताबिक, बुधवार को हुई तीसरे दौर की मीटिंग के बाद 200 किसानों को जंतर-मंतर पर किसान संसद का आयोजन करने की इजाजत दी गई है. सुप्रीम कोर्ट के निर्देश का उल्लंघन ना हो, इसे देखते हुए एक बीच का रास्ता निकाला गया है. लाइव अपडेट के लिए जुड़े रहिए NewsNationTV.com के साथ...

LIVE TV NN

NS

NS

राष्ट्रगान के बाद शाम 5 बजे खत्म हुआ किसान संसद 

जंतर-मंतर पर किसान संसद शुरू, कृषि मंत्री बातचीत को तैयार

जंतर-मंतर पर किसान संसद शुरू

दिल्ली: कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन करने के लिए किसान बसों के जरिए सिंघु बॉर्डर से जंतर मंतर पहुंचे.


किसानों ने केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ अपना विरोध शुरू किया. भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत जंतर मंतर पहुंचे.


थोड़ी देर में शुरू होगी किसान संसद, बसों में पहुंचे जंतर-मंतर

दिल्ली: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने नए कृषि क़ानूनों को रद्द किए जाने के विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया.


 


हमने किसानों से नए कृषि क़ानूनों के संदर्भ में बात की है. किसानों को कृषि क़ानूनों के जिस भी प्रावधान मे आपत्ति हैं वे हमें बताए, सरकार आज भी खुले मन से किसानों के साथ चर्चा करने के लिए तैयार है: केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर

26 जनवरी को लाल किला हिंसा जैसी स्थितियों से निपटने की व्यवस्था के बारे में पूछे जाने पर बीकेयू नेता राकेश टिकैत ने समाचार न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा, जंतर मंतर से संसद महज 150 मीटर की दूरी पर है. हम वहां अपना संसद सत्र आयोजित करेंगे. हमें गुंडागर्दी से क्या लेना-देना? क्या हम बदमाश हैं?.


मुद्दों, तथ्यों और तर्कों को लेकर किसी भी आंदोलन का स्वागत है लेकिन किसानों के कंधे पर बंदूक रखकर किस मुद्दे पर कुछ लोग आंदोलन करना दिखा रहे हैं. सरकार ने कहा कि आप आईये जो मुद्दे आपके पास हैं उन पर बात करिए, मुद्दे हैं नहीं: केंद्रीय मंत्री और भाजपा सांसद मुख्तार अब्बास नकवी

दिल्ली में जंतर-मंतर पर 3 कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन करने जाने के लिए किसान सिंघु (दिल्ली-हरियाणा) बॉर्डर पर इकट्ठे हो गए हैं.


किसानों के प्रदर्शन को ध्यान में रखकर टिकरी बॉर्डर पर प्रतिबंध की व्यवस्था की गई. सिर्फ सिंघु बॉर्डर से आने जाने की अनुमति है. टिकरी बॉर्डर से किसानों के प्रदर्शन से संबंधित आवाजाही की अनुमति नहीं है. बाकी अन्य तरह की आवाजाही पर रोक नहीं है: परविंदर सिंह, DCP बाहरी ज़िला, दिल्ली


 


दिल्ली: किसान संगठनों द्वारा आज जंतर मंतर पर नए कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन को देखते हुए भारी संख्या में सुरक्षाबल मौजूद हैं.


 


दिल्ली: जंतर मंतर पर 3 कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के लिए जाने के लिए किसान सिंघु बॉर्डर पर इकट्ठा हो रहे हैं. किसान नेता प्रेम सिंह भंगू ने कहा, हम वहां विस्तार से चर्चा करेंगे, हम स्पीकर भी बनाएंगे, चर्चा होगी और प्रश्नकाल भी होगा. 200 से अधिक किसान नहीं जाएंगे.


 



 


 

200 किसान संसद के आगे कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ प्रदर्शन के लिए जाएंगे. जंतर मंतर पर हमारी बसें रुकेंगी वहां से हम पैदल जाएंगे. जहां पर भी हमें पुलिस रोकेगी वहीं पर हम अपनी संसद लगाएंगे. जिन किसानों के आईकार्ड बन गए हैं वे आगे जाएंगे: मंजीत सिंह राय, किसान नेता, सिंघु बॉर्डर से


 


ग़ाज़ीपुर बॉर्डर- राकेश टिकैत यहां से निकले. पहले सिंघु बॉर्डर जाएंगे राकेश टिकैत. सिर्फ 2 गाड़ियों के साथ निकले राकेश टिकैत.

First Published : 22 Jul 2021, 08:11:40 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो