News Nation Logo

कर्नाटक में नेतृत्व का मुद्दा: लिंगायत वोट बैंक खिसकने के डर से बीजेपी सतर्क

कर्नाटक में नेतृत्व का मुद्दा: लिंगायत वोट बैंक खिसकने के डर से बीजेपी सतर्क

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 18 Jul 2021, 03:25:01 PM
Leaderhip iue

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

बेंगलुरू: कर्नाटक में नेतृत्व परिवर्तन पर विचार कर रहे भाजपा आलाकमान ने अपनी योजनाओं को आकार देने के लिए सतर्क रुख अपनाया है।

पार्टी सूत्र बताते हैं कि पार्टी किसी भी तरह से लिंगायत वोट बेस को गलत संदेश नहीं देना चाहती है जो पार्टी को राज्य में सत्ता में लेकर आया है।

वर्तमान में बी.एस. कर्नाटक के मुख्यमंत्री येदियुरप्पा इस समुदाय के निर्विवाद नेता हैं। हालांकि, वह 78 साल के हैं, इसलिए पार्टी बदलाव चाहती है।

पार्टी के भीतर उनके विरोधियों का कहना है कि येदियुरप्पा आक्रामक हिंदुत्व का समर्थन नहीं नहीं करते हैं।

कई अन्य भाजपा नेताओं के विपरीत, येदियुरप्पा को अल्पसंख्यकों और अन्य समुदाय के नेताओं का समर्थन प्राप्त है और उन्हें परेशान करना आसान नहीं है।

राज्य में स्वतंत्रता पूर्व काल से ही लिंगायत शक्तिशाली रहे हैं। समुदाय को राज्य भर में फैले अपने धार्मिक मठों और जातिगत रेखाओं को काटकर उनकी विशाल जनता से ताकत मिलती है।

समुदाय आर्थिक रूप से मजबूत है और 1956 में राज्य के एकीकरण के बाद, 1969 में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के समय कांग्रेस पार्टी का विभाजन होने तक, लिंगायत के मुख्यमंत्रियों ने एक के बाद एक राज्य पर शासन किया।

वरिष्ठ राजनीतिक विश्लेषक वाई.एन गौदर कहते हैं, येदियुरप्पा को लिंगायत और पंचपीता धार्मिक मठ का समर्थन प्राप्त है। एम.पी. रेणुकाचार्य, भाजपा विधायक ने कहा कि राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री रामकृष्ण हेगड़े के बाद, जिन्हें लिंगायतों का समर्थन प्राप्त था, येदियुरप्पा वही हैं।

पार्टी के नेताओं का कहना है कि वरिष्ठों की उनकी अवज्ञा एक चिंताजनक कारक रही है। येदियुरप्पा ने एल.के. आडवाणी से जब 2011 में मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के लिए कहा गया तो उन्होंने पार्टी से नाता तोड़ लिया और 2012 में अपनी खुद की केजेपी पार्टी शुरू की।

येदियुरप्पा ने 10 फीसदी वोट हासिल कर 2013 के आम चुनाव में बीजेपी की हार सुनिश्चित की थी। कोविड की पहली लहर के दौरान, उनके बयान कि अल्पसंख्यक समुदायों को लक्षित करने वालों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू की जाएगी, उन्होंने पार्टी में कट्टरपंथियों की आलोचना की।

लिंगायत समुदाय, जो राज्य की आबादी का 17 से 22 प्रतिशत हिस्सा है, चुनावों में प्रमुख भूमिका निभाता है। उत्तर कर्नाटक के 100 से अधिक विधानसभा क्षेत्रों में लिंगायत मतदाताओं का दबदबा है।

तटीय क्षेत्र और कुछ जिलों को छोड़कर पूरे राज्य में लिंगायत मतदाताओं की उपस्थिति महसूस की जाती है। वर्तमान विधानसभा में इस समुदाय के 58 विधायक चुने गए हैं जिनमें से 38 विधायक भाजपा के हैं।

राजनीतिक पंडितों का कहना है कि कांग्रेस पार्टी के नेता और तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने 1990 में तत्कालीन मुख्यमंत्री वीरेंद्र पाटिल को नई दिल्ली के लिए रवाना होने से पहले हवाई अड्डे से बाहर निकलने की घोषणा की थी। इसके बाद लिंगायत वोट भाजपा की ओर मुड़ गया और राज्य में उसकी संभावनाओं को बल मिला।

लिंगायत वीरेंद्र पाटिल ने एक साल पहले हुए चुनावों में 224 सीटों वाली कर्नाटक विधानसभा में 184 सीटें जीतकर कांग्रेस पार्टी को बड़ी जीत दिलाई थी। उनके बाहर निकलने के बाद, भले ही कांग्रेस पार्टी दो बार सत्ता में आई, लेकिन लिंगायतों को वापस अपने पाले में लाने के उसके प्रयास विफल रहे। सूत्रों ने कहा कि बीजेपी येदियुरप्पा को हटाकर वही गलती नहीं करना चाहती।

बसवाना गौड़ा पाटिल यतनाल, भाजपा विधायक, जो राज्य के नेतृत्व में बदलाव की मांग में सबसे आगे थे, ने कहा कि येदियुरप्पा ने लिंगायत समुदाय की सवारी की थी। उन्होंने कहा कि पंचमसाली उप संप्रदाय उनसे दूर हो गया है, और उनका लिंगायत वोट आधार में एक बड़ा हिस्सा है।

एक प्रभावशाली सार्वजनिक बुद्धिजीवी सीएस द्वारकानाथ बताते हैं कि स्वतंत्रता के बाद लिंगायत और वोक्कालिगा जैसी प्रमुख जातियों का राजनीतिक परि²श्य पर प्रभुत्व था। उसके बाद, 1972 और 1978 में देवराज उर्स के मुख्यमंत्री बनने पर पिछड़े वर्गों को प्रतिनिधित्व मिला। बाद में, राज्य में ओबीसी-केंद्रित राजनीति देखी गई। अब, फोकस ओबीसी से सबसे पिछड़ा वर्ग (एमबीसी) पर स्थानांतरित हो गया है। मुख्यधारा के राजनीतिक दलों द्वारा उनका आक्रामक रूप से पीछा किया जाता है।

द्वारकानाथ ने कहा कि जाति की राजनीति खत्म होने की उम्मीद है और अगली पीढ़ी के युवा जाति की बेड़ियों को तोड़ेंगे।

कांग्रेस के पूर्व मंत्री प्रियांक खड़गे ने संकेत दिया कि नेतृत्व विवाद के बाद आने वाले दिनों में भाजपा फूट जाएगी।

भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने लक्ष्मण सावदी को उपमुख्यमंत्री बनाकर एक समानांतर नेता बनाने का प्रयास किया, हालांकि वे चुनाव हार गए और असफल रहे। यही हाल मुख्यमंत्री के कई अन्य विरोधियों का है जो चुनाव में पार्टी को जीत तक नहीं ले जा पा रहे हैं।

कुल मिलाकर, भाजपा कर्नाटक में बदलाव चाहती है, लेकिन येदियुरप्पा के लिए सम्मानजनक निकास सुनिश्चित करना चाहती है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 18 Jul 2021, 03:25:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.