News Nation Logo

टीवी डिबेट में कांग्रेस की ओर से बहस करने वालों में महिलाएं हावी

टीवी डिबेट में कांग्रेस की ओर से बहस करने वालों में महिलाएं हावी

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 18 Jul 2021, 12:35:02 PM
Ladie leading

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: टेलीविजन बहसों में कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता को भले ही भाजपा के पैनलिस्टों द्वारा घेर लिया जाता है, लेकिन अब हालात बदले हैं। कांग्रेस ने मीडिया पैनलिस्टों और प्रवक्ताओं का एक उग्र पैक तैयार किया है जिनको देखकर लगता है कि वो ईंट से ईंट बजाने के लिए तैयार रहती हैं।

पवन खेड़ा, रोहन गुप्ता, गौरव वल्लभ जैसे कई आक्रामक प्रवक्ता हैं, लेकिन पैनलिस्टों में अब महिलाओं की टीम हावी दिखती हैं, जो झुकने के लिए तैयार नहीं होती हैं। वो उसी भाषा में जवाब देने के लिए भी तैयार रहती हैं, जिस तरह उनसे पूछा जाता है।

पत्रकार से प्रवक्ता बनी सुप्रिया श्रीनाते, अलका लांबा, राधिका खेरा और रागिनी नायक कांग्रेस की ओर से मोर्चा लेने के लिए तैयार रहती हैं । इनमें अंतिम तीन युवा कांग्रेस से आई हैं जबकि दक्षिण भारत से दंत चिकित्सक शमा मोहम्मद से आती हैं।

खेड़ा जहां पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया समन्वयक हैं, वहीं अलका लांबा भले ही आधिकारिक प्रवक्ता नहीं हैं, लेकिन टीवी डिबेट्स में अक्सर कांग्रेस के ²ष्टिकोण पर जोर देते हुए दिखाई पड़ जाती हैं।

प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेते कहती हैं कि, भाजपा प्रवक्ता किसी विषय पर बात नहीं करना चाहते हैं और अगर वे ऐसा करते हैं, तो उनके पास अपने दावों का समर्थन करने के लिए तथ्यात्मक डेटा नहीं होता है और फिर नाम बुलाने का सहारा लेते हैं और मुद्दों से भटकाने की कोशिश करते हैं।

कांग्रेस पार्टी की ओर से शिष्टाचार का पालन करने और पार्टी की सख्ती के कारण संबित पात्रा, गौरव भाटिया जैसे भाजपा प्रवक्ताओं का मुकाबला नही कर पाती है। लेकिन अब कांग्रेस के प्रवक्ता राजीव त्यागी को खोने के बाद स्थिति बदल गई है, जिनकी टीवी पर गर्मागर्म बहस के तुरंत बाद मृत्यु हो गई थी। पार्टी के एक अंदरूनी सूत्र का कहना है कि कांग्रेस ने अब नरम होने के बजाय टेलीविजन स्टूडियो में आक्रामक होने का फैसला किया है।

मीडिया टीम और पैनलिस्ट में शामिल राधिका खेरा भी यूथ कांग्रेस से ही हैं। वह कहती हैं, हमें किसी विशेष तैयारी की आवश्यकता नहीं है। भाजपा सरकार हमें उन्हें घेरने के लिए पर्याप्त कारण बताकर हर रोज बड़ी गलतियाँ करती है । अर्थव्यवस्था को संभालने में उनकी विफलता, बढ़ती कीमतें, कोविड के टीके, बढ़ती बेरोजगारी और उनकी झूठकी क्षमता। इसलिए, जब आपके पक्ष में सच्चाई होती है, तो झूठे लोगों के पास दिखाने के लिए कुछ भी नहीं होता है। और इसलिए टीवी बहस में हर रोज उजागर होते हैं!

कांग्रेस पार्टी में वापसी करने वाली अलका लांबा सोशल मीडिया पर काफी सक्रिय हैं। वह महंगाई और ईंधन की कीमतों में बढ़ोतरी पर बीजेपी को घेरने के लिए गोवा भेजे जाने वाले प्रवक्ताओं में से एक थीं।

लांबा का कहना है कि अब भाजपा को नकली कारखाने के पीछे छिपना मुश्किल लगता है क्योंकि हम उन्हें बेनकाब करने के लिए हैं। उनका कहना है, भाजपा व्यक्तिगत हमले में अधिक है, मैं मुद्दों पर टिकी रहती हूं और भाजपा की डायवर्जन रणनीति में घसीटे जाने से बचती हूं।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने उन मुद्दों पर बहस में भाग नहीं लेने का फैसला किया है जो भाजपा चाहती है, जैसे कि सांप्रदायिक राजनीति से संबंधित - कांग्रेस जन-केंद्रित मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करना चाहती है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 18 Jul 2021, 12:35:02 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.