News Nation Logo
अनन्या पांडे से सोमवार को फिर पूछताछ करेगी NCB अभिनेत्री अनन्या पांडे एनसीबी कार्यालय से रवाना हुईं, करीब 4 घंटे चली पूछताछ DRDO ने ओडिशा के चांदीपुर रेंज से हाई-स्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टारगेट (HEAT) का सफल परीक्षण किया कल जम्मू-कश्मीर जाएंगे गृहमंत्री अमित शाह दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक 27 अक्टूबर को, छठ पूजा उत्सव के लिए ली जाएगी अनुमति 1971 के भारत-पाक युद्ध ने दक्षिण एशियाई उपमहाद्वीप के भूगोल को बदल दिया: सीडीएस जनरल बिपिन रावत माता वैष्णों देवी मंदिर में तीर्थयात्रियों के बीच कोरोना का प्रसार रोकने के लिए नए दिशा-निर्देश जारी दिल्ली जा रही फ्लाइट में एक आदमी की अचानक तबीयत ख़राब होने पर फ्लाइट की इंदौर में इमरजेंसी लैंडिंग 1971 का युद्ध, इसमें भारतीयों की जीत और युद्ध का आधार बेहद खास है: राजनाथ सिंह केंद्र सरकार की टीम उत्तराखंड में आपदा से हुई क्षति का आकलन कर रही है: पुष्कर सिंह धामी रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने आज बेंगलुरु में वैमानिकी विकास प्रतिष्ठान का दौरा किया शिवराज सिंह चौहान ने शोपियां मुठभेड़ में शहीद जवान कर्णवीर सिंह को सतना में श्रद्धांजलि दी मुंबई के लालबाग इलाके में 60 मंजिला इमारत में लगी भीषण आग उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव: कल शाम छह बजे सोनिया गांधी के आवास पर कांग्रेस सीईसी की बैठक

अगले 3 वर्षों में कर्नाटक चलाएगा 1,500 ई-बसें

अगले 3 वर्षों में कर्नाटक चलाएगा 1,500 ई-बसें

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 01 Oct 2021, 02:10:01 PM
Ktaka witche

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

बेंगलुरु: कर्नाटक सरकार अगले तीन वर्षों में राज्य की राजधानी में चलने के लिए 1,500 इलेक्ट्रिक बसों (ई-बसों) का अधिग्रहण करने के लिए तैयार है। परिवहन विभाग इस साल 390 इलेक्ट्रिक बसों के बेड़े को शामिल कर रहा है।

सरकार ने रद्द की गई बसों को ई-बसों से बदलने का फैसला किया है। राज्य में हर साल करीब 400 बसें रद्द की जाती हैं।

केंद्र सरकार के दबाव के साथ, बेंगलुरु मेट्रोपॉलिटन ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन (बीएमटीसी) ने बढ़ते प्रदूषण के स्तर और ईंधन की आसमान छूती कीमतों को देखते हुए ई-बसों का अधिग्रहण करने का फैसला किया है।

परिवहन मंत्री बी. श्रीरामुलु ने बताया कि बड़ी योजना और स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत अधिग्रहित एक मिनी इलेक्ट्रिकल बस को प्रयोग के आधार पर बेंगलुरु में चलाया जाएगा। नवंबर तक चरणबद्ध तरीके से बेंगलुरु मेट्रोपॉलिटन कॉरपोरेशनमें 90 बसें जोड़ी जाएंगी। मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई सेवाओं का उद्घाटन करेंगे।

स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत 50 करोड़ रुपये की लागत से इन 90 बसों का अधिग्रहण किया जाएगा। नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन (एनटीपीसी) 10 साल तक इन बसों के रखरखाव का जिम्मा संभालेगा। बीएमटीसी 51.62 रुपये प्रति किलोमीटर का भुगतान करेगी। चालक, रखरखाव और चाजिर्ंग का खर्च एनटीपीसी द्वारा वहन किया जाएगा। परिवहन विभाग ने बेंगलुरु में मेट्रो फीडर सेवा के रूप में प्रति दिन न्यूनतम 180 किलोमीटर के लिए इलेक्ट्रिक बसों को चलाने के लिए एक समझौते पर भी हस्ताक्षर किए हैं।

120 किलोमीटर चलने के बाद बसों को चार्ज करना होता है और एक बस को चार्ज होने में 45 मिनट का समय लगता है। वर्तमान में, इलेक्ट्रिक बस को बेंगलुरु के मेट्रो स्टेशनों पर विभिन्न स्थानों पर सेवा में लगाया जाएगा।

श्रीरामुलु ने बताया कि प्रदेश में पहली बार इलेक्ट्रिक बस प्रयोग हो रहा है। प्रदूषण से बचने के लिए ये वाहन जरूरी हैं। नवंबर माह में 90 मिनी इलेक्ट्रिक बसें (9 मीटर लंबी) चलाई जाएंगी। ये बसें शहर की संकरी सड़कों पर चल सकती हैं।

बीएमटीसी बोर्ड 300 इलेक्ट्रिक बसों (12 मीटर लंबी) की खरीद पर भी विचार कर रहा है। श्रीरामुलु ने कहा कि इस संबंध में जल्द ही निर्णय लिया जाएगा।

परिवहन विभाग के प्रधान सचिव राजेंद्र कुमार कटारिया ने कहा कि ई-बस टिकट की कीमतें सामान्य बसों से कम होंगी। वहीं इन बसों से मुख्य रूप से ध्वनि प्रदूषण और धुएं का उत्सर्जन नहीं होगा। बीएमटीसी पहले चरण में 90 ई-बसों और दूसरे चरण में 300 बसों का अधिग्रहण करेगी।

केंद्र सरकार 9 शहरों में भारत में (हाइब्रिड और) इलेक्ट्रिक वाहनों (फेम -2) परियोजना के फास्टर एडॉप्शन एंड मैन्युफैक्च रिंग के तहत सार्वजनिक परिवहन प्रणाली में इलेक्ट्रिक कल्चर लाने के लिए प्रोत्साहित कर रही है। उन्होंने बसों की आवश्यक संख्या की सूची मांगी है। आने वाले तीन साल में 1,500 बसों की बोली लगेगी। उन्होंने बताया कि हर साल 600 ई-बसें परिवहन में जोड़ी जाएंगी और करीब 30 से 40 फीसदी लोग ई-बसों के जरिए आवागमन करेंगे।

फेम-1 योजना के तहत शहर के भीतर ई-बस सेवाएं प्रदान की जाएंगी। दूसरे चरण (फेम-2) में इंटरसिटी ई-बस सेवा शुरू करने पर सहमति बनी है।

बीएमटीसी के प्रबंध निदेशक अंबुकुमार ने बताया कि एक डीजल बस की कीमत 30 लाख रुपये और ई-बस की कीमत 90 लाख रुपये होगी। स्मार्ट सिटी परियोजना निधि का उपयोग किया गया है। चूंकि बीएमटीसी के पास अनुभव नहीं है, इसलिए कंपनी को इन बसों के रखरखाव की देखभाल करने के लिए कहा गया है। हर साल 400 से अधिक बसों को रद्द किया जा रहा है और उन्हें ई-बसों से बदल दिया जाएगा।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 01 Oct 2021, 02:10:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो