News Nation Logo
Banner
Banner

महानगरों में कोलकाता सबसे सुरक्षित शहर :एनसीआरबी रिपोर्ट

महानगरों में कोलकाता सबसे सुरक्षित शहर :एनसीआरबी रिपोर्ट

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 19 Sep 2021, 11:55:01 AM
Kolkata afet

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

शैबाल गुप्ता

कोलकाता: राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक प्रति एक लाख जनसंख्या पर अपराध दर 110 से कम होने और बलात्कार और हत्या जैसे गंभीर अपराधों की सबसे कम संख्या दर्ज करने के साथ, कोलकाता को देश के महानगरीय शहरों में से सबसे सुरक्षित माना गया है।

एनसीआरबी द्वारा प्रकाशित नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली में प्रति लाख जनसंख्या पर 1,506.9 की अपराध दर के साथ सबसे अधिक सं™ोय अपराध दर्ज किए गए। इसके बाद चेन्नई में 1,016.4 की दर से अपराध के मामले दर्ज किए गए। मुंबई और बेंगलुरु जैसे अन्य दो महानगरीय शहरों में 272.4 और 234.9 की दर दर्ज की गई, तो कोलकाता में सं™ोय अपराधों में अपराध दर सिर्फ 109.9 है। न केवल महानगरों में बल्कि शहर में देश के 19 प्रमुख शहरों में सबसे कम अपराध दर दर्ज किए गए।

कुल अपराध दर में, शहरों ने देश के अन्य महानगरों की तुलना में काफी बेहतर प्रदर्शन किया है। जबकि चेन्नई में कुल अपराध दर 1,937.1,दिल्ली में यह 1,608.6 है, तो कोलकाता में अपराध दर केवल 129.5 है। अन्य दो महानगरों - मुंबई और बेंगलुरु ने क्रमश: 318.6 और 401.9 की समग्र अपराध दर दर्ज की है। शहर की समग्र अपराध दर भी एनसीआरबी द्वारा ध्यान में रखे गए 19 प्रमुख शहरों में सर्वश्रेष्ठ है।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि साल 2018 और 2019 के आंकड़ों की तुलना में कोलकाता में किए गए अपराधों की संख्या में कमी आई है। 2018 में, शहर भर में लगभग 21,481 अपराध किए गए, जबकि 2019 में यह आंकड़ा 19,638 और 2020 में 18,277 था।

हत्याओं के मामले में, कोलकाता में केवल 53 मामले दर्ज किए गए, जबकि दिल्ली में 461 मामले दर्ज किए गए। सभी शहरों में सबसे अधिक, इसके बाद बेंगलुरु (179 मामले), चेन्नई (150 मामले) और मुंबई (148 मामले) हैं। केवल 5 मामलों के साथ कोझीकोड और 9 मामलों के साथ कोच्चि दो केवल दो शहर हैं - दोनों केरल में - जहां वर्ष में 10 से कम मामले दर्ज किए गए।

जहां तक महिलाओं के खिलाफ अपराधों का सवाल है तो इस शहर ने भी देश के अन्य प्रमुख शहरों की तुलना में बेहतर रहा है। अन्य महानगरों की तुलना में, कोलकाता में महिलाओं के खिलाफ अपराध दर भी कम है और 29.5 है। महिलाओं के खिलाफ अपराधों के मामले में, लखनऊ महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित शहर है, जहां प्रति लाख जनसंख्या पर 190.7 की दर है। केवल 13.8 लाख आबादी के मुकाबले लखनऊ में महिलाओं के खिलाफ अपराध की रिपोर्ट 2,636 है। 2020 में, कोलकाता में 67.9 लाख की आबादी के खिलाफ महिलाओं के खिलाफ अपराधों के संबंध में केवल 2001 की शिकायतें प्राप्त हुईं। दिल्ली में महिलाओं के खिलाफ अपराध की दर 129.1 फीसदी है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि 2020 में, दिल्ली भर में, 75.8 लाख आबादी के खिलाफ 9,782 शिकायतें दर्ज की गईं।

कोलकाता में सड़क हादसों में लापरवाही से होने वाली मौतों की दर भी अन्य शहरों की तुलना में काफी कम है। 2020 में सड़क हादसों में लापरवाही से मौत के दर्ज मामलों की संख्या 204 थी। इस तरह के हादसों में करीब 218 लोगों की मौत हुई। लापरवाही के कारण होने वाली घातक सड़क दुर्घटनाओं का प्रतिशत 1.4 प्रतिशत है जो सभी महानगरों में सबसे कम है। रिपोर्ट यह भी दर्शाती है कि 2020 में कोलकाता में हिट एंड रन का कोई मामला नहीं हुआ।

आंकड़ों की तुलना करें तो 1,156 पीड़ितों के साथ 1,130 मामलों के साथ लापरवाही के कारण घातक दुर्घटनाओं की संख्या के मामले में दिल्ली सबसे अधिक है। लापरवाही के कारण होने वाली घातक सड़क दुर्घटनाओं के मामले में जयपुर सबसे असुरक्षित शहर है जहां ऐसे 16.5 प्रतिशत मामले हैं। महानगरों में हिट-एंड-रन के सबसे अधिक मामले दिल्ली में दर्ज किए गए, जिनमें 514 मामले दर्ज किए गए, जहां 519 लोगों की मौत हुई है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 19 Sep 2021, 11:55:01 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.