News Nation Logo

BREAKING

Banner

Nuclear Attack के दौरान खुद को सुरक्षित रखने के लिए करें ये उपाय

अगर भारत-पाक के बीच जंग छिड़ती है और ये परमाणु जंग (Nuclear Attack) में तब्दील होती है तो एक हफ्ते में दो करोड़ लोग मारे जाएंगे.

Written By : DRIGRAJ MADHESHIA | Edited By : Drigraj Madheshia | Updated on: 27 Feb 2019, 07:19:28 AM
दूसरे विश्‍व युद्ध के दौरान परमाणु बम विस्‍फोट के बाद जापान का हीरोशिमा शहर (PTI)

दूसरे विश्‍व युद्ध के दौरान परमाणु बम विस्‍फोट के बाद जापान का हीरोशिमा शहर (PTI)

नई दिल्‍ली:

Surgical Strike 2 के बाद अगर भारत-पाक के बीच जंग छिड़ती है और ये परमाणु जंग (Nuclear Attack) में तब्दील होती है तो एक हफ्ते में दो करोड़ लोग मारे जाएंगे. एक परमाणु विस्फोट कुछ मिनटों की चेतावनी के साथ या बिना हो सकता है. ऐसे में विस्फोट के बाद के पहले कुछ घंटों में फॉलआउट सबसे खतरनाक होता है. उस समय वह विकिरण के उच्चतम स्तर को छोड़ रहा होता है. वेब साइट ready.gov के अनुसार आप इन सरल चरणों का पालन करके विकिरण के खतरे को रोकने में सक्षम हो सकते हैं. 

यह भी पढ़ेंः आपके लिए बहुत जरूरी है यह जानना कि परमाणु हमले के दौरान घर में सुरक्षित हैं या बाहर

  1. किसी भी ऐसी त्वचा या बालों से फॉलआउट हटाने के लिए साबुन और पानी से नहाएं या धोएं, जो ढंका नहीं था. यदि आप धो या स्नान नहीं कर सकते तो त्वचा या बालों को पोंछने के लिए साफ गीले कपड़े का उपयोग करें.
  2. किसी भी ऐसे पालतू जानवर को साफ़ करें जो विस्‍फोट के बाद बाहर थे. किसी भी विकिकरण के कण को हटाने के लिए अपने पालतू को धीरे से ब्रश करें और यदि उपलब्ध हो तो अपने पालतू जानवरों को साबुन और पानी से धोएं.
  3. पैकेज्ड फूड आइटम्स या ऐसी चीजें खाना या पीना सुरक्षित है जो किसी बिल्डिंग के अंदर थीं. ऐसे भोजन या तरल पदार्थों का सेवन न करें, जो बाहर खुले थे और विकिरण से दूषित हो सकते हैं.
  4. यदि आप बीमार या घायल हैं, तो निर्देश पर सुनें कि कैसे और कहाँ चिकित्सा ध्यान पाने के लिए जब अधिकारी आपको बताते हैं कि बाहर निकलना सुरक्षित है.


परमाणु विस्फोट से संबंधित खतरे

  • तेज फ्लैश एक मिनट से भी कम समय के लिए अस्थायी अंधापन का कारण बन सकता है.
  • विस्फोट से कई मील की दूरी पर मौत, चोट और क्षति हो सकती है.
  • रेडिएशन शरीर की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचा सकता है. बड़े एक्सपोज़र विकिरण बीमारी का कारण बन सकते हैं.
  • आग और गर्मी मौत का कारण बन सकती है, चोटों को जला सकती है, और कई मील बाहर संरचनाओं को नुकसान पहुंचा सकती है.
  • विद्युत पल्स (ईएमपी) विस्फोट से कई मील की दूरी पर बिजली के उपकरणों और इलेक्ट्रॉनिक्स को नुकसान पहुंचा सकते हैं और अस्थायी व्यवधान पैदा कर सकते हैं.

First Published : 26 Feb 2019, 03:20:11 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो