News Nation Logo
Quick Heal चुनाव 2022

कर्नाटक कांग्रेस ने मेकेदातु पदयात्रा स्थगित की

कर्नाटक कांग्रेस ने मेकेदातु पदयात्रा स्थगित की

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 13 Jan 2022, 10:15:01 PM
Karnataka Mekedatu

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

बेंगलुरु: कर्नाटक उच्च न्यायालय की आलोचना द और कोविड संकट के बीच मेकेदातु पदयात्रा आयोजित करने पर भाजपा सरकार की कार्रवाई के बाद राज्य कांग्रेस इकाई ने 10 दिवसीय पदयात्रा को अस्थायी रूप से वापस लेने की घोषणा की है।

विपक्ष के नेता सिद्धारमैया ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में फैसले की घोषणा करते हुए कहा, कोविड दिशानिर्देशों में ढील के बाद रामनगर से पदयात्रा फिर से शुरू की जाएगी, इसे अभी के लिए रोका जा रहा है।

प्रदेश अध्यक्ष डी.के. शिवकुमार ने घोषणा की कि यह एक बलिदान है जो कांग्रेस पार्टी सार्वजनिक स्वास्थ्य के हित में कर रही है।

उन्होंने कहा, यह लोगों के हित में एक अस्थायी विराम है और अदालत की भावनाओं का सम्मान करते हुए निर्णय लिया गया। यह एक अस्थायी पड़ाव है, स्थायी नहीं।

सिद्धारमैया ने बताया कि यह पदयात्रा का पांचवां दिन है और वे रामनगर से बिदादी तक जाने वाले थे। केंगेरी पहुंचने के बाद रैली बेंगलुरु शहर पहुंच गई होगी। चूंकि बेंगलुरु में 15,000 से अधिक संक्रमणों की सूचना है, हम एक जिम्मेदार राजनीतिक दल हैं और इस समय हम लोगों के हित में निर्णय ले रहे हैं।

उन्होंने कहा, तीसरी कोविड लहर में मामले तेजी से फैलने लगे हैं। कांग्रेस पार्टी इसका कारण नहीं है। तीसरी लहर शुरू होने के बाद 6 जनवरी को नए निर्वाचित एमएलसी का शपथ ग्रहण समारोह आयोजित किया गया था, जिसमें 4,000 से 5,000 तक लोग एकत्र हुए। सीएम बोम्मई और कई मंत्रियों ने समारोह में भाग लिया और कोई ध्यान नहीं दिया गया। भाजपा विधायक सुधाश गुट्टेदार ने एक रैली की, होनाली के भाजपा विधायक सांसद रेणुकाचार्य ने एक विशाल जुलूस निकाला। केंद्रीय मंत्रियों ने बैठकें कीं और जुलूसों में भाग लिया। उन्होंने जन आशीर्वाद निकाला यात्रा। इस सब के लिए कोई अनुमति नहीं ली गई थी।

गृहमंत्री अरगा ज्ञानेंद्र के निर्वाचन क्षेत्र में भी मेले की अनुमति दी गई थी। उन पर एक भी मामला दर्ज नहीं किया गया है। लेकिन, हमारे खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है और अदालत में जमा की गई है। उनकी (सत्तारूढ़ भाजपा) की मंशा ठीक नहीं है। उनका पूरा उद्देश्य पदयात्रा को किसी भी कीमत पर रोकना है।

हम लोगों का स्वास्थ्य चाहते हैं, बेंगलुरु में 15,000 मामले पदयात्रा के कारण नहीं हैं। पूरे देश और दुनियाभर में कोविड के मामलों में वृद्धि हुई है। हम लोगों के स्वास्थ्य के बारे में चिंतित हैं।

हमने इस सब पर चर्चा की। हम राज्य में भाजपा सरकार के मामलों या फरमान से डरते नहीं हैं। लोगों के स्वास्थ्य को देखते हुए और लोगों के दिमाग में यह नहीं लाने के लिए कि हम कोविड के फैलने का कारण हैं, पदयात्रा को रोकने का निर्णय लिया गया है।

10 दिवसीय पदयात्रा नौ जनवरी को मेकेदातु से शुरू हुई थी। गुरुवार को इसने अपने पांचवें दिन में प्रवेश किया और हजारों लोगों ने पदयात्रा में भाग लिया और 60 किमी की दूरी तय की। पदयात्रा को शाम तक बिदादी पहुंचना था और शुक्रवार को केंगेरी पहुंचना था। कांग्रेस नेताओं ने पहले सभी सरकारी आदेशों की अवहेलना की और कर्फ्यू के आदेशों के बावजूद पदयात्रा की।

राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, पूर्व केंद्रीय मंत्री वीरप्पा मोइली, पूर्व मंत्री शिवशंकर रेड्डी और पदयात्रा में भाग लेने वाले अन्य वरिष्ठ नेता कोविड से संक्रमित पाए गए हैं। गृहमंत्री अरागा ज्ञानेंद्र ने कहा है कि कोविड-19 से प्रभावित हजारों लोग पदयात्रा में भाग ले रहे हैं और यह राज्य में सुपर स्प्रेडर बनने जा रहा है।

कर्नाटक उच्च न्यायालय ने इस संबंध में एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए सत्तारूढ़ भाजपा और विपक्षी कांग्रेस को पदयात्रा पर फटकार लगाई और 14 जनवरी (शुक्रवार) को मामले पर स्पष्टीकरण देने के लिए दोनों को नोटिस जारी किया। भारी दबाव में आकर, भाजपा सरकार ने आखिरकार पदयात्रा पर कार्रवाई शुरू कर दी।

मेकेदातु परियोजना का मामला फिलहाल सुप्रीम कोर्ट में है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 13 Jan 2022, 10:15:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.