News Nation Logo

कमला के शब्द और यात्रा मेरी स्मृति और आत्मा में अंकित हैं

कमला के शब्द और यात्रा मेरी स्मृति और आत्मा में अंकित हैं

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 30 Sep 2021, 02:25:01 PM
Kamla Bhainphotointagram

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: इससे पहले कि मैं और पढ़ पाती, मेरी पसंदीदा किताब कमला भसीनों की उल्टी सुलती मीतो थी। यह किताब एक ऐसी लड़की के बारे में थी जो नटखट और चंचल थी। उस पुस्तक के चित्र इतने सुंदर थे कि मुझे इसे समझने के लिए शब्दों की आवश्यकता नहीं थी। इसने मुझे बहुत छोटी उम्र से ही अपनी विचित्रताओं को स्वीकार करने में मदद की।

बाद में मुझे पता चला कि मीतो कमला भसीन की बेटी थी। मीतो ऐसे काम करती थी जो लड़कों द्वारा किए जाने वाले माने जाते थे, वह लड़कों के खेल खेलती थी और बस अलग-अलग गतिविधियों, लापरवाह और लिंग तटस्थ में उलझती रहती थी। आज, मैं समझता हूं कि यह विचार अपने समय में कितना क्रांतिकारी था।

उनकी किताब घर का काम है सबका काम (घर के काम सभी के लिए हैं) ने एक महिला के रूप में मेरे लिए एक स्वर सेट किया। मैंने कभी नहीं देखा कि मेरी माँ को घरेलू जि़म्मेदारियाँ पूरी करनी हैं। मुझे अपने पिता से भी यही जिम्मेदारी की उम्मीद थी और मैंने भी 6 साल के बच्चे के रूप में झाड़ू का अपना पसंदीदा काम करके घर के कामों में मदद की।

जैसे कमला की कविताओं ने मुझे सिखाया, मैंने भी एक अपरंपरागत रास्ता चुना। मैंने फिल्में बनाने का फैसला किया और उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए मैं उन पर फिल्म बनाना चाहती थी। मैं उस समय की कोई फिल्म और वीडियो सामग्री नहीं पाकर हैरान थी और जब वह मान गई तो बहुत खुशी हुई। आज तक मेरी फिल्म ही ऐसी है जो कमला के जीवन की दुर्लभ झलक देती है।

मैंने फिल्म के लिए कमला को उनकी कविता सुनाई जो मेरी पसंदीदा थी, की हवां सी होती है लड़कियों, उन्हे बनने में मजा आता है, उन्हे मंजूर नहीं बेवजह रोका जाना।

उनके साथ काम करना एक आनंद था, वह जमीन से जुड़ी और सरल थी। वह असुरक्षित होने से नहीं डरती थी और अपने जीवन में खुले तौर पर हमारे साथ चलती थी। मुझे याद है कि फिल्मांकन के आखिरी दिन हम सब बहुत दुखी थे। हमारे पास इतना खूबसूरत समय था कि कोई नहीं चाहता था कि यह खत्म हो।

कमला भसीन अपने साहस और भारत में महिला आंदोलन और महिलाओं के इतिहास में भारी योगदान के लिए जानी जाती हैं। वह अपनी पीढ़ी की कई महिलाओं और अन्य के लिए एक प्रेरणा हैं। उन्होंने दक्षिण एशिया में अपने काम से इतिहास रचा है।

एक बच्चे के रूप में मैंने अपनी मां से 80 के दशक में उनके गौरवशाली महिला आंदोलन, समानता के लिए लड़ रही महिलाओं के बारे में कहानियां सुनीं थी। उनकी आत्मा आज भी हमें प्रेरणा देती है। मैं अपने काम के माध्यम से लचीलापन और आशा की ऐसी और कहानियां बताना चाहती हूं, ताकि हम कमला जैसी महिलाओं और उनकी विरासतों का सम्मान कर सकें, 21 वीं सदी की महिलाओं के रूप में आज हम जिस स्वतंत्रता और स्वतंत्रता का आनंद ले रहे हैं, उसके लिए उन्हें श्रद्धांजलि देते है।

कमला की ताकत उनके संचार में थी। वह किसी भी पृष्ठभूमि पर किसी से भी बात कर सकती थी और उनसे जुड़ सकती थी। इस कौशल ने कमला को अद्वितीय बना दिया था, और वह जल्दी ही भीड़ में पसंदीदा बन गई। उनमें अपार ऊर्जा थी और उन्होंने कभी काम करना बंद नहीं किया। वह गर्मी के दिनों में भी लगातार काम करती रहती थी। अपने दिन की शुरूआत योग से करती थी, और फिर अपनी लाल इलेक्ट्रिक कार से संगत क साउथ एशियन ऑर्गनाइजेशन फॉर विमेन में जाती थी।

वह अपनी बेटी मीतो के निधन से बहुत प्रभावित हुई थी और अपने बेटे छोटू के लिए चिंतित थी जो आत्मकेंद्रित से पीड़ित है। कमला का राजनीतिक जीवन बहुत प्रसिद्ध है और उनकी व्यक्तिगत यात्रा और बलिदानों को लोग कम ही जानते हैं। मेरी फिल्म दुनिया को उनके निजी जीवन से परिचित कराने का एक प्रयास थी।

कमला भसीन के जीवन ने मुझ जैसी कई महिलाओं को फिल्म टीवी और विज्ञापन उद्योग में बाधाओं को तोड़ने और अपनी विरासत स्थापित करने के लिए प्रेरित किया है। उन्होंने मेरे असली उद्देश्य मेरे काम के माध्यम से महिलाओं को सशक्त बनाना और उनका समर्थन करना को प्रकट करने में मदद की। इतना ही नहीं मेरी प्रोडक्शन टीम में हमेशा महिलाओं का बहुमत होता है। हम महिला प्रतिभा और चालक दल को आजमाने और नियोजित करने के लिए भी अपने रास्ते से हट जाते हैं। मैंने अपनी सफलता का उपयोग न केवल भारत में बल्कि दुनिया भर में महिलाओं को सशक्त बनाने और युवा फिल्म निमार्ताओं को सलाह देने के लिए किया है। वर्तमान में मैं फिल्मों का निर्माण कर रही हूं, मैं अपनी खुद की जगह बनाने और महिलाओं और उनके अनुभवों को प्रतिबिंबित करने वाली फिल्मों का निर्माण करने के लिए काफी मजबूत महसूस करती हूं।

कमला के शब्द और यात्रा मेरी स्मृति और आत्मा में अंकित हैं।

किसी दिन मैं उन पर एक पूर्ण-लंबाई वाली वृत्तचित्र और एक फीचर फिल्म का निर्माण करना पसंद करूंगी।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 30 Sep 2021, 02:25:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो