News Nation Logo

कश्मीरी पंडितों ने कहा, हमारी घर वापसी रोकने के लिए एक आतंकी योजना का हिस्सा हैं लक्षित हत्याएं

कश्मीरी पंडितों ने कहा, हमारी घर वापसी रोकने के लिए एक आतंकी योजना का हिस्सा हैं लक्षित हत्याएं

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 09 Oct 2021, 06:30:01 PM
Kahmiri Pandit

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

श्रीनगर: कश्मीरी पंडितों के एक संगठन ने शनिवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर में अल्पसंख्यकों की लक्षित हत्याएं उन्हें घाटी में लौटने से रोकने के लिए एक आतंकी योजना का हिस्सा हैं।

प्रवासियों के सुलह, वापसी और पुनर्वास के अध्यक्ष सतीश महलदार ने शनिवार को एक बयान में कहा, कश्मीर में अल्पसंख्यक नागरिकों की हालिया हत्याएं एक सुनियोजित आतंकी कार्रवाई की साजिश का हिस्सा हैं, जिसके मूल में घाटी में शेष अल्पसंख्यकों को खदेड़ना और भय की मनोविकृति पैदा करना है, ताकि कोई वापस न आ सके।

उन्होंने कहा, 2 अक्टूबर 2021 को, जब पूरी दुनिया गांधी जयंती पर अहिंसा दिवस मना रही थी, जम्मू एवं कश्मीर के अनंतनाग जिले में एक मंदिर को अपवित्र ( मंदिर में तोड़फोड़ की गई) कर दिया गया था, जिसका नाम दक्षिण कश्मीर जिले के मट्टन क्षेत्र में भार्गशिका भगवती माता मंदिर है।

महलदार ने आगे कहा, 5 अक्टूबर को, माखन लाल बिंदरू को आतंकवादियों ने गोली मार दी, जब वह श्रीनगर के इकबाल पार्क में अपनी दुकान में बैठा था और यह इलाका पुलिस और अर्धसैनिक प्रतिष्ठानों से भरा हुआ था। उसे कश्मीर से प्यार था।

उन्होंने कहा, वह कभी भी कश्मीर छोड़ना नहीं चाहता था, जब हम उसे छोड़ने के लिए कहते थे। वह अक्सर कहता था कि मैं अपनी जान दे दूंगा, लेकिन मैं इसे नहीं छोड़ूंगा।

उन्होंने कहा, बिंदरू भी उन कश्मीरी पंडित परिवारों में से थे, जिन्होंने लक्षित हत्याओं के बाद भी घाटी में रहने का विकल्प चुना था, जिसने 1990 के दशक में समुदाय के बड़े पैमाने पर पलायन को मजबूर किया था।

द रेजिस्टेंस फ्रंट नामक एक आतंकवादी समूह ने बिंदरू की हत्याओं की जिम्मेदारी ली और दावा किया कि वह एक चिकित्सा पेशेवर की पहचान के साथ लगभग 32 वर्षों तक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) द्वारा समर्थित गुप्त सेमिनार आयोजित कर रहे थे।

इसके अलावा हाल ही में आईडी कार्ड देखकर मुस्लिम और गैर-मुस्लिम शिक्षकों को अलग करने के बाद आतंकवादियों ने श्रीनगर के एक स्कूल में एक महिला प्रिंसिपल और शिक्षक (दोनों गैर-मुस्लिम) की गोली मारकर हत्या कर दी।

एक अन्य मृतक की पहचान बिहार के भागलपुर जिले के मूल निवासी वीरेंद्र पासवान के रूप में हुई, जो जादीबल के आलमगरी बाजार में रहता था।

वह पेशे से एक स्ट्रीट वेंडर (गली या सड़कों पर सामान बेचने वाला दुकानदार) था, जो श्रीनगर के हवाल इलाके में भेलपुरी बेचता था। रेजिस्टेंस फ्रंट ने उसकी हत्या की जिम्मेदारी लेते हुए दावा किया कि वह भारत सरकार की एजेंसियों के लिए ओडब्ल्यूजी था।

उन्होंने आगे कहा, हम मीडिया के माध्यम से कई बार भारत सरकार को सूचित कर चुके हैं, अन्यथा प्रवासी संकट सेल्स पोर्टल के लॉन्च से कुछ तिमाहियों में, विशेष रूप से भू-माफिया के संदर्भ में अल्पसंख्यक विरोधी भावना पैदा होगी।

उन्होंने कहा कि कश्मीर में सामान्य स्थिति बिगड़ने के बारे में समय से पहले आभास हो गया था और कश्मीरी पंडितों ने एलजी को लिखित में सूचित किया था कि ऐसी अफवाहें हैं कि कश्मीर में अल्पसंख्यकों को निशाना बनाया जाएगा।

महलदार ने कहा, दुर्भाग्य से एलजी के कार्यालय और सुरक्षा एजेंसियों ने हमारे इनपुट को नजरअंदाज कर दिया।

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि सुरक्षा एजेंसियों को इनपुट के बावजूद, केंद्र शासित प्रदेश सरकार और भारत सरकार कश्मीर के अल्पसंख्यकों को सुरक्षा प्रदान करने में विफल रही।

उन्होंने कहा, अब अल्पसंख्यकों/कश्मीर के कश्मीरी पंडितों की दुर्दशा का राजनीतिक उपयोग करना आसान हो गया है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 09 Oct 2021, 06:30:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो