News Nation Logo

BREAKING

Banner

न्यायमूर्ति शरद अरविंद बोबडे ने CJI पद की शपथ ली, देश के 47वें मुख्य न्यायाधीश बने

न्यायमूर्ति शरद अरविंद बोबडे ने सोमवार को देश के 47वें मुख्य न्यायाधीश (सीजेआई) पद की शपथ ली. राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने उन्हें सीजेआई पद की शपथ दिलाई. न्यायमूर्ति बोबडे 17 महीने तक उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश पद पर रहेंगे.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 18 Nov 2019, 10:00:21 AM
जस्टिस अरविंद बोबडे 47वें सीजेआई बनें.

जस्टिस अरविंद बोबडे 47वें सीजेआई बनें. (Photo Credit: एजेंसी)

highlights

  • न्यायमूर्ति शरद अरविंद बोबडे ने देश के 47वें सीजेआई पद की शपथ ली.
  • न्यायमूर्ति बोबडे 17 महीने तक उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रहेंगे.
  • जस्टिस बोबडे कई अहम मामलो में फैसला सुनाने वाली पीठ का हिस्सा रहे है.

New Delhi:

न्यायमूर्ति शरद अरविंद बोबडे ने सोमवार को देश के 47वें मुख्य न्यायाधीश (सीजेआई) पद की शपथ ली. राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने उन्हें सीजेआई पद की शपथ दिलाई. न्यायमूर्ति बोबडे 17 महीने तक उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश पद पर रहेंगे और 23 अप्रैल 2021 को सेवानिवृत्त होंगे. न्यायमूर्ति बोबडे महाराष्ट्र के वकील परिवार से आते हैं और उनके पिता अरविंद श्रीनिवास बोबडे भी मशहूर वकील थे. अरविंद शरद बोबडे ने कई ऐतिहासिक फैसलों में अहम भूमिका निभाई और हाल ही में अयोध्या के विवादित स्थल पर राम मंदिर बनाने का रास्ता साफ करने के फैसले में भी वह शामिल रहे हैं.

यह भी पढ़ेंः बीकानेर में भीषण सड़क हादसा, 10 की मौत 25 घायल

नागपुर में हुआ था जन्म
63 वर्षीय न्यायमूर्ति बोबडे ने मौजूदा मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई का स्थान लिया है. 24 अप्रैल 1956 में महाराष्ट्र के नागपुर में न्यायमूर्ति बोबडे का जन्म हुआ. उन्होंने नागपुर विश्वविद्यालय से कला एवं कानून में स्नातक की उपाधि हासिल की है. 1998 में न्यायमूर्ति बोबडे वरिष्ठ अधिवक्ता बने. उन्होंने 21 साल तक नागपुर पीठ में सेवाएं दीं. जस्टिस बोबडे कई अहम मामलो में फैसला सुनाने वाली पीठ का हिस्सा रहे है. इनमें अयोध्या भूमि विवाद, निजता का अधिकार को मौलिक अधिकार और आधार को लेकर दिए अहम फैसले शामिल हैं.

यह भी पढ़ेंः महाराष्ट्र में सरकार गठन पर सोनिया गांधी दुविधा में, आज शरद पवार संग बैठक कर खोलेंगी पत्ते

कोलेजियम के संदर्भ में अपनाएंगे पारंपरिक दृषिटकोण
ऐसा माना जा रहा है कि उच्च न्यायपालिका में न्यायाधीशों की नियुक्ति या उनके नाम को खारिज करने संबंधी कोलेजियम के फैसलों का खुलासा करने के मामले में वह पारंपरिक दृष्टिकोण अपनाएंगे. नामित मुख्य न्यायाधीश बोबडे ने एक साक्षात्कार में कहा कि लोगों की प्रतिष्ठा को केवल नागरिकों की जानने की इच्छा पूरी करने के लिए बलिदान नहीं किया जा सकता. न्यायाधीशों के खाली पड़े पदों और न्यायिक आधारभूत संरचना की कमी के सवाल पर न्यायमूर्ति बोबडे ने अपने पूर्ववर्ती सीजेआई गोगोई की ओर से शुरू किए गए कार्यों को तार्किक मुकाम पर पहुंचाने की इच्छा जताई है. न्यायमूर्ति गोगोई ने अदालतों में भर्तियों और आधारभूत संरचनाओं की कमी पर संज्ञान लिया और सभी राज्यों तथा संबंधित उच्च न्यायालयों को जरूरी कदम उठाने के निर्देश देने के साथ खुद निगरानी भी की थी.

यह भी पढ़ेंः अयोध्या फैसले पर पुनर्विचार याचिका को लेकर AIMPLB और सुन्नी वक्फ बोर्ड आमने-सामने

आधार पर फैसले वाली खंडपीठ में शामिल
अगस्त 2017 में तत्कालीन सीजेआई जेएस खेहर की अध्यक्षता में नौ न्यायाधीशों की पीठ ने एकमत से, निजता के अधिकार को भारत में संवैधानिक रूप से संरक्षित मूल अधिकार होने का फैसला दिया था. इस पीठ में भी न्यायमूर्ति बोबडे शामिल थे. न्यायमूर्ति बोबडे 2015 में उस तीन सदस्यीय पीठ में शामिल थे जिसने स्पष्ट किया कि भारत के किसी भी नागरिक को आधार संख्या के अभाव में मूल सेवाओं और सरकारी सेवाओं से वंचित नहीं किया जा सकता. हाल ही में न्यायमूर्ति बोबडे की अध्यक्षता वाली दो सदस्यीय पीठ ने बीसीसीआई का प्रशासन देखने के लिए पूर्व नियंत्रक एवं महालेखाकार विनोद राय की अध्यक्षता में बनाई गई प्रशासकों की समिति को निर्देश दिया कि वे निर्वाचित सदस्यों के लिए कार्यभार छोड़े.

First Published : 18 Nov 2019, 09:38:20 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो