News Nation Logo
भारत सभी देशों के अधिकारों का सम्मान करता है: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह हम अपने समुद्रों और विशेष आर्थिक क्षेत्र की रक्षा हर कीमत पर करेंगे: राजनाथ सिंह लालू ने सोनिया से समान विचारधारा वाले लोगों और पार्टियों को एक मंच पर लाने की बात कही सोनिया जी एक मजबूत विकल्प (सत्तारूढ़ पार्टी का) देने की दिशा में काम करें: लालू प्रसाद यादव मैंने सोनिया गांधी से बात की, उन्होंने मुझसे मेरी कुशलक्षेम पूछी: राजद नेता लालू प्रसाद यादव कांग्रेस महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी ने दिल्ली में बुलाई हाई लेवल बैठक पटना के गांधी मैदान बम ब्लास्ट मामले का एक आरोपी फखरुद्दीन को रिहा पटना के गांधी मैदान बम ब्लास्ट मामले में सजा 1 नवंबर को सुनाई जाएगी NIA की स्पेशल कोर्ट ने 10 आरोपियों में से नौ को दोषी करार दिया NCB के DDG ज्ञानेश्वर सिंह समेत NCB की 5 सदस्यीय टीम दिल्ली से मुंबई पहुंची NCB की टीम प्रभाकर के भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच करेगी प्रभाकर मुंबई के क्रूज़ ड्रग्स मामले में एक गवाह है सभी गवाहों के कॉल डिटेल की जांच हो: नवाब मलिक सीएम तीर्थयात्रा योजना में अयोध्या शामिल: अरविंद केजरीवाल, सीएम दिल्ली दिल्ली के लोग रामलला के दर्शन कर सकेंगे: अरविंद केजरीवाल, सीएम दिल्ली कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किया नई पार्टी बनाने का ऐलान, कहा- सभी 117 सीटों पर लड़ेंगे चुनाव पेगासस जासूसी मामले की जांच करेगी एक्सपर्ट कमेटी, सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश कोविड के चलते दक्षिण 24 परगना जिले के सोनारपुर इलाके में 3 दिन का लॉकडाउन बॉम्बे हाईकोर्ट में नवाब मलिक के खिलाफ PIL दायर, ड्रग्स केस में टिप्पणी से रोकने की मांग पंजाब में दिवाली पर 2 घंटे पटाखे चलाने की इजाजत, रात 8 से 10 बजे तक कर सकेंगे आतिशबाजी अक्टूबर महीने में 20वीं बार महंगा हुआ पेट्रोल और डीजल दिल्ली में पेट्रोल 35 पैसे और डीजल 35 पैसे प्रति लीटर महंगा हुआ पीएम मोदी आज ईस्ट एशिया समिट को संबोधित करेंगे, वर्चुअली होंगे शामिल

सहयोगियों के साथ दरार के बीच संयुक्त राष्ट्र की शुरूआत में बाइडन ने अथक कूटनीति का वादा किया

सहयोगियों के साथ दरार के बीच संयुक्त राष्ट्र की शुरूआत में बाइडन ने अथक कूटनीति का वादा किया

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 22 Sep 2021, 09:20:01 AM
Joe Biden

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

संयुक्त राष्ट्र: अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने संयुक्त राष्ट्र में एक भाषण में कहा कि अमेरिका दो दशक के अफगान युद्ध को समाप्त करने के बाद कूटनीति का एक नया अध्याय खोल रहा है।

बाइडन ने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा को अपने पहले संबोधन में कहा, हमने अफगानिस्तान में 20 साल के संघर्ष को समाप्त कर दिया है और जैसे ही हम अथक युद्ध के इस युग को बंद कर रहे हैं और कूटनीति के एक नए युग की शुरूआत कर रहे हैं।

अमेरिकी सेना ने अगस्त के अंत में बाइडन के आदेश के तहत अफगानिस्तान से अपनी वापसी पूरी कर अमेरिकी इतिहास में सबसे लंबे युद्ध को समाप्त किया।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, राष्ट्रपति ने कहा कि अमेरिकी सैन्य शक्ति हमारे अंतिम उपाय का उपकरण होनी चाहिए और हर वैश्विक समस्या के जवाब के रूप में इसका इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा, हमारी कई बड़ी चिंताओं को हथियारों के बल पर हल या संबोधित नहीं किया जा सकता है। बम और गोलियां कोविड -19 या इसके भविष्य के रूपों से बचाव नहीं कर सकती हैं।

इस महामारी से लड़ने के लिए, हमें विज्ञान और राजनीतिक इच्छाशक्ति के सामूहिक कार्य की आवश्यकता है।

बाइडन ने कहा कि अमेरिका अन्य प्रमुख शक्तियों के साथ कड़ाई से प्रतिस्पर्धा करेगा, जबकि इस बात पर जोर नहीं दिया जा रहा है कि एक नया शीत युद्ध या कठोर गुटों में विभाजित दुनिया की मांग नहीं है।

उन्होंने आगे कहा, संयुक्त राज्य अमेरिका किसी भी राष्ट्र के साथ काम करने के लिए तैयार है जो साझा चुनौतियों के लिए कदम उठाता है और शांतिपूर्ण समाधान का पीछा करता है, भले ही हमारे अन्य क्षेत्रों में तीव्र असहमति हो क्योंकि हम सभी अपनी विफलता के परिणाम भुगतेंगे अगर हम कोविड -19 और जलवायु परिवर्तन या परमाणु प्रसार जैसे स्थायी खतरों जैसे तत्काल खतरों से निपटने के लिए एक साथ नहीं आते हैं।

बाइडन ने कहा कि वाशिंगटन तेहरान के साथ कूटनीतिक रूप से जुड़ा रहेगा और ईरान परमाणु समझौते पर पारस्परिक वापसी की मांग करेगा। कोरियाई प्रायद्वीप के पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण को आगे बढ़ाने के लिए अमेरिका गंभीर और निरंतर कूटनीति चाहता है।

संयुक्त राष्ट्र महासभा में बाइडन की शुरूआत विवादास्पद विदेश नीति के फैसलों के बाद सहयोगियों के साथ पर्याप्त परामर्श के बिना हुई, जिसमें अफगानिस्तान से अराजक वापसी और ऑस्ट्रेलिया के साथ एक पनडुब्बी सौदे पर फ्रांस के साथ एक राजनयिक दरार शामिल है।

ऑस्ट्रेलिया, यूके और यूएस के बीच पिछले बुधवार को अनावरण की गई एक नई सुरक्षा साझेदारी के तहत, जिसे ऑकस के रूप में जाना जाता है, ऑस्ट्रेलिया यूएस और यूके तकनीक के साथ परमाणु-संचालित पनडुब्बियों का निर्माण करेगा।

ऑस्ट्रेलिया ने तब घोषणा की कि वह 12 पारंपरिक डीजल-इलेक्ट्रिक पनडुब्बियों को खरीदने के लिए 2016 में फ्रांस के साथ हुए समझौते को रद्द कर देगा।

बिना किसी नोटिस के अचानक किए गए कदम से नाराज फ्रांस ने शुक्रवार को परामर्श के लिए अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में अपने राजदूतों को वापस बुला लिया।

फ्रांस के विदेश मंत्री जीन-यवेस ली ड्रियन ने सोमवार को न्यूयॉर्क में कहा कि अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के बीच त्रिपक्षीय कदम सहयोगियों के बीच विश्वास के संकट का प्रतिनिधित्व करता है जिसके लिए स्पष्टीकरण की आवश्यकता होती है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 22 Sep 2021, 09:20:01 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.