News Nation Logo
शरद पवार के साथ मुलाकात के बाद ममता ने UPA केअस्तित्व पर उठाया सवाल ममता बनर्जी आज शाहरुख़ खान से कर सकती हैं मुलाकात 'सहायक प्रजनन प्रौद्योगिकी (विनियमन) विधेयक, 2020' लोकसभा में पारित राजस्थान में कोरोना ने पकड़ी स्पीड, 17 जिलों में 365 नए मरीज 75 चित्रकार यहां 3 दिन तक महाभारत से जुड़ी पेंटिंग बनाएंगे: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव (कुरुक्षेत्र) पर देश, विदेश के 3,700 कलाकार यहां आएंगे: मनोहर लाल खट्टर देश को एक मज़बूत वैकल्पिक फोर्स की जरूरत है: ममता बनर्जी मैं महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे और शरद पवार से मुलाक़ात करने के लिए आईं थीं: ममता बनर्जी कोविड के दोनों डोज लगे हैं, तो बिना RT-PCR के महाराष्ट्र में यात्रा करने की अनुमति अक्टूबर 2020 से अक्टूबर 2021 तक 32 जवान शहीद, गृह मंत्रालय ने संसद में दी जानकारी जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियां कम हुईं दिल्ली कैबिनेट का बड़ा फैसला, दिल्ली में पेट्रोल 8 रुपए सस्ता आईआरएस अधिकारी विवेक जौहरी ने CBIC के अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभाला निलंबित 12 विपक्षी सदस्य (राज्यसभा) निलंबन के विरोध में संसद में गांधी प्रतिमा के सामने धरने पर बैठे प्रश्नकाल के दौरान कांग्रेस और द्रमुक सांसदों ने लोकसभा से वाक आउट किया दिसंबर के पहले दिन ही महंगाई की मार, महंगा हो गया कॉमर्श‍ियल LPG सिलेंडर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन पर आज लोकसभा में होगी चर्चा UPTET पेपर लीक मामले में परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय उपाध्याय गिरफ्तार संसद भवन के कमरा नंबर 59 में लगी आग, बुझाने की कोशिश जारी पुलवामा एनकाउंटर में दो आतंकी ढेर, सर्च ऑपरेशन जारी

बेटे का नाम आते ही फफक-फफक कर रोने लगी शहीद की मां तो राष्ट्रपति ने दिखाया बड़ा दिल

1963 में बनी बन्दिनी फिल्म का यह गीत आज उस समय जीवंत हो उठा, जब एक मां देश के लिए शहीद हुए अपने लाल के शौर्य चक्र का सम्मान स्वीकार करने राष्ट्रपति भवन पहुंची. शौर्य चक्र के लिए जैसे ही बिलाल अहमद माग्रे के नाम की घोषणा हुईं तो उनकी मां सारा बेगम अप

News Nation Bureau | Edited By : Mohit Sharma | Updated on: 23 Nov 2021, 11:40:22 PM
Shaurya Chakra

Shaurya Chakra (Photo Credit: ANI)

नई दिल्ली:

मत रो माता लाल तेरे बहुतेरे...मत रो माता लाल तेरे बहुतेरे...जन्मभूमि के काम आया मैं बड़े भाग है मेरे...मत रो माता लाल तेरे बहुतेरे मत रो... 1963 में बनी बन्दिनी फिल्म का यह गीत आज उस समय जीवंत हो उठा, जब एक मां देश के लिए शहीद हुए अपने लाल के लिए शौर्य चक्र का सम्मान स्वीकार करने राष्ट्रपति भवन पहुंची. शौर्य चक्र के लिए जैसे ही बिलाल अहमद माग्रे के नाम की घोषणा हुईं तो उनकी मां सारा बेगम अपनी कुर्सी से खड़ी हुईं. सारा की आखों से आसुंओं की धारा बह रही थी...पांव कांप रहे थे. इस बेबस मां के दुख का अंदाजा शायद वहां बैठा हर शख्स लगा सकता था. साफ झलक रहा था कि सारा के दिल में रह-रह कर अपने बेटे बिलाल की याद उमड़ रही थी. एक मां का यह अश्रुपूर्ण रुदन देख हर कोई उसके दिल का हाल समझ रहा था. पूरा हॉल पिन ड्रॉप साइलेंस में बदल चुका था. डायस पर खड़े राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को भी शायद इसका अंदाजा हो चुका था. यही वजह है कि देश की आन के लिए कुर्बान होने वाले शेर को जन्म देने वाली मां को उन्होंने और कष्ट नहीं देना चाहा और अपना प्रोटोकॉल तोड़ खुद ही चलकर सारा के पास पहुंच गए और उनको सम्मानित किया. राष्ट्रपति भवन में शायद ही पहले कभी इतना भावुक कर देने वाला वाक्या किसी ने देखा हो.
 

...पूरा शरीर कांप रहा था

दरअसल, जम्मू-कश्मीर के एसपीओ बिलाल अहमद माग्रे ने 2019 में बारामूला में एक आतंकवादी हमले में अदम्य साहस का परिचय दिया था. एक आतंक विरोधी अभियान के दौरान गंभीर रूप से घायल हो चुके बिलाल ने न केवल नागरिकों को निकालना बल्कि आतंकवादियों को उलझाने का भी काम किया. इसके लिए उनको मरणोपरांत शौर्य चक्र से सम्मानित किया. इसके लिए उनकी मां सारा बेगम राष्ट्रपति भवन पहुंची थीं. लेकिन जैसे ही उनके सम्मान के लिए उनके बेटे का नाम बुला तो लाल खोने का दर्द उनकी आंखों से छलक आया और वो तेज-तेज रोने लगीं. उनका पूरा शरीर कांप रहा था. मानों कि जैसे गिर न जाएं. तभी वहां खड़े एक सुरक्षाकर्मी ने अपने साथी को सारा को संभालने का इशारा किया. तब तक राष्ट्रपति भी स्थित को पूरी तरह से भांप चुके थे. इसलिए वह खुद चलकर सारा के पास आ गए और उनको वहीं पर सम्मानित किया. जबकि प्रोटोकॉल के अनुसार सम्मान पाने वाले शख्स को राष्ट्रपति के पास मंच पर पहुंचना होता है. 

10 शौर्य चक्र सहित अन्य वीरता पुरस्कार

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सोमवार को सशस्त्र बलों के जवानों और शहीदों को वर्ष 2020 के लिए दो कीर्ति चक्र, एक वीर चक्र और 10 शौर्य चक्र सहित अन्य वीरता पुरस्कारों से सम्मानित किया. कोविंद सशस्त्र बलों के सर्वोच्च कमांडर हैं. उन्होंने कर्मियों को विशिष्ट वीरता, अदम्य साहस और कर्तव्य के प्रति अत्यधिक समर्पण के लिए पुरस्कार प्रदान किए. राष्ट्रपति भवन की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि यहां राष्ट्रपति भवन में सुबह में पहले चरण और शाम को दूसरे चरण में आयोजित रक्षा अलंकरण समारोह के दौरान पुरस्कार प्रदान किए गए. दो में से एक कीर्ति चक्र और 10 में से दो शौर्य चक्र शहीदों को मरणोपरांत दिए गए... कीर्ति चक्र, वीर चक्र और शौर्य चक्रों के अलावा, राष्ट्रपति ने 13 परम विशिष्ट सेवा पदक, दो उत्तम युद्ध सेवा पदक और 24 अति विशिष्ट सेवा पदक भी प्रदान किए. पुरस्कार समारोह के दौरान सबसे मार्मिक क्षण वे क्षण थे, जब मरणोपरांत पुरस्कार पाने वालों में से तीन के प्रशस्ति पत्र पढ़े गए.

First Published : 23 Nov 2021, 11:30:28 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो