News Nation Logo
पन्ना: देर रात तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक सवारों को रौंदा पन्ना: बाइक सवार दो लोगों की घटनास्थल पर दर्दनाक मौत, एक गंभीर घायल पन्ना: बनहरी गांव के बताए जा रहे हैं दोनों मृतक Police Commemoration Day के लिए आज राष्ट्रीय पुलिस स्मारक पर फुल ड्रेस रिहर्सल का आयोजन किया गया नैनीताल: मलबे, बॉल्डर और पेड़ो की चपेट में आए तीन घर नैनीताल के बिरला क्षेत्र के कुमाऊं लॉज में देर रात भारी भूस्खलन गृह मंत्री अमित शाह ने भाजपा के 'सेवा ही संगठन' कार्यक्रम के तहत 'मोदी वैन' पहल को हरी झंडी दिखाई मैं PM नरेंद्र मोदी, अमित शाह, जे.पी. नड्डा और राजनाथ सिंह का आभार व्यक्त करता हूं: बाबुल सुप्रियो जिस पार्टी के लिए मैंने 7 साल मेहनत की, उसे छोड़ते वक्त दिल व्यथित था: बाबुल सुप्रियो बिहार: CBSE ने 10वीं और 12वीं कक्षा के टर्म-1 की डेटशीट जारी की युवाओं को रोजगार देने दिल्ली सरकार लांच करेगी रोजगार 2.0 एप सेना प्रमुख एमएम नरवणे जम्मू के दो दिवसीय दौरे पर, लेंगे सुरक्षा का जायजा बांग्लादेश में हिंदुओं पर हो रहे हमलों को लेकर देश में उबाल नैनीताल में बादल फटने से तबाही का आलम. रामनगर के रिसॉर्ट में 100 लोग फंसे उत्तराकंड के सीएम ने जलप्रलय वाले स्थानों का दौरा किया

जयशंकर का पाकिस्तान को कड़ा संदेश, कहा-आतंक का पोषण करने वाले ही होंगे शिकार

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने मंगलवार को सीमा पार आतंकवाद के खिलाफ पाकिस्तान के समर्थन करने पर इस आतंकी देश को कड़ा संदेश दिया है. जयशंकर ने कहा कि आतंकवाद, कट्टरता और हिंसा जैसी ताकतें उन्हें पोषित करने वालों का शिकार करने वापस आती हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Vijay Shankar | Updated on: 12 Oct 2021, 10:33:36 PM
jayshankar

jayshankar (Photo Credit: File Photo)

highlights

  • जयशंकर ने किर्गिस्तान में छठी मंत्रिस्तरीय बैठक में लिया हिस्सा
  • चीन के बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव को लेकर भी निशाना साधा
  • कोरोना-जलवायु परिवर्तन की तरह आतंकवाद के खिलाफ एकजुट होने की जरूरत

नई दिल्ली:

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने मंगलवार को सीमा पार आतंकवाद के खिलाफ पाकिस्तान के समर्थन करने पर इस आतंकी देश को कड़ा संदेश दिया है. जयशंकर ने कहा कि आतंकवाद, कट्टरता और हिंसा जैसी ताकतें उन्हें पोषित करने वालों का शिकार करने वापस आती हैं. जयशंकर ने किर्गिस्तान में एशिया में बातचीत और विश्वास निर्माण उपायों की छठी मंत्रीस्तरीय बैठक में चीन के बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (BRI) पर निशाना साधते हुए कहा कि सभी कनेक्टिविटी परियोजनाओं के केंद्र में राष्ट्रों की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान होना चाहिए. यह टिप्पणी 15 अगस्त को काबुल के तालिबान अधिग्रहण के बाद अफगानिस्तान में पाकिस्तान की भूमिका पर नई दिल्ली में बढ़ती चिंताओं की पृष्ठभूमि के खिलाफ आई है.

यह भी पढ़ें : पाक की नई दंगाई साजिश, अब हाइब्रिड आतंकी मार रहे हिंदू-सिख को

भारत ने चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) जैसे बीआरआई के तहत पहल का भी विरोध किया है क्योंकि पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के माध्यम से एक महत्वपूर्ण गलियारा गुजरता है. जयशंकर ने आतंकवाद को सीआईसीए के सदस्यों के लिए शांति और विकास के सामान्य लक्ष्य का सबसे बड़ा दुश्मन बताया, जो एशिया में सुरक्षा और स्थिरता को बढ़ावा देने के लिए सहयोग के दृष्टिकोण से बहुराष्ट्रीय मंच है. इसे वर्ष 1999 में कजाकिस्तान के नेतृत्व में स्थापित किया गया था. हम एक राज्य द्वारा दूसरे के खिलाफ आतंकवाद का उपयोग का सामना नहीं कर सकते हैं.

जयशंकर ने पाकिस्तान के लिए एक स्पष्ट संदर्भ में कहा कि सीमा पार से आतंकवाद कोई राजकाज नहीं है. यह आतंकवाद का एक और रूप है. “अंतरराष्ट्रीय समुदाय को इस खतरे के खिलाफ एकजुट होना चाहिए जैसा कि जलवायु परिवर्तन और महामारी जैसे मुद्दों पर गंभीरता से होता है. अतिवाद, कट्टरपंथ, हिंसा और कट्टरता का इस्तेमाल हितों को आगे बढ़ाने के लिए किया जा सकने वाला कोई भी आकलन बहुत ही अदूरदर्शी है. ऐसी ताकतें उन लोगों को परेशान करने के लिए वापस आएंगी जो उनका पालन-पोषण करते हैं. उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में स्थिरता की कोई भी कमी कोविड-19 को नियंत्रण में लाने के सामूहिक प्रयासों को कमजोर करेगी और इसलिए अफगानिस्तान की स्थिति गंभीर चिंता का विषय है. 

First Published : 12 Oct 2021, 10:21:05 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो