News Nation Logo
Banner

भारत और ऑस्ट्रेलिया ने क्वाड को एशियाई नाटो कहने वाले चीन के बयान को किया खारिज

भारत और ऑस्ट्रेलिया ने क्वाड को एशियाई नाटो कहने वाले चीन के बयान को किया खारिज

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 11 Sep 2021, 11:45:01 PM
jaihankar

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: भारत और ऑस्ट्रेलिया ने शनिवार को संयुक्त रूप से चीन के इस दावे को खारिज कर दिया कि क्वाड एशियाई नाटो (उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन) के समान है।

क्वाड भारत, ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका और जापान का गठजोड़ है। क्वाड, आधिकारिक तौर पर चतुर्भुज सुरक्षा संवाद, तीन देशों के एक अनौपचारिक समूह के रूप में सामने आया है, जिसमें अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान शामिल थे और बाद में इस समूह में भारत भी शामिल हो गया।

वहीं 1949 में गठित, नाटो लोकतांत्रिक मूल्यों को बढ़ावा देने और विवादों के शांतिपूर्ण समाधान के लिए प्रतिबद्धता को बढ़ावा देने के लिए 28 यूरोपीय देशों और दो उत्तरी अमेरिकी देशों का एक सैन्य गठबंधन है।

स्वतंत्र, खुले और समावेशी क्षेत्र-आधारित अंतरराष्ट्रीय कानून को बढ़ावा देने वाले इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में बढ़ते क्वाड प्रभाव के साथ, चीन इसे एशियाई नाटो के रूप में बुला रहा है।

शनिवार को यहां भारत-ऑस्ट्रेलिया टू प्लस टू मंत्रिस्तरीय वार्ता के बाद, भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा, क्वाड एक ऐसा मंच है, जहां चार देश अपने लाभ और दुनिया के लाभ के लिए सहयोग करने आए हैं।

चीन की ओर से क्वाड को एशियाई नाटो के रूप में संदर्भित किए जाने पर जयशंकर ने कहा, पीछे मुड़कर देखें, तो मुझे लगता है कि नाटो जैसा शब्द शीत युद्ध का शब्द है। क्वाड भविष्य को देखता है। यह वैश्वीकरण और एक साथ काम करने के लिए देशों की मजबूरी को दिखाता है।

चीन द्वारा क्वाड देशों को एशियाई नाटो कहने के सवाल पर विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा, क्वाड देशों का ²ष्टिकोण साफ है। हम कोरोना महामारी के खिलाफ वैक्सीनेशन, सप्लाई चेन और शिक्षा पर जोर देते हैं। इसलिए क्वाड को एशियाई नाटो कहना गलत धारणा है, क्योंकि नाटो एक शीतयुद्ध की शब्दावली है। उन्होंने कहा कि ये पूरी तरह से एक राजनयिक-गठजोड़ है।

जयशंकर के ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष मारिस पायने ने भी चीन के दावों पर इसी तरह के विचार व्यक्त किए।

ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्री पायने ने कहा, जैसा कि ऑस्ट्रेलिया और भारत ने संबंधों को फिर से सक्रिय किया है, यह छोटे समूहों जैसे क्वाड या आसियान जैसे क्षेत्रीय वास्तुकला के अन्य टुकड़ों के माध्यम से काम करने का अवसर भी है। क्वाड सदस्य आसियान की केंद्रीयता के चैंपियन हैं।

उन्होंने आगे कहा, ऑस्ट्रेलिया और भारत स्वतंत्र, खुले और सुरक्षित इंडो-पैसिफिक की सकारात्मक ²ष्टि साझा करते हैं। पिछले महीने काबुल का पतन देखा गया, अफगानिस्तान का भविष्य केंद्रीय चिंता का विषय है। हम यह सुनिश्चित करते हुए मजबूत हित साझा करते हैं कि अफगान, फिर कभी आतंकवादियों के प्रजनन, प्रशिक्षण के लिए सुरक्षित आश्रय स्थल न बने। हम नागरिकों, विदेशी नागरिकों, अन्य देशों के वीजा धारकों के लिए सुरक्षित मार्ग की तलाश पर भी बहुत ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, जो अफगानिस्तान छोड़ना चाहते हैं।

क्वाड लीडरशिप समिट 24 सितंबर को होने की संभावना है और इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित क्वाड सदस्य देशों के प्रमुखों के भाग लेने की उम्मीद है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 11 Sep 2021, 11:45:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.