logo-image
लोकसभा चुनाव

World Yoga Day: 21 जून को मनाया जाएगा अंतरराष्ट्रीय योग दिवस, इस वर्ष की थीम महिला सशक्तिकरण, जानें सब कुछ

हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाएगा. दुनिया भर के इस दिन योग करने साथ में जुटते हैं. इस वर्ष अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की थीम ‘महिला सशक्तिकरण के लिए योग’ है.

Updated on: 18 Jun 2024, 01:04 PM

नई दिल्ली:

हर साल 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है. दुनिया भर के लोग इस दिन साथ में योग करते हैं. 21 जून योग के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए समर्पित है. योग शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है और इसके महत्व को दिखाने के लिए पूरी दुनिया के लोग एक साथ 21 जून को योग करते हैं. इस वर्ष अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का विषय ‘महिला सशक्तिकरण के लिए योग’ है. यह महिलाओं के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को बढ़ाने पर केंद्रित है. योग को बढ़ावा देने के लिए वैश्विक स्तर पर कई अलग-अलग कार्यक्रम और सत्र आयोजित किए जाएंगे. बता दें, पिछले वर्ष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राज्य मुख्यालय में संयुक्त राष्ट्र प्रमुख सहित कई नामचीन हस्तियों के साथ योग किया था.

योग दिवस का प्रचलन कैसे और कब हुआ
अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस हर वर्ष 21 जून को मनाया जाता है. खास बात यह है कि इस दिन ग्रीष्म संक्रांति होती है. यह उत्तरी गोलार्द्ध में साल का सबसे लंबा दिन होता है. 21 जून विश्व के कई हिस्सों मे खासा महत्व रखता है. योग परंपराओं में इसे शुभ माना जाता है. अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत 27 सितंबर 2014 को हुई. इस दिन भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में इस विचार का प्रस्ताव रखा. उन्होंने अपने भाषण में योग के कई लाभों पर जोर दिया. उन्होंने योग को उत्सव  के रूप में मनाने के लिए 21 जून का दिन सुझाया था. पीएम मोदी के प्रस्ताव को भारी समर्थन मिला. 177 देशों ने पीएम मोदी के प्रस्ताव को सराहा और अपना समर्थन दिया. 11 दिसंबर 2014 को यूएनजीए ने आधिकारिक तौर पर 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में घोषित किया. पहला योग दिवस 21 जून 2015 को मनाया गया. 

योग भारत की प्राचीन संस्कृृति, मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए लाभदायक
बता दें, योग एक प्राचीन अभ्यास है. इसकी उत्पत्ति पांच हजार वर्ष पहले भारत में हुई थी. योग शब्द का जन्म संस्कृत भाषा से हुआ है. इसका अर्थ है जुड़ना या फिर एकजुट होना. अपने नाम के मुताबिक, योग से शरीर और चेतना का मिलान होता है. नियमित योग शारीरिक स्वास्थ्य, शारीरिक लचीलापन, शक्ति और मुद्रा को बढ़ाता है. योग के नियमित अभ्यास से उच्च रक्तचाप, मधुमेह और गठिया जैसी बीमारियों से राहत मिलती है. योग मानसिक स्वास्थ्य को भी बढ़ावा देता है. योग तनाव, चिंता और अवसाद को कम करके मानसिक स्वास्थ्य को मजबूत करता है. योग आत्म-जागरूकता, सचेतनता और आंतरिक शांति को प्रोत्साहित करता है.