News Nation Logo
चाहें तो गोली मरवा सकते हैं और कुछ नहीं कर सकते: लालू प्रसाद यादव के बयान पर नीतीश कुमार आर्यन खान की जमानत पर बॉम्बे हाईकोर्ट में कल फिर होगी सुनवाई बिजनेस के सिलसिले में उनसे बातचीत होती थी: हैनिक बाफना प्रभाकर ने मेरा नाम क्यों लिया मैं नहीं जानता: हैनिक बाफना भारत के पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी आर्यन खान की ओर से कर रहे हैं दलील पेश प्रभाकर को अच्छी तरह जानता हूं: हैनिक बाफना मेरे खिलाफ कोई सुबूत नहीं: हैनिक बाफना अगर सुबूत है तो प्रभाकर लाकर दिखाएं: हैनिक बाफना टीम इंडिया के मुख्य कोच पद के लिए राहुल द्रविड़ ने किया आवेदन वीवीएस लक्ष्मण के NCA में पदभार संभालने की संभावना आर्यन खान के वकील ने HC में दाखिल किया हलफनामा HC में आर्यन खान की जमानत याचिका पर सुनवाई शुरू पश्चिम बंगाल में तंबाकू और निकोटिन वाले गुटखा-पान मसाला एक साल के लिए बैन कोवैक्सीन को मिल सकती है अंतरराष्ट्रीय मंजूरी, डब्ल्यूएचओ की बैठक आज उमर मलिक के बेटे पर यूपी सरकार कसेगी शिकंजा, एडमिशन के नाम पर रेस का आरोप पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह कल प्रेसवार्ता कर नई पार्टी का ऐलान कर सकते हैं अरविंद केजरीवाल का ऐलान - यूपी में सरकार बनी तो मुफ्त में अयोध्या की तीर्थ यात्रा कराएंगे

खुफिया एजेंसियों ने सुरक्षा बलों को संवेदनशील स्थानों पर सोशल मीडिया से बचने का सुझाव दिया

खुफिया एजेंसियों ने सुरक्षा बलों को संवेदनशील स्थानों पर सोशल मीडिया से बचने का सुझाव दिया

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 29 Sep 2021, 03:55:01 PM
Intel agencie

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: तालिबान के काबुल पर कब्जा करने के बाद जम्मू-कश्मीर और पश्चिमी सीमाओं में सुरक्षा की कड़ी स्थिति के बीच, खुफिया एजेंसियों ने सरकार को अपनी ताजा रिपोर्ट में सुझाव दिया है कि सुरक्षा कर्मियों को संवेदनशील स्थानों विशेषकर सीमावर्ती क्षेत्रों में विभिन्न सोशल मीडिया साइटों का उपयोग करने से बचना चाहिए।

ताजा खुफिया इनपुट के हवाले से सूत्रों ने कहा कि निगरानी एजेंसियों ने पाकिस्तान की इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) द्वारा छद्म पहचान के साथ फेसबुक, इंस्टाग्राम, टेलीग्राम और अन्य सोशल नेटवर्क पर सोशल मीडिया समूहों में घुसपैठ करने के कई प्रयासों को देखा है।

सूत्रों ने यह भी कहा कि केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सीएपीएफ) में हाई-अप को केवल सुरक्षित संचार नेटवर्क पर फील्ड संरचनाओं के साथ संवाद करना चाहिए और इलेक्ट्रॉनिक्स मंत्रालय के तहत राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) द्वारा सरकारी ईमेल नेटवर्क का उपयोग करना चाहिए।

सुरक्षा कर्मियों को अन्य सामाजिक नेटवर्क से व्हाट्सएप कॉल और कॉल करने से भी रोका गया है ताकि वे अपने परिवारों या यहां तक कि अपने सहयोगियों के साथ संवाद कर सकें, खासकर यदि वे संवेदनशील स्थानों पर तैनात हैं।

अलर्ट में कहा गया है कि किसी भी मामले में, इकाइयों या बटालियनों या यहां तक कि छुट्टी पर जाने वाले कर्मियों की आवाजाही का विवरण सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर साझा नहीं किया जाना चाहिए। सुरक्षाबलों के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि ये करें और क्या न करें, यह प्रत्येक कर्मियों के लिए प्रोटोकॉल का हिस्सा रहा है और बलों में सभी द्वारा इसका पालन किया गया है।

खुफिया एजेंसियों ने उन रिपोर्टों की पुष्टि की है कि आईएसआई संवेदनशील जानकारी इकट्ठा करने के लिए सुरक्षा बलों के व्हाट्सएप समूहों में घुसपैठ करने की कोशिश कर रहा है।

एजेंसियों ने देखा है कि छद्म पहचान वाले कई समूह फेसबुक, व्हाट्सएप, टेलीग्राम, सिग्नल, वीचैट आदि में घुसपैठ करने की कोशिश कर रहे हैं, और उन्हें अज्ञात नंबरों या समूहों द्वारा सोशल नेटवर्क पर किसी भी निमंत्रण को स्वीकार नहीं करने के लिए कहा गया है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 29 Sep 2021, 03:55:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो