News Nation Logo

वुहान लैब लीक को लेकर भारतीय वैज्ञानिकों ने पहले ही जता दिया था संदेह

कोविड महामारी की उत्पत्ति की गहन जांच की मांग के बीच, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) दिल्ली के भारतीय वैज्ञानिक उन लोगों में शामिल थे जिन्होंने कथित तौर पर लैब-रिसाव थ्योरी को लेकर संदेह जताया था.

News Nation Bureau | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 06 Jun 2021, 06:25:22 PM
indian scientist delhi iit

सांकेतिक चित्र (Photo Credit: आईएएनएस)

नई दिल्ली:

कोविड महामारी की उत्पत्ति की गहन जांच की मांग के बीच, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) दिल्ली के भारतीय वैज्ञानिक उन लोगों में शामिल थे जिन्होंने कथित तौर पर लैब-रिसाव थ्योरी को लेकर संदेह जताया था. आईआईटी दिल्ली में कुसुमा स्कूल ऑफ बायोलॉजिकल साइंसेज में जीवविज्ञानियों की एक टीम ने 22-पेज का एक शोध पत्र लिखा, जिसे पिछले साल 31 जनवरी को बायोरेक्सिव पर प्री-प्रिंट के रूप में जारी किया गया था. एमआईटी टेक्नोलॉजी की रिव्यू रिपोर्ट के अनुसार, इसने सार्स-सीओवी-2 और एचआईवी के पहलुओं के बीच एक 'अलौकिक समानता' का सुझाव दिया था.

मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि वायरस की प्रोटीन संरचना का अध्ययन करते हुए, टीम ने नोवेल कोरोनावायरस ग्लाइकोप्रोटीन में चार अनोखे इंसर्ट पाए, जो किसी अन्य कोरोनावायरस में नहीं देखे गए. वायरस को पहचानने और मनुष्यों में अपने मेजबान कोशिकाओं पर लैच और फिर गुणा करने के लिए आवेषण महत्वपूर्ण हैं.हालांकि, इसपर आलोचनाओं को झेलने के बाद पोस्ट किए जाने के तुरंत बाद इस पेपर को वापस ले लिया गया था. यह पहला वैज्ञानिक अध्ययन था जो वायरस के इंजीनियर्ड होने की संभावना का संकेत देता था.

विभिन्न वैज्ञानिकों और विशेषज्ञों ने इस सिद्धांत की ओर इशारा करते हुए परिस्थितिजन्य साक्ष्यों का ढेर लगाया है कि कोरोनावायरस वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (डब्ल्यू) से लीक हो सकता है. इस सूची में पुणे स्थित वैज्ञानिक संपत्ति राहुल बाहुलकर और मोनाली राहलकर भी शामिल हैं.  राहलकर बायोएनेर्जी ग्रुप, अगरकर रिसर्च इंस्टीट्यूट, पुणे में वैज्ञानिक हैं. बाहुलकर बीएआईएफ डेवलपमेंट एंड रिसर्च फाउंडेशन, पुणे में वैज्ञानिक हैं. लैब-रिसाव सिद्धांत को काफी पहले एक साजिश के रूप में खारिज कर दिया गया है, अब इसे अनदेखा करना बहुत मुश्किल हो गया है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, बाहुलकर और राहलकर ने मार्च 2020 के अंत में कोविड-19 की उत्पत्ति का पता लगाने के लिए एक ऑनलाइन अभियान शुरू किया था. 
उन्होंने कोरोनावायरस और कोविड -19 पर कई वैज्ञानिक पत्र पढ़े और पाया कि सार्स-सीओवी-2, आरएटीजी13 के रिलेटिव डब्ल्यूआईवी द्वारा दक्षिण चीन के युन्नान प्रांत के मोजियांग में एक खदान से एक कोरोनावायरस इकट्ठा किया गया था. उन्होंने यह भी पाया कि खदान में चमगादड़ थे और मल की सफाई के लिए काम पर रखे गए छह खनिक निमोनिया जैसी बीमारी से संक्रमित थे.

उन्होंने विज्ञान पत्रिका नेचर में अपने निष्कर्ष प्रकाशित किए, जिसके बाद उन्हें सीकर नामक एक ट्विटर उपयोगकर्ता ने संपर्क किया. सीकर 'ड्रास्टिक' नामक शौकिया जासूसों के एक समूह का हिस्सा रहा है, जो कुछ संसाधनों के साथ डब्ल्यूआई के काले रहस्यों को उजागर करने के लिए काम कर रहे हैं. ड्रास्टिक का मतलब है "कोविड -19 की जांच करने वाली विकेन्द्रीकृत कट्टरपंथी स्वायत्त खोज टीम और इसने खुद को सार्स-सीओवी-2 की उत्पत्ति की खोज करने का मिशन निर्धारित किया है.

न्यूजवीक ने बताया कि ड्रास्टिक के लिए धन्यवाद, अब हम जानते हैं कि डब्ल्यू के पास बल्ले की गुफाओं में कई वर्षों से इक्ठ्ठे कोरोनावायरस का एक व्यापक संग्रह था. उनमें से कई - महामारी वायरस, सार्स-सीओवी-2 के सबसे करीबी रिश्तेदार सहित एक खदान से आया था जहां 2012 में एक संदिग्ध सार्स जैसी बीमारी से तीन लोगों की मौत हो गई थी. मीडिया रिपोटरें में कहा गया है कि वैज्ञानिक-जोड़ी ने कहा था कि कोविड -19 की उत्पत्ति जानवरों से मनुष्यों में छलांग लगाने वाले प्राकृतिक संक्रमण के रूप में होने के दावे का कोई प्रमाण नहीं है.

उनके अनुसार, सार्स-सीओवी2, कोविड -19 के पीछे के वायरस की संरचना से पता चलता है कि यह मनुष्यों को संक्रमित करने के लिए तैयार था, यह दर्शाता है कि यह एक प्रयोगशाला से आया होगा. उन्होंने विश्व स्वास्थ्य संगठन से लैब लीक थ्योरी की गहराई से जांच करने का अनुरोध किया है. इस बीच, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने भी हाल ही में बुद्धिमान समुदाय को प्रयोगशाला दुर्घटना सिद्धांत सहित वायरस की उत्पत्ति कैसे हुई, इसकी जांच करने के लिए दोबारा प्रयास करने का आदेश दिया है. 
यूरोपीय संघ, यूके, ऑस्ट्रेलिया और जापान भी महामारी की उत्पत्ति की गहन जांच की मांग में अमेरिका के साथ शामिल हो गए हैं. मीडिया रिपोटरें में उल्लेख किया गया है चीन के विदेश मंत्रालय ने पिछले हफ्ते वुहान लैब लीक थ्योरी को 'बेहद असंभव' के रूप में खारिज कर दिया है और अमेरिका पर 'राजनीतिक हेरफेर' का आरोप लगाया है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 06 Jun 2021, 06:19:56 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.