News Nation Logo
कोविड के खिलाफ लड़ाई में भी भारत और रूस के बीच सहयोग: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत में 85 फीसदी पात्र आबादी को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लगा दी गई है: मनसुख मंडाविया दिल्ली में इस साल डेंगू से अब तक 15 मरीजों की मौत बीते 6 साल में डेंगू से मौत का सबसे बड़ा आंकड़ा शाही ईदगाह मस्जिद की जगह पर भव्य श्रीकृष्ण मंदिर के निर्माण के लिए संकल्प यज्ञ किया गया ओमिक्रोन के अलर्ट के बीच पटना में 100 विदेशियों की तलाश भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से हराकर टेस्ट मैच श्रृंखला 1-0 से जीती टीम इंडिया ने घर में लगातार 14वीं टेस्ट सीरीज जीती न्यूजीलैंड पर 372 रनों से जीत रनों के लिहाज से भारत की टेस्ट मैचों में सबसे बड़ी जीत है उत्तराखंड के चमोली में देवल ब्लॉक के ब्रह्मताल ट्रेक मार्ग पर बर्फबारी हुई रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर के साथ नई दिल्ली में बैठक की

भारतीय, चीनी छात्रों ने ऑस्ट्रेलियाई विश्वविद्यालयों से बनाई दूरी

भारतीय, चीनी छात्रों ने ऑस्ट्रेलियाई विश्वविद्यालयों से बनाई दूरी

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 11 Nov 2021, 03:20:01 PM
Indian, Chinee

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: मार्च 2020 में अपनी सीमाओं को बंद करने के ऑस्ट्रेलिया के फैसले ने छात्रों को पढ़ने के लिए कहीं और जाने के लिए मजबूर कर दिया है। अल जजीरा के अनुसार शिक्षा, कौशल और रोजगार डेटा विभाग के मुताबिक, इस साल अगस्त तक 20 महीने की अवधि में अंतर्राष्ट्रीय नामांकन में 2,00,000 से अधिक की गिरावट आई है।

चीन, भारत और अन्य एशियाई देशों के छात्र लंबे समय से ऑस्ट्रेलिया के उच्च रैंकिंग वाले विश्वविद्यालयों, अंग्रेजी बोलने वाले वातावरण और आरामदायक जीवन शैली के कारण अध्ययन के लिए आकर्षित हुए हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि महामारी से पहले, अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा ने अर्थव्यवस्था में 40 अरब डॉलर का योगदान दिया है, जिससे यह क्षेत्र लौह अयस्क, कोयला और गैस के बाद चौथा सबसे बड़ा निर्यात हुआ।

रिपोर्ट में कहा गया है कि आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (ओईसीडी) के आंकड़ों के अनुसार, विकसित देशों में औसतन 6 प्रतिशत की तुलना में 2019 में अंतर्राष्ट्रीय छात्रों ने सभी विश्वविद्यालय नामांकन में 21 प्रतिशत का योगदान दिया है।

अगस्त में, विदेशी छात्रों की संख्या 2015 के बाद से सबसे कम संख्या दर्ज की गई, जो कि केवल 5,50,000 से अधिक थी।

चीनी नागरिकों ने विदेशी छात्रों का सबसे बड़ा अनुपात बनाया, इसके बाद भारत, नेपाल, वियतनाम और मलेशिया से आए।

इस महीने की शुरूआत में, रिक्रूटमेंट प्लेटफॉर्म एडवेंटस ने बताया कि मार्च के बाद से अंतर्राष्ट्रीय छात्रों के आवेदन में 51 फीसदी की गिरावट आई है, जबकि कनाडा, यूके और यूएस में आवेदनों में 148-422 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।

हालांकि ऑस्ट्रेलिया ने 1 नवंबर को नागरिकों और स्थायी निवासियों के लिए अपनी सीमाओं को फिर से खोल दिया है, लेकिन सरकार ने इसके लिए कोई टाइम टेबल प्रदान नहीं की है कि अंतर्राष्ट्रीय छात्र सामूहिक रूप से देश में कब लौट पाएंगे।

विक्टोरिया और न्यू साउथ वेल्स सहित राज्यों और क्षेत्रों ने अगले महीने से बेहद सीमित संख्या में अंतर्राष्ट्रीय छात्रों का स्वागत करने के लिए पायलट योजनाओं की घोषणा की है। संघीय शिक्षा मंत्री एलन टुडगे ने अक्टूबर में कहा था कि उन्हें उम्मीद है कि अगले साल किसी समय हजारों छात्र वापस आ सकेंगे।

लगभग 1,45,000 छात्र वीजा धारक वर्तमान में अपनी पढ़ाई स्थगित करने या ऑनलाइन अपना कोर्सवर्क करने का विकल्प चुनने के बाद विदेशों में हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी में उच्च शिक्षा नीति के विशेषज्ञ एंड्रयू नॉर्टन ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय नामांकन 2019 के स्तर पर जल्द ही वापस नहीं आएंगे, लेकिन लंबी अवधि के प्रक्षेपवक्र की भविष्यवाणी करना मुश्किल था।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 11 Nov 2021, 03:20:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.