News Nation Logo

भारत और अमेरिका इक्व लाइसेशन लेवी 2020 को लेकर एक संक्रमणकालीन दृष्टिकोण पर सहमत

भारत और अमेरिका इक्व लाइसेशन लेवी 2020 को लेकर एक संक्रमणकालीन दृष्टिकोण पर सहमत

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 25 Nov 2021, 12:10:01 PM
India, US

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: भारत और अमेरिका इक्व लाइसेशन लेवी 2020 पर संक्रमणकालीन दृष्टिकोण पर सहमत हुए हैं।

वित्त मंत्रालय के अनुसार, भारत और अमेरिका यह सुनिश्चित करने के लिए निकट संपर्क में रहेंगे कि संबंधित प्रतिबद्धताओं की एक समान समझ है और रचनात्मक बातचीत के माध्यम से इस मामले पर विचारों के किसी भी मतभेद को हल करने का प्रयास किया जाएगा।

समझौते की अंतिम शर्तों को 1 फरवरी, 2022 तक अंतिम रूप दिया जाएगा।

विशेष रूप से, 8 अक्टूबर, 2021 को, भारत और अमेरिका ओईसीडी या जी20 समावेशी ढांचे के 134 अन्य सदस्यों में शामिल हुए, जिसमें अर्थव्यवस्था के डिजिटलीकरण से उत्पन्न होने वाली कर चुनौतियों का समाधान करने के लिए एक दो-स्तंभ समाधान पर वक्तव्य पर समझौता हुआ।

इसके अलावा, 21 अक्टूबर, 2021 को अमेरिका, ऑस्ट्रिया, फ्रांस, इटली, स्पेन और यूके ने पिलर 1 को लागू करते हुए मौजूदा एकतरफा उपायों के लिए एक संक्रमणकालीन दृष्टिकोण पर एक समझौता किया।

समझौता संयुक्त बयान में परिलक्षित होता है जो उस तारीख (21 अक्टूबर संयुक्त वक्तव्य) पर उन छह देशों द्वारा जारी किया गया था।

तदनुसार, भारत और अमेरिका इस बात पर सहमत हुए हैं कि 21 अक्टूबर के संयुक्त वक्तव्य के तहत लागू होने वाली समान शर्तें सेवाओं की ई-कॉमर्स आपूर्ति पर भारत के 2 प्रतिशत बराबरी के शुल्क के संबंध में अमेरिका और भारत के बीच लागू होंगी और यू.एस. उक्त समानीकरण लेवी के संबंध में व्यापार कार्रवाई करेगा।

मंत्रालय ने एक बयान में कहा, हालांकि, लागू होने वाली अंतरिम अवधि 1 अप्रैल 2022 से पिलर 1 या 31 मार्च 2024 के कार्यान्वयन तक, जो भी पहले हो, तब तक होगी।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 25 Nov 2021, 12:10:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.