News Nation Logo
Quick Heal चुनाव 2022

भारत ने रक्षा प्लेटफार्मो में इस्तेमाल होने वाले 2851 कंपोनेंट्स का आयात बंद किया

भारत ने रक्षा प्लेटफार्मो में इस्तेमाल होने वाले 2851 कंपोनेंट्स का आयात बंद किया

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 29 Dec 2021, 10:30:02 PM
India top

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: भारत ने रक्षा उपकरण निर्माण में इस्तेमाल होने वाले 2,851 कंपोनेंट्स (घटक) के आयात को रोकने का फैसला किया है, जिससे हर साल लगभग 3,000 करोड़ रुपये की विदेशी मुद्रा की बचत होगी।

रक्षा निर्माण क्षेत्र में आत्मनिर्भरता हासिल करने तथा रक्षा सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों (डीपीएसयू) द्वारा आयात में कमी लाने के प्रयासों के हिस्से के रूप में रक्षा मंत्रालय के रक्षा उत्पादन विभाग ने बुधवार को उप-प्रणालियों, संयोजनों, उप-संयोजनों और घटकों की निर्णायक स्वदेशीकरण सूची अधिसूचित की है।

रक्षा मंत्रालय ने रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भरता हासिल करने और रक्षा सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों द्वारा आयात को कम करने के लिए उप-प्रणालियों, विधानसभाओं, उप-विधानसभाओं और घटकों की एक सकारात्मक स्वदेशीकरण सूची को अधिसूचित किया।

मंत्रालय ने कहा कि सकारात्मक स्वदेशीकरण सूची को रक्षा उत्पादन विभाग, रक्षा मंत्रालय ने रक्षा निर्माण में आत्मनिर्भरता हासिल करने और आयात को कम करने के प्रयासों के तहत अधिसूचित किया है।

इस सूची में 2,500 आयातित आइटम शामिल हैं जिनका पहले ही स्वदेशीकरण किया जा चुका है और 351 आयातित आइटम जिन्हें अगले तीन वर्षों में स्वदेशी बनाया जाएगा। ये आइटम केवल भारतीय उद्योग से ही खरीदे जाएंगे।

रक्षा मंत्रालय ने कहा, यह आत्मानिर्भर (आत्मनिर्भर) पहल हर साल लगभग 3,000 करोड़ रुपये के बराबर विदेशी मुद्रा की बचत करेगी।

इससे पहले, रक्षा निर्माण में आत्मनिर्भरता को प्रोत्साहन प्रदान करने के लिए सैन्य मामलों के विभाग द्वारा हथियारों, प्लेटफार्मों, प्रणालियों और गोला-बारूद की दो सकारात्मक स्वदेशीकरण सूचियों को अधिसूचित किया गया था।

इस महीने की शुरुआत में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रक्षा में आत्मनिर्भर भारत का लक्ष्य हासिल करने के महत्व को रेखांकित करते हुए कहा कि भारत अपने कद, भौगोलिक स्थिति के साथ-साथ सुरक्षा चुनौतियों के कारण रक्षा प्रौद्योगिकियों के लिए अन्य देशों पर निर्भर नहीं हो सकता।

राजनाथ सिंह नई दिल्ली में इंडिया बियॉन्ड 75 विषय पर फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (फिक्की) की 94वीं वार्षिक आम बैठक को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने आने वाले समय में भारत को एक वैश्विक रक्षा विनिर्माण केंद्र बनाने के लिए सरकार के दृष्टिकोण को आवाज दी थी, इस बात पर जोर दिया कि सशस्त्र बलों का आधुनिकीकरण और एक मजबूत और आत्मनिर्भर रक्षा उद्योग बनाना है जो देश को पारंपरिक और गैर-पारंपरिक सुरक्षा खतरे से बचाने में मदद कर सके।

उन्होंने कहा, भारत और उसके लोगों की सुरक्षा के लिए, यह आवश्यक है कि हम अपनी रक्षा क्षमता और क्षमता विकसित करें ताकि दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश को भी हमारे हितों को खतरे में डालने वाली कोई भी योजना बनाने से पहले एक हजार बार सोचना पड़े। हमारा सरकार का उद्देश्य किसी पर हमला करना नहीं है, बल्कि देश के दुश्मनों को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए अपने सशस्त्र बलों को हर समय तैयार रहने के लिए तैयार करना है।

सूची में 2,500 आयातित उपकरण शामिल हैं, जिन्हें पहले ही स्वदेशी बनाया जा चुका है और 351 ऐसी आयातित वस्तुएं हैं, जिन्हें अगले तीन वर्षों में स्वदेशी बनाया जाएगा। इस आत्मनिर्भर पहल से हर साल लगभग 3,000 करोड़ रुपये के बराबर विदेशी मुद्रा की बचत होगी।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 29 Dec 2021, 10:30:02 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.