News Nation Logo
Banner
Banner

भारत ने UNGA प्रेसीडेंसी के लिए मालदीव के विदेश मंत्री का किया समर्थन

भारत ने शनिवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र के राष्ट्रपति पद के लिए मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद की उम्मीदवारी का पुरजोर समर्थन किया.

IANS | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 20 Feb 2021, 11:37:44 PM
Jaishankar

विदेश मंत्री एस. जयशंकर (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

भारत ने शनिवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र के राष्ट्रपति पद के लिए मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद की उम्मीदवारी का पुरजोर समर्थन किया. मालदीव की अपनी यात्रा के दौरान, विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने शनिवार को कहा कि शाहिद, अपने विशाल राजनयिक अनुभव और नेतृत्व गुणों के साथ, भारत के दृष्टिकोण में, दुनिया के 193 देशों की महासभा की अध्यक्षता करने के लिए सबसे अच्छा है. उन्होंने कहा कि हम इसे एक वास्तविकता बनाने के लिए मिलकर काम करेंगे. जयशंकर ने यह भी कहा कि भारत 2021-22 के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अपनी सदस्यता के दौरान मालदीव के साथ काम करना चाहेगा. हिंदी में बात करने वाले शाहिद ने भावुकता व्यक्त करते हुए कहा कि उड़ान में एक पक्षी, निश्चित रूप से सही रहता है, लेकिन सिंक्रोनाइज्ड गति में एक नहीं, बल्कि दो पंख होते हैं. हमारे दोनों देश उन पंखों की तरह हैं. हम सद्भाव में काम करते हैं, हम एक साथ काम करते हैं. समान हितों के साथ, एक ही गंतव्य तक पहुंचने का लक्ष्य.

जयशंकर ने कहा कि भारत-मालदीव का समय-परीक्षण आज क्वांटम जंप के लिए तैयार है, जो नई ऊंचाइयों को छू रहा है और लोगों के जीवन को छू रहा है. उन्होंने कहा कि हम विकास में भागीदार हैं, लेकिन क्षेत्र में शांति और सुरक्षा को बढ़ावा देने में भी. 'इंडिया फस्र्ट' मालदीव सरकार का अंतर्निहित विदेश नीति दृष्टिकोण रहा है. नवंबर, 2018 में राष्ट्रपति पद संभालने के बाद से राष्ट्रपति इब्राहिम सोलिह ने इस मोर्चे पर ठोस पहल की है. यह भारत की 'नेबरहुड फस्र्ट' नीति के अनुरूप है.

कोविड-19 महामारी के प्रकोप के बाद से मालदीव के लिए भारत की तीव्र और व्यापक सहायता ने पहले उत्तरदाता होने की अपनी साख को और मजबूत किया है. मालदीव भारत से कोविड-19 के टीके प्राप्त करने वाला पहला देश है. भारत ने जनवरी, 2021 में मालदीव को 100,000 खुराक का उपहार दिया था.

यह 2020 में बनाई गई स्वास्थ्य और मानवीय सहायता की एक श्रृंखला से पहले था, जिसमें ऑपरेशन संजीवनी के माध्यम से विभिन्न भारतीय शहरों से भारतीय वायुसेना द्वारा 6.2 टन दवाइयों का दान, मिशन के तहत 580 टन खाद्य सहायता की आपूर्ति शामिल थी. आईएनएस केसरी द्वारा वहां 'सागर' और कोविड-19 निवारक विधियों में सहायता के लिए रैपिड रिस्पांस मेडिकल टीम की तैनाती की गई है.

First Published : 20 Feb 2021, 11:37:44 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.