News Nation Logo
उत्तराखंड : बारिश के दौरान चारधाम यात्रा बड़ी चुनौती बनी, संवेदनशील क्षेत्रों में SDRF तैनात आंधी-बारिश को लेकर मौसम विभाग ने दिल्ली-NCR के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया राजस्थान : 11 जिलों में आज आंधी-बारिश का ऑरेंज अलर्ट, ओला गिरने की भी आशंका बिहार : पूर्णिया में त्रिपुरा से जम्मू जा रहा पाइप लदा ट्रक पलटने से 8 मजदूरों की मौत, 8 घायल पर्यटन बढ़ाने के लिए यूपी सरकार की नई पहल, आगरा मथुरा के बीच हेली टैक्सी सेवा जल्द महाराष्ट्र के पंढरपुर-मोहोल रोड पर भीषण सड़क हादसा, 6 लोगों की मौत- 3 की हालत गंभीर बारिश के कारण रोकी गई केदारनाथ धाम की यात्रा, जिला प्रशासन के सख्त निर्देश आंधी-बारिश के कारण दिल्ली एयरपोर्ट से 19 फ्लाइट्स डाइवर्ट
Banner

एस जयशंकर ने कुवैत के विदेश मंत्री से विभिन्न मसलों पर बातचीत की

एस जयशंकर ने कुवैत के विदेश मंत्री से विभिन्न मसलों पर बातचीत की

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 22 Jan 2022, 11:00:01 PM
India Kuwait

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली:   भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शनिवार को कुवैत के विदेश मंत्री से विभिन्न मसलों पर विस्तार से बातचीत कर दोनों देशों के बीच सहयोग को बढ़ावा देने की प्रतिबद्वता व्यक्त की है।

दोनों देशों के विदेश मंत्रियों ने पश्चिम एशिया की राजनीतिक स्थिति, अफगानिस्तान की नव राजनीतिक एवं प्रशासनिक स्थिति तथा भारत प्रशांत क्षेत्र के भू- राजनीतिक मसलों पर भी चर्चा की।

प्राप्त जानकारी के अनुसार विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कुवैती विदेश मंत्री अहमद नासिर मोहम्मद अल सबाह से द्विपक्षीय मसलों के अलावा भारत-कुवैत संयुक्त आयोग की अगली बैठक का एजेंडा तय करने पर भी विचार विमर्श किया।

श्री जयशंकर ने बातचीत के बाद ट्वीट कर कहा कुवैत के विदेश मंत्री से बात कर अच्छा लगा, हमारे द्विपक्षीय संबंधों में प्रगति की समीक्षा की गई ,हमारे संयुक्त आयोग की शीघ्र बैठक पर सहमति हुई। इसके साथ ही पश्चिम एशिया और खाड़ी से लेकर अफगानिस्तान और हिंद-प्रशांत क्षेत्र की क्षेत्रीय स्थितियों के बारे में भी चर्चा की गई।

गौरतलब है कि वर्ष 2006 में कुवैत के अमीर की भारत यात्रा के बाद, दोनों देश आर्थिक और तकनीकी सहयोग पर भारत-कुवैत संयुक्त मंत्रिस्तरीय आयोग स्थापित करने पर सहमत हुए थे।

कुवैत और भारत गुटनिरपेक्ष आंदोलन (एनएएम) के सदस्य हैं। दोनों देश विभिन्न क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मामलों पर समान विचार साझा करने के अलावा अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर एक दूसरे के साथ सहयोग करते रहे हैं। दोनों देशों के बीच उच्च स्तरीय चर्चा और परामर्श उनके संबंधों की एक नियमित विशेषता है।

कुवैत और भारत के बीच शुरू से ही सौहार्दपूर्ण संबंध रहे हैं। भौगोलिक निकटता, ऐतिहासिक व्यापार संबंध, सांस्कृतिक समानताएं आदि ने दशकों से चले आ रहे संबंधों को प्रगाढ़ बनाने में काफी मदद की है।

कुवैत में 1961 तक भारतीय रुपया कानूनी तौर पर कारोबार के लिए मान्य था। कुवैत के गृह मंत्रालय के अनुसार, कुवैत में इस समय लगभग 900,000 भारतीय हैं, जो देश में सबसे बड़े प्रवासी समुदाय का प्रतिनिधित्व करते हैं।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 22 Jan 2022, 11:00:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.