News Nation Logo
75 चित्रकार यहां 3 दिन तक महाभारत से जुड़ी पेंटिंग बनाएंगे: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव (कुरुक्षेत्र) पर देश, विदेश के 3,700 कलाकार यहां आएंगे: मनोहर लाल खट्टर देश को एक मज़बूत वैकल्पिक फोर्स की जरूरत है: ममता बनर्जी मैं महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे और शरद पवार से मुलाक़ात करने के लिए आईं थीं: ममता बनर्जी कोविड के दोनों डोज लगे हैं, तो बिना RT-PCR के महाराष्ट्र में यात्रा करने की अनुमति अक्टूबर 2020 से अक्टूबर 2021 तक 32 जवान शहीद, गृह मंत्रालय ने संसद में दी जानकारी जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियां कम हुईं दिल्ली कैबिनेट का बड़ा फैसला, दिल्ली में पेट्रोल 8 रुपए सस्ता आईआरएस अधिकारी विवेक जौहरी ने CBIC के अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभाला निलंबित 12 विपक्षी सदस्य (राज्यसभा) निलंबन के विरोध में संसद में गांधी प्रतिमा के सामने धरने पर बैठे प्रश्नकाल के दौरान कांग्रेस और द्रमुक सांसदों ने लोकसभा से वाक आउट किया दिसंबर के पहले दिन ही महंगाई की मार, महंगा हो गया कॉमर्श‍ियल LPG सिलेंडर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन पर आज लोकसभा में होगी चर्चा UPTET पेपर लीक मामले में परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय उपाध्याय गिरफ्तार संसद भवन के कमरा नंबर 59 में लगी आग, बुझाने की कोशिश जारी पुलवामा एनकाउंटर में दो आतंकी ढेर, सर्च ऑपरेशन जारी

चीन-भूटान बॉर्डर एमओयू पर अपना रुख न जताए भारत : चीनी मुखपत्र

चीन-भूटान बॉर्डर एमओयू पर अपना रुख न जताए भारत : चीनी मुखपत्र

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 16 Oct 2021, 12:05:02 AM
India hould

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: चीन के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने भारत पर आरोप लगाते हुए कहा कि भारत ने भूटान पर दीर्घकालिक व्यापक नियंत्रण और प्रभाव का प्रयोग किया है, जिसने भूटान को विदेशी संबंधों को विकसित करने से प्रतिबंधित कर दिया है।

चीन और भूटान के वरिष्ठ राजनयिक अधिकारियों ने गुरुवार को एक वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान भूटान-चीन सीमा वार्ता में तेजी लाने के लिए तीन-चरणीय रोडमैप पर एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए।

भूटान एकमात्र पड़ोसी देश है, जिसने चीन के साथ राजनयिक संबंध स्थापित नहीं किए हैं।

भूटान हिमालय के दक्षिणी ढलानों में स्थित है। 38,000 वर्ग किमी के क्षेत्रफल और 800,000 से कम आबादी के साथ, यह छोटा सा देश चीन और भारत के बीच स्थित है।

ग्लोबल टाइम्स ने कहा, भूटान के चीन के साथ राजनयिक संबंध नहीं हैं, न ही उसने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के किसी अन्य स्थायी सदस्य के साथ राजनयिक संबंध स्थापित किए हैं। यह असामान्य है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि भारत ने भूटान पर दीर्घकालिक व्यापक नियंत्रण और प्रभाव का प्रयोग किया है, जिसने इसे विदेशी संबंधों को विकसित करने से प्रतिबंधित कर दिया है।

अखबार ने आगे कहा, भूटान के साथ सीमा वार्ता को पूरा करना इतना मुश्किल नहीं होना चाहिए था। समस्या भूटान के पीछे देश में है -भारत , जिसने एक जटिल कारक के रूप में काम किया है।

चीनी मुखपत्र ने कहा, हमें नहीं लगता कि नई दिल्ली को अपना रुख व्यक्त करना चाहिए। यह समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने के लिए दो संप्रभु देशों के बीच का मामला है। अगर भारत इस पर उंगली उठाता है, तो यह दुनिया को केवल यह साबित कर सकता है कि भारत एक कमजोर और छोटे देश की संप्रभुता को खत्म कर रहा है।

ग्लोबल टाइम्स ने अपने एक संपादकीय में कहा, भारत को सार्वजनिक रूप से कुछ भी नहीं कहना चाहिए, न ही उसे भूटान पर दबाव डालना चाहिए या यह निर्देश देना चाहिए कि भूटान को चीन के साथ अपनी सीमा वार्ता में क्या करना चाहिए। चीन और भूटान के बीच एक सीमांकन रेखा दोनों देशों के क्षेत्रों का परिसीमन करेगी। यदि भारत यह मानता है कि सीमांकन कैसे तय किया गया है, तो यह भारत के राष्ट्रीय हित को प्रभावित करेगा, यह साबित करेगा कि भारत ने अपने राष्ट्रीय हितों को भूटान के क्षेत्र में अनुचित रूप से बढ़ाया है और भूटान को भारत की चीन नीति की आउटपोस्ट (चौकी) में बदलना चाहता है। ये अंतरराष्ट्रीय संबंधों के मानदंडों का उल्लंघन भी है।

इसमें आगे कहा गया है, भारत दक्षिण एशिया में सबसे बड़ी और सबसे मजबूत शक्ति है। लेकिन यह भूटान पर अपने पुराने जमाने के नियंत्रण को समाप्त करने का समय है। भारत को नेपाल और श्रीलंका जैसे देशों पर असामान्य प्रभाव डालने की अपनी इच्छा पर भी अंकुश लगाना चाहिए। दक्षिण एशियाई देश विकास के इच्छुक हैं। दक्षिण एशियाई देश चीन के साथ संबंध विकसित करने के इच्छुक हैं और उन्हें ऐसा करने का अधिकार है।

ग्लोबल टाइम्स ने कहा, चीन के साथ आर्थिक और अन्य संबंधों को मजबूत करने के इन देशों के कदमों को देखते हुए भारत को संकीर्ण सोच वाली भू-राजनीतिक सोच से पार पाना चाहिए और यह कल्पना नहीं करनी चाहिए कि चीन भारत को घेर रहा है। चीन का न तो कोई सैन्य गठबंधन है और न ही विशेष सहयोग, जो उन देशों में से किसी के साथ भारत को निशाना बनाए। भारत अपना प्रभाव बढ़ाना चाहता है। इसके लिए, इसे पहले खुले विचारों वाला होना चाहिए और अति संवेदनशील नहीं होना चाहिए।

ग्लोबल टाइम्स ने कहा कि ऐसा लगता है कि चीन और भूटान जल्द या बाद में एक सीमा समझौते पर पहुंचेंगे और अंतत: राजनयिक संबंधों की स्थापना की ओर बढ़ेंगे।

इसमें कहा गया है, यह प्रगति है, जो दोनों पड़ोसी देशों के बीच होनी चाहिए। अगर यह रुक जाती है, तो लोगों को आश्चर्य होगा कि क्या भारत ने फिर से भूटान पर दबाव डाला और उसकी संप्रभुता का उल्लंघन किया है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 16 Oct 2021, 12:05:02 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.