News Nation Logo
Quick Heal चुनाव 2022

अमेरिका पर भड़का भारत, कहा-Fake News के सहारे भारत को बदनाम करने की कोशिश

कोविड-19 (Covid-19) के खिलाफ जंग में अमेरिका की ओर से धार्मिक रंग दिए जाने की कोशिश पर भारत ने करारा जवाब दिया है. दरअसल, एक मीडिया रिपोर्ट के आधार पर अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता पर अमेरिकी आयोग (USCIRF) ने भारत के कोरोना वायरस से निपटने के तर

News State | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 16 Apr 2020, 10:04:55 AM
Gujarat Corona Isolation Ward

अमेरिकी आयोग ने फिर भारत के खिलाफ खोला दुष्प्रचार का मोर्चा. (Photo Credit: न्यूज स्टेट)

highlights

  • अमेरिकी आयोग फिर कूदा भारत से जड़े मामले में.
  • कोरोना जंग को धार्मिक रंग देने की कोशिश जारी.
  • इसके पहले सीएए पर भी भारत विरोधी बात की थी.

नई दिल्ली:

अमेरिका और ब्रिटेन के कई ऐसे संगठन हैं, जो भारत विरोधी खाद-पानी पर ही जिंदा है. ये संगठन भारत को कठघरे में खड़ा करने के लिए एक अदद मौके की तलाश में रहते हैं. भले ही बात सही हो या गलत, इन्हें भारत की मुखालफत करनी ही है. इस बार सबब बना है कोरोना वायरस (Corona Virus) संक्रमण और उसके खिलाफ जंग. कोविड-19 (Covid-19) के खिलाफ जंग में अमेरिका की ओर से धार्मिक रंग दिए जाने की कोशिश पर भारत ने करारा जवाब दिया है. दरअसल, एक मीडिया रिपोर्ट के आधार पर अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता पर अमेरिकी आयोग (USCIRF) ने भारत के कोरोना वायरस से निपटने के तरीके पर चिंता जताई थी. मीडिया रिपोर्ट में कहा गया था कि अहमदाबाद के एक सरकारी अस्पताल में संक्रमित मरीजों को धर्म (Religion) के आधार पर अलग कर (Segregation) इलाज किया जा रहा है.

यह भी पढ़ेंः मौलाना साद कांधलवी के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज, धाराएं बढ़ने से उम्रकैद संभव

भारत ने कहा गुमराह करने वाली रिपोर्ट
'अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता पर अमेरिका के आयोग' की आलोचना को खारिज करते हुए भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने साफ कहा कि अमेरिकी आयोग की ओर से की गई आलोचना एक गुमराह करने वाली रिपोर्ट पर आधारित है. उन्होंने आगे कहा कि गुजरात सरकार पहले ही साफ कर चुका है कि अहमदाबाद में कोविड-19 के मरीजों को धार्मिक पहचान के आधार पर अलग करने की बात सिरे से गलत और भ्रामक है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि भारत में धार्मिक स्वतंत्रता पर अमेरिकी आयोग की टिप्पणी क्या पहले ही काफी नहीं है, जो वह अब भारत में कोविड-19 से निपटने के लिए पालन किए जाने वाले पेशेवर मेडिकल प्रोटोकॉल पर गुमराह करने वाली रिपोर्टों को फैला रहा है.

यह भी पढ़ेंः प्लाजमा टेक्‍नोलॉजी बन सकती है कोरोना वायरस के खिलाफ बड़ा हथियार, क्‍या है यह तकनीक

यूएससीआईआरएफ धार्मिक रंग देने से आए बाज
प्रवक्ता ने दोहराया कि सिविल अस्पताल में धर्म के आधार पर मरीजों को अलग नहीं किया जा रहा है. श्रीवास्तव ने कहा कि यूएससीआईआरएफ को कोरोना वायरस महामारी से निपटने के भारत के राष्ट्रीय लक्ष्य को धार्मिक रंग देना बंद करना चाहिए. गौरतलब है कि अमेरिका की इसी संस्था ने नागरिकता संशोधन कानून पर भी भारत को कठघरे में खड़ा करते हुए अल्पसंख्यकों के साथ भेदभाव और हिंसक बर्ताव का आरोप लगाया था. उस वक्त भी भारत ने तथ्यों और धरातल के आधार पर जवाब देकर आयोग की बोलती बंद कर दी थी.

यह भी पढ़ेंः पार्क पर कब्जे की साजिश है अलग कोरोना कब्रिस्तान बनाना, विहिप ने वक्फ बोर्ड की नीयत पर उठाए सवाल

आयोग ने लगाया था यह आरोप
इससे पहले अमेरिकी आयोग ने ट्वीट किया था कि वह इन खबरों को लेकर चिंतित है कि अस्पताल में हिंदू और मुस्लिम मरीजों को अलग किया जा रहा है. उसने कहा था, 'इस तरह के कदम भारत में मुसलमानों को कलंकित किए जाने की घटनाओं को बढ़ाने में मदद करेंगे और इन अफवाहों को और तेज करेंगे कि मुस्लिम कोविड-19 फैला रहे हैं.'

First Published : 16 Apr 2020, 08:49:58 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.