News Nation Logo
मौसम खुल चुका है और चारधाम यात्रा शुरू हो चुकी है: उत्तराखंड के DGP अशोक कुमार उड़ान योजना के तहत बीते कुछ सालों में 900 से अधिक नए रूट्स को स्वीकृति दी जा चुकी है: पीएम मोदी कुशीनगर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा उनकी श्रद्धा को अर्पित पुष्पांजलि है: पीएम मोदी भारत विश्व भर के बौद्ध समाज की श्रद्धा, आस्था और प्रेरणा का केंद्र है: कुशीनगर में पीएम मोदी 50 से अधिक नए या ऐसे एयरपोर्ट जो पहले सेवा में नहीं थे, उन्हें चालू किया जा चुका है: पीएम मोदी CBI-CVS कांफ्रेंस में बोले पीएम मोदी-भ्रष्टाचार सिस्टम का हिस्सा नहीं हो सकता है लखीमपुर हिंसा मामले में सुप्रीम कोर्ट में आज होगी अहम सुनवाई. पंजाब में कांग्रेस का बढ़ा दलित प्रेम. राहुल गांधी आज दिखाएंगे शोभा यात्रा को हरी झंडी आज शाम उत्तराखंड जाएंगे गृहमंत्री अमित शाह, बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का लेंगे जायजा क्रूज ड्रग्स केस में आर्यन खान को आज मिलेगी बेल या रहेंगे जेल में ही

एलएसी पर चीनी वायु सेना की मौजूदगी ज्यादा चिंता की बात नहीं : वायुसेना प्रमुख

एलएसी पर चीनी वायु सेना की मौजूदगी ज्यादा चिंता की बात नहीं : वायुसेना प्रमुख

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 05 Oct 2021, 02:55:01 PM
Increaed Chinee

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: भारतीय वायुसेना प्रमुख वी.आर. चौधरी ने मंगलवार को कहा कि पूर्वी लद्दाख में चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की वायु सेना की मौजूदगी बढ़ गई है, लेकिन भारतीय वायु सेना पर इसका ज्यादा फर्क नहीं पड़ने वाला है।

वायु सेना दिवस (8 अक्टूबर) से पहले वार्षिक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए, एयर चीफ मार्शल चौधरी ने कहा कि चीनी पीएलएएएफ ने वास्तविक नियंत्रण रेखा के पार तीन हवाई क्षेत्रों में उपस्थिति बढ़ा दी है।

उन्होंने कहा, चीन कई विमानों के साथ हवाई क्षेत्र विकसित कर रहा है लेकिन ऊंचाई से उड़ान भरना उसका एक कमजोर क्षेत्र है।

चीन के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई पर एक सवाल के जवाब में वायुसेना प्रमुख ने कहा कि यह एक राष्ट्रीय नीति है और भारत किसी भी स्थिति से निपटने में सक्षम है।

एस-400 को शामिल करने के बारे में, उन्होंने कहा कि उसे इस वर्ष के भीतर शामिल किया जाना चाहिए। भारत रूस से लंबी दूरी यानी 400 किलोमीटर के लिए एस-400 मिसाइलें खरीद रहा है और इस साल के अंत तक वायुसेना को इसके मिलने की उम्मीद है।

एयर चीफ मार्शल चौधरी ने कहा, एस-400 की डिलीवरी पटरी पर है। पहली रेजिमेंट को इस साल के भीतर शामिल कर लिया जाना चाहिए।

उन्होंने यह भी कहा कि भारतीय वायु सेना चीन और पाकिस्तान के साथ दो मोर्चो पर युद्ध से निपटने में सक्षम है, लेकिन चिंता का विषय पाकिस्तान से चीन तक पश्चिमी रणनीति और हथियारों का प्रसार है।

चीन द्वारा ताइवान के हवाई क्षेत्र के उल्लंघन पर, उन्होंने कहा कि यह दोनों के बीच का मामला है और वह कोई भी टिप्पणी करने से परहेज करेंगे।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 05 Oct 2021, 02:55:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.