News Nation Logo
Quick Heal चुनाव 2022

स्मार्ट सिटी परियोजनाओं का हिस्सा बनेंगे आईआईटी रुड़की, जामिया समेत 15 शिक्षण संस्थानों के छात्र

स्मार्ट सिटी परियोजनाओं का हिस्सा बनेंगे आईआईटी रुड़की, जामिया समेत 15 शिक्षण संस्थानों के छात्र

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 06 Jan 2022, 03:00:01 AM
IIT Roorkee

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: स्मार्ट सिटी मिशन में अब देश के कई विख्यात शिक्षण संस्थानों का सहयोग लिया जाएगा। इन संस्थानों के मेधावी छात्र स्मार्ट सिटी परियोजना के साथ सीधे जुड़ेंगे। जिन शिक्षण संस्थानों की मदद स्मार्ट सिटी परियोजना के निर्माण में ली जाएगी उनमें आईआईटी रुड़की, जामिया मिलिया इस्लामिया, पर्यावरण योजना एवं प्रौद्योगिकी केंद्र अहमदाबाद और स्कूल ऑफ प्लानिंग एंड आ*++++++++++++++++++++++++++++र्*टेक्च र, भोपाल शामिल हैं।

देशभर के कुल 15 प्रमुख शिक्षण संस्थानों के छात्रों एवं सलाहकारों की टीम जनवरी, फरवरी, 2022 के महीने में इन परियोजनाओं को समझने, दस्तावेजीकरण करने के लिए 47 स्मार्ट शहरों का दौरा करेगी।

देश भर में आजादी का अमृत महोत्सव के आयोजन के हिस्से के रूप में, आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय के स्मार्ट सिटी मिशन ने स्मार्ट सिटी एंड एकेडेमिया टुवार्डस एक्शन एंड रिसर्च (सार) कार्यक्रम शुरू किया है। यह आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ अर्बन अफेयर्स (एनआईयूए) और देश के अग्रणी भारतीय शैक्षणिक संस्थानों की एक संयुक्त पहल है। कार्यक्रम के तहत, देश के 15 प्रमुख वास्तुकला और योजना संस्थान स्मार्ट सिटी के साथ मिलकर स्मार्ट सिटी मिशन द्वारा शुरू की गई ऐतिहासिक परियोजनाओं का दस्तावेजीकरण करेंगे।

इन दस्तावेजों में सर्वोत्तम परंपराओं से सीखने, छात्रों को शहरी विकास परियोजनाओं पर जुड़ाव के अवसर प्रदान करने और शहरी चिकित्सकों तथा शिक्षाविदों के बीच तत्काल सूचना के प्रसार के उपायों का उल्लेख किया जाएगा।

स्मार्ट सिटी मिशन की शहरी परियोजनाएं अन्य महत्वाकांक्षी शहरों के लिए मार्गदर्शक परियोजनाएं हैं। 2015 में मिशन की शुरूआत के बाद से, 2,05,018 करोड़ रुपये की लागत से कुल 5,151 परियोजनाओं के बल पर 100 स्मार्ट सिटी का विकास किया जा रहा है। सार के तहत परिकल्पित पहली गतिविधि स्मार्ट सिटी मिशन के तहत भारत में 75 ऐतिहासिक शहरी परियोजनाओं का एक समूह तैयार करना है।

आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय के मुताबिक ये 75 शहरी परियोजनाएं अभिनव, बहु-क्षेत्रीय हैं, जिन्हें देश के विभिन्न हिस्सों में कार्यान्वित किया गया है। यह कार्यक्रम देश की सर्वोत्तम परंपराओं और जमीनी उपलब्धियों को प्रदर्शित करने के विचार से भारत की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ का प्रतीक है।

इसमें शामिल 75 परियोजनाओं को 47 स्मार्ट शहरों में वितरित किया गया है। परियोजनाओं का दस्तावेजीकरण करने वाले भागीदार संस्थानों में अन्य संस्थानों के साथ-साथ भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रुड़की, पर्यावरण योजना एवं प्रौद्योगिकी केंद्र, अहमदाबाद, जामिया मिलिया इस्लामिया, दिल्ली और स्कूल ऑफ प्लानिंग एंड आ*++++++++++++++++++++++++++++र्*टेक्च र, भोपाल शामिल हैं।

आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय और नेशनल इंस्टीट्यूट अर्बन अफेयर्स विशिष्ट ऐतिहासिक परियोजनाओं के लिए संस्थानों और स्मार्ट शहरों के बीच संपर्क की सुविधा प्रदान करेंगे, जिन्हें कार्यक्रम के तहत दस्तावेज का रूप देना हैं। शिक्षण संस्थान इन परियोजनाओं के परिणामों का दस्तावेजीकरण करेंगे कि वे शहरी नागरिकों के जीवन को कैसे प्रभावित कर रहे हैं।

इन कार्यों में क्षेत्र जांच, डेटा विश्लेषण और प्रलेखन, भाग लेने वाले छात्रों के लिए राष्ट्रीय अनुसंधान प्रणाली कार्यशाला, पहले मसौदे की समीक्षा, अनुसंधान छात्रों द्वारा अपने संबंधित संस्थानों को अंतिम रूप से प्रस्तुत करना, एनआईयूए को अनुसंधान को संस्थागत रूप से प्रस्तुत करना शामिल होगा, जिससे जून 2022 तक 75 शहरी परियोजनाओं के समूह का शुभारंभ हो सकेगा।

47 स्मार्ट शहरों में आगरा, अजमेर, चंडीगढ़, देहरादून, धर्मशाला, फरीदाबाद, जयपुर, जम्मू, कानपुर, सहारनपुर, शिमला, श्रीनगर, बेलगावी, बेंगलुरु, चेन्नई, कोयंबटूर, इरोड, काकीनाडा, कोच्चि, मंगुलुरु, शिवमोग्गा, तंजावुर, तिरुचिरापल्ली, तिरुवनंतपुरम, तुमकुरु, अहमदाबाद, दाहोद, नागपुर, नासिक, पुणे, सूरत, ठाणे, वडोदरा, भुवनेश्वर, न्यू टाउन कोलकाता, रांची, विशाखापत्तनम, भोपाल, ग्वालियर, इंदौर, रायपुर, सागर, उज्जैन, जबलपुर, अगरतला, गंगटोक और नामची शामिल हैं।

इस पहल में देश के ये 15 प्रमुख संस्थान शामिल हैं

1. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रुड़की

2. मालवीय राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान

3. जामिया मिलिया इस्लामिया, दिल्ली

4. आर वी कॉलेज ऑफ आ*++++++++++++++++++++++++++++र्*टेक्च र, बैंगलोर

5. अन्ना विश्वविद्यालय

6. इंजीनियरिंग कॉलेज, त्रिवेंद्रम

7. वास्तुकला एवं योजना विभाग, मणिपाल विश्वविद्यालय

8. पर्यावरण योजना एवं प्रौद्योगिकी केंद्र, अहमदाबाद

9. इंजीनियरिंग कॉलेज, पुणे

10. कमला रहेजा विद्यानिधि इंस्टीट्यूट फॉर आ*++++++++++++++++++++++++++++र्*टेक्च र, मुंबई

11. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, खड़गपुर

12. भारतीय विज्ञान एवं पर्यावरण प्रौद्योगिकी संस्थान, शिबपुर

13. योजना एवं वास्तुकला स्कूल, विजयवाड़ा

14. योजना एवं वास्तुकला स्कूल, भोपाल

15. मौलाना आजाद राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 06 Jan 2022, 03:00:01 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.