News Nation Logo

अगर आपने अपनी प्रेमिका से बेवफाई की है तो यह अपराध नहीं : उच्च न्यायालय

अदालत ने इस मामले में पुलिस की अपील को खारिज करते हुए कहा कि इस मामले में व्यक्ति को बरी करने के निचली अदालत के फैसले में कोई कमी नहीं है.

By : Ravindra Singh | Updated on: 11 Oct 2019, 05:27:50 PM
दिल्ली हाई कोर्ट

दिल्ली हाई कोर्ट (Photo Credit: न्यूज स्टेटस)

नई दिल्‍ली:

दिल्ली उच्च न्यायालय (Delhi High Court) ने कहा है कि शारीरिक संबंधों (Physical Relations) के बावजूद प्रेमिका से बेवफाई (infidelity with girlfriend) चाहे जितनी खराब बात लगे, लेकिन यह अपराध (Crime) नहीं है  अदालत ने आगे कहा कि यौन सहमति पर ‘न का मतलब न’ से आगे बढ़कर, अब ‘हां का मतलब हां’ तक व्यापक स्वीकार्यता है अदालत ने यह फैसला दुष्कर्म (Rape) के मामले में एक व्यक्ति को बरी करने के फैसले को बरकरार रखते हुए दिया जिसके खिलाफ उस महिला ने दुष्कर्म का मामला दर्ज (Rape Case) कराया था जिससे उसने शादी का वादा किया था अदालत ने इस मामले में पुलिस की अपील को खारिज करते हुए कहा कि इस मामले में व्यक्ति को बरी करने के निचली अदालत के फैसले में कोई कमी नहीं है.

यह भी पढ़ें-केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, अब मदर डेयरी में मिलेंगे सस्ते टमाटर ‘प्यूरी’ 

अदालत ने कहा, “प्रेमी से बेवफाई, कुछ लोगों को चाहे जितनी खराब बात लगे, भारतीय दंड संहिता के तहत दंडनीय अपराध नहीं है दो वयस्क परस्पर सहमति से शारीरिक संबंध बनाते हैं, यह अपराध नहीं है” उच्च न्यायालय ने कहा कि महिला ने शादी के वादे का प्रलोभन देकर शारीरिक संबंध बनाने के आरोपों का इस्तेमाल न सिर्फ पूर्व में आरोपी के साथ शारीरिक संबंध बनाने को सही ठहराने के लिये बल्कि प्राथमिकी दर्ज होने के बाद भी अपने आचरण को उचित ठहराने के लिये किया उसने आंतरिक चिकित्सकीय परिक्षण से भी इनकार कर दिया न्यायमूर्ति विभु भाखरू ने कहा, “जहां तक यौन संबंध बनाने के लिये सहमति का सवाल है, 1990 के दशक में शुरू हुए अभियान ‘न मतलब न’, में एक वैश्विक स्वीकार्य नियम निहित है: मौखिक ‘न’ इस बात का स्पष्ट संकेत है कि यौन संबंध के लिये सहमति नहीं दी गई है”

यह भी पढ़ें-पाकिस्तानी ड्रोन का पता नहीं लगाए जाने पर आईबी ने उठाए सवाल

उन्होंने कहा, “यौन सहमति पर ‘न का मतलब न’ से आगे बढ़कर, अब ‘हां का मतलब हां’ तक व्यापक स्वीकार्यता है इसलिये, यौन संबंध स्थापित करने के लिये जबतक एक सकारात्मक, सचेत और स्वैच्छिक सहमति नहीं है, यह अपराध होगा”  उच्च न्यायालय ने कहा कि महिला का दावा कि उसकी सहमति स्वैच्छिक नहीं थी बल्कि यह शादी के वादे के प्रलोभन के बाद हासिल की गई थी, इस मामले में स्थापित नहीं हुआ  अदालत ने कहा कि पहली बार दुष्कर्म के कथित आरोप के तीन महीने बाद, महिला 2016 में आरोपी के साथ स्वेच्छा से होटल में जाती दिखी और इस बात में कोई दम नजर नहीं आता कि उसे शादी के वादे का प्रलोभन दिया गया था.

यह भी पढ़ें-Jio का एक और बड़ा ऐलान, अब इन उपभोक्ताओं को नहीं देने होंगे अन्य नेटवर्क पर कॉलिंग के पैसे

First Published : 10 Oct 2019, 10:16:45 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.