logo-image
लोकसभा चुनाव

J&K में मारे गए मजदूरों को लेकर पीएम मोदी को कांग्रेस ने लिखा पत्र, की यह मांग

आतंकी इन सभी मजदूरों को मरा समझकर वहां से चले गये लेकिन अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने 5 को मृत घोषित कर दिया था.

Updated on: 30 Oct 2019, 05:00 PM

highlights

  • कांग्रेस नेता अधीर रंजन ने पीएम मोदी को लिखा पत्र
  • कश्मीर में मारे गए मजदूरों को मिले वित्तीय सहायता
  • आतंकियों ने 5 गैर कश्मीरी मजदूरों की कर दी थी हत्या

नई दिल्ली:

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने जम्मू-कश्मीर में मुर्शिदाबाद के पांच मजदूरों की हत्या पर पीएम नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है, कांग्रेस नेता ने इस पत्र में कहा है कि, 'मैं प्रधानमंत्री राहत कोष से जम्मू-कश्मीर के कुलगाम सेक्टर में मारे गए मजदूरों के परिजनों को ज्यादा से ज्यादा वित्तीय सहायता देने का आग्रह करता हूं.' आपको बता दें कि मंगलवार की रात कुछ आतंकियों ने जम्मू-कश्मीर के कुलगाम सेक्टर में 7 मजदूरों को गोलियों से भून दिया था. आतंकी इन सभी मजदूरों को मरा समझकर वहां से चले गये लेकिन अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने 5 को मृत घोषित कर दिया था. ये सभी मजदूर पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद के रहने वाले थे.

कुलगाम से मिली जानकारी के मुताबिक, मंगलवार शाम को 5 से 6 आतंकियों का समूह स्वचालित हथियारों से लैस कतरस्सु गांव में दाखिल हुआ. यहां उन आतंकियों ने गांव के बाहरी छोर पर रह रहे गैर कश्मीरी मजदूरों के ठिकानों पर उन्हें बाहर निकाला इस दौरान करीब 7 मजदूर डेरे से बाहर निकले. आतंकी इन सातों मजदूरों को अपने साथ लेकर बाहर निकल गए कुछ दूर ले जाने के बाद आतंकियों ने इन मजदूरों पर आतंकियों ने अंधाधुंध गोलियों की बौछार कर दी. गोलियां लगते ही सभी मजदूर जमीन पर गिर पड़े, आतंकी उन्हें मरा समझ वहां से चले गए. आतंकियों के जाने के बाद आसपास मौजूद ग्रामीणों ने पुलिस को सूचित करते हुए खून से लथपथ पड़े सभी मजदूरों को निकटवर्ती अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने पांच मजदूरों को मृत घोषित कर दिया. एक श्रमिक जहीरूदीन की नाजुक हालत को देखते हुए उसे उपचार के लिए श्रीनगर के अस्पताल लाया गया है.

यह भी पढ़ें-BJP-शिवसेना के रार के बीच कांग्रेस ने खेला दांव, चव्हाण ने कहा- उद्धव ठाकरे का प्रस्ताव आया तो....

5 अगस्त 2019 को केंद्र की मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर से ऑर्टिकल - 370 को निष्प्रभावी बना दिया था और जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा हटाकर उसे दो केंद्र शासित राज्यों में तब्दील कर दिया था. जम्मू-कश्मीर से लद्दाख को अलग कर उसे एक अलग केंद्र शासित प्रदेश घोषित कर दिया गया. केंद्र सरकार के इस फैसले के बाद से पाकिस्तान बौखला गया है और लगातार जम्मू-कश्मीर के रास्ते भारत में घुसपैठ करवाने की कोशिश में लगा रहता है. पाकिस्तानी सेना आए दिन सीमा रेखा पर संघर्ष विराम का उल्लंघन किया करते हैं, ताकि भारतीय सेना का ध्यान भंग हो और ये अपने आतंकियों को भारत में घुसपैठ करवा पाएं. 

यह भी पढ़ें- जम्मू- कश्मीर: आतंकवादियों ने पांच गैर-कश्मीरी मजदूरों की हत्या, एक की हालत गंभीर