News Nation Logo

कर्नाटक में भीषण बारिश से किसानों को भारी नुकसान

कर्नाटक में भीषण बारिश से किसानों को भारी नुकसान

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 23 Nov 2021, 07:15:01 PM
Heavy rain

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

बेंगलुरू: भारी और लगातार बारिश ने कर्नाटक में खड़ी और कटी हुई कृषि के साथ-साथ बागवानी फसलों को व्यापक नुकसान पहुंचाया है। बारिश ने उत्तरी कर्नाटक में ज्वार की फसल और राज्य के दक्षिणी जिलों में रागी को नुकसान पहुंचाया है।

जौ उत्तर कर्नाटक का मुख्य भोजन है, जबकि रागी दक्षिण जिलों के लोगों का मुख्य आहार है।

सितंबर से कर्नाटक में भारी बारिश से राज्य में पांच लाख हेक्टेयर में कृषि फसलों का नुकसान हुआ है। 30,114 हेक्टेयर बागवानी फसल के नुकसान का आकलन किया गया है।

बागवानी उत्पादों के लिए मशहूर चिक्कबल्लापुर जिले में करीब 3,000 हेक्टेयर अंगूर के बाग और अनुमानित 50 करोड़ रुपये की अन्य बागवानी उपज नष्ट हो गई है। अब किसानों को फल-सब्जियों की कटाई के लिए डेढ़ माह और इंतजार करना होगा।

अनुमान है कि चिक्कबल्लापुर में 25,000 हेक्टेयर रागी की फसल और सैकड़ों एकड़ गुलाब के खेतों सहित 60,000 हेक्टेयर फसल नष्ट हो गई है।

सभी स्तरों पर कृषि विभाग के अधिकारियों को फसल नुकसान का सर्वेक्षण करने में स्वयं को शामिल करने का निर्देश दिया गया है।

अनुमान है कि अगस्त और सितंबर में लगातार बारिश के कारण 3.43 लाख हेक्टेयर में फसल प्रभावित हुई थी, जिससे 1.5 लाख किसान प्रभावित हुए थे। चूंकि, पूरे नवंबर में भारी बारिश जारी रही, इसलिए कृषक समुदाय को भारी नुकसान हुआ है।

कर्नाटक सरकार की ओर से अब तक किसानों के लिए 130 करोड़ रुपये जारी किए जा चुके हैं। 79,000 किसानों का मुआवजा लंबित है और मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने पस्त किसानों के मुआवजे को मंजूरी देने के लिए 79 करोड़ रुपये जारी करने के निर्देश दिए हैं।

अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि बीमा कंपनियों द्वारा किसानों को फसल हानि बीमा राशि का त्वरित वितरण सुनिश्चित करने के लिए कार्रवाई करें। मुख्यमंत्री बोम्मई ने सिंचाई टंकियों की मरम्मत का काम युद्धस्तर पर शुरू करने के भी निर्देश दिए हैं।

सरकारी आकलन के अनुसार, बेंगलुरू शहरी, बेंगलुरु ग्रामीण, तुमकुरु, कोलार, चिक्कबल्लापुर, रामनगर, हासन जिलों में बारिश के कारण भारी नुकसान हुआ है।

दक्षिण और तटीय कर्नाटक के किसान देवताओं की बारिश की प्रार्थना कर रहे हैं, क्योंकि अगर भारी बारिश रुक जाती है, तो वे सुपारी की फसल से राहत की सांस ले सकते हैं।

बारिश के कारण किसानों के घर भी गिर गए हैं। सूत्रों के अनुसार, नुकसान की प्रारंभिक रिपोर्ट में कहा गया है कि 658 घर पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए हैं और 8,495 घर आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। इससे 191 पशुओं की मौत भी हुई है।

बारिश प्रभावित लोगों और क्षेत्रों की तत्काल जरूरतों को पूरा करने के लिए राष्ट्रीय आपदा राहत कोष (एनडीआरएफ) के तहत जिला आयुक्तों के पास 689 करोड़ रुपये की राशि उपलब्ध कराई गई है। मुख्यमंत्री बोम्मई ने जरूरत पड़ने पर और धनराशि आवंटित करने का आश्वासन दिया है। जिन लोगों ने अपना घर खो दिया है, उनके लिए राहत की पहली किस्त के रूप में एक लाख रुपये तत्काल जारी करने की कार्रवाई शुरू कर दी गई है।

राज्य के चावल के कटोरे के रूप में जाने जाने वाले कोप्पल जिले में धान के खेत पूरी तरह डूब गये हैं। खुले में रखा गया धान भी नष्ट हो गया है। धान की खेती के लिए मशहूर जिले के कराटागी और गंगावती तालुकों के किसान अब सरकार से मदद की उम्मीद कर रहे हैं।

किसान समुदाय निराशा में है, क्योंकि फसल उस समय नष्ट हो गई है, जब धान की फसल का अनाज बनना समाप्त हो गया था और फसल कटाई के लिए तैयार थी।

बेलगावी जिले के खानापुर, चिक्कोडी, निप्पनी, बैलहोंगल क्षेत्रों में गेहूं, ज्वार, तंबाकू, बंगाल चना और गन्ना नष्ट हो गया।

मध्य कर्नाटक के गडग, चित्रदुर्ग और आसपास के जिलों में बारिश से मिर्च, प्याज की फसल भी नष्ट हो गई है।

कोडागु, चिक्कमगलूर के पहाड़ी जिलों में कॉफी की फसल को भी नुकसान पहुंचा है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 23 Nov 2021, 07:15:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो