News Nation Logo
Banner

दिव्यांग छात्रों को शिक्षित करेगी शिक्षा मंत्रालय की प्रिया

दिव्यांग छात्रों को शिक्षित करेगी शिक्षा मंत्रालय की प्रिया

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 24 Aug 2021, 08:55:01 PM
Handicap

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

नई दिल्ली: ²ष्टिबाधित और दिव्यांग छात्रों की शिक्षा के लिए देश में एक प्रिया नई पहल की गई है। खासकर ऐसे दिव्यांग छात्रों के लिए सुन या देख नहीं सकते। ऐसे विशेष छात्रों के लिए एक कामिक्स और गतिविधि आधारित स्कूल कार्यक्रम तैयार किया गया है। यह विशेष पाठ्यक्रम छात्रों को शिक्षा की मुख्यधारा में जोड़े रखेगा।

ऐसे दिव्यांग छात्र जो सुन या देख नहीं सकते विशेष क्यूआर कोड टैग के माध्यम से अध्ययन सामग्री तक अपनी पहुंच बना सकते हैं। यानी यह क्यूआर कोड नेत्रहीनों और उन छात्रों को विशेष पहुंच प्रदान करेगा जो सुन नहीं सकते।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान की मौजूदगी में शिक्षा मंत्रालय की स्कूल शिक्षा सचिव अनिता करवाल ने बताया कि दिव्यांग छात्रों के लिए शुरू की गई प्रिया नामक यह योजना एक ऐसी बुकलेट है, जिसके जरिए देख और सुन नहीं सकने वाले छात्र शिक्षा हासिल कर सकते हैं। इस कॉमिक बुक के हर पेज पर एक विशिष्ट क्यूआर टैग है। इस कंटेंट सेट से नेत्रहीन और सुन न सकने वाले बच्चे अपने हिसाब से किताब में लिखी जानकारी हासिल कर सकते हैं। यह तकनीक इन छात्रों के लिए काफी महत्वपूर्ण है।

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के मुताबिक प्रिया-द एक्सेसिबिलिटी वॉरियर विकलांग व्यक्तियों के लिए अधिकारिता विभाग (दिव्यांगजन), सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय और स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग के सहयोगात्मक प्रयासों का परिणाम है।

यह प्रिया नाम की एक लड़की की दुनिया की झलक प्रदान करती है, जो एक दुर्घटना का शिकार हो गई थी और पैर में प्लास्टर होने के कारण चल नहीं सकती थी। कहानी दशार्ती है कि कैसे प्रिया स्कूल में सभी गतिविधियों में भाग लेने में सफल रही, और इस प्रक्रिया में पहुंच के महत्व को सीखा। इसलिए, वह एक एक्सेसिबिलिटी योद्धा होने का संकल्प लेती है। कॉमिक बुक भारतीय सांकेतिक भाषा (आईएसएल) व्याख्यात्मक वीडियो के साथ भी उपलब्ध है।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा कि एनईपी 2020 शिक्षा को बिना किसी विभाजन के एक निरंतरता के रूप में परिकल्पित करता है। शिक्षा को अधिक अनुभवात्मक, समग्र, एकीकृत, चरित्र-निर्माण, पूछताछ-संचालित, खोज-उन्मुख, शिक्षार्थी-केंद्रित, चर्चा-आधारित, लचीला और सबसे ऊपर, अधिक आनंदमय बनाने पर केंद्रित है।

इस परिप्रेक्ष्य के साथ, स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग ने स्कूली शिक्षा के सभी स्तरों पर कई पहल की हैं और 62 प्रमुख मील के पत्थर हासिल किए हैं जो अंतत स्कूली शिक्षा क्षेत्र को बदल देंगे।

अन्य प्रमुख उपलब्धियों में शामिल हैं 2026-27 तक ग्रेड 3 के अंत तक प्रत्येक बच्चे को पढ़ने, लिखने और अंकगणित में वांछित सीखने की क्षमता प्राप्त करने के लिए एक ²ष्टि के साथ निपुन भारत मिशन का शुभारंभ करेंगे।

समावेशी और न्यायसंगत, गुणवत्तापूर्ण और समग्र स्कूली शिक्षा सुनिश्चित करने के लिए शिक्षा के लिए सतत विकास लक्ष्य के साथ समग्र शिक्षा की मौजूदा योजना को संरेखित करना। विद्या प्रवेश- ग्रेड एक के बच्चों के लिए तीन महीने का स्कूल तैयारी मॉड्यूल, राष्ट्रीय डिजिटल शिक्षा वास्तुकला (एनडीईएआर) का ब्लू प्रिंट, शिक्षा पारिस्थितिकी तंत्र को सक्रिय और उत्प्रेरित करने के लिए, शिक्षकों की गुणवत्ता में सुधार और छात्रों के सीखने के परिणामों पर ध्यान देने के साथ निष्ठा के तहत माध्यमिक शिक्षकों की क्षमता निर्माण, सीखने को और अधिक आनंदमय और अनुभवात्मक बनाने के लिए मूल्यांकन सुधार।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 24 Aug 2021, 08:55:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.