News Nation Logo
Banner

सत्ता में बैठे लोग साबरमती के औद्योगिक प्रदूषकों की रक्षा कर रहे हैं: गुजरात हाई कोर्ट

सत्ता में बैठे लोग साबरमती के औद्योगिक प्रदूषकों की रक्षा कर रहे हैं: गुजरात हाई कोर्ट

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 01 Sep 2021, 12:00:01 PM
Gujarat High

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

गांधीनगर: गुजरात प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और अहमदाबाद नगर निगम को साबरमती नदी में प्रदूषण पर अंकुश सुनिश्चित नहीं करने के लिए फटकार लगाते हुए, गुजरात उच्च न्यायालय ने अधिकारियों और उद्योगों को चेतावनी देते हुए कहा है कि वह इसके लिए सभी को जिम्मेदार ठहराएगा।

मंगलवार को कोर्ट में मामले की सुनवाई हुई।

पिछले महीने की शुरूआत में गुजरात उच्च न्यायालय ने मीडिया रिपोटरें के आधार पर स्वत: संज्ञान लिया था कि अहमदाबाद शहर के पिराना में सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट में निर्धारित मानदंडों के अनुसार सीवेज के पानी का इलाज नहीं किया जा रहा है और प्रदूषित पानी को साबरमती नदी में छोड़ा जा रहा है।

जस्टिस जेबी पारदीवाला और जस्टिस वी.डी. नानावती ने अधिवक्ता हेमांग शाह को न्याय मित्र नियुक्त किया। शाह ने कहा कि वह अहमदाबाद में पिराना इलाके की परिधि में नदी तटबंध के किनारे सुबह 5 बजे अदालत में अपनी दलील पेश करने आए थे।

अदालत ने अपने आदेश में कहा कि श्री शाह नदी के किनारे के कुछ इलाकों में पानी से निकलने वाली बेहद दुगर्ंध के कारण विशेष क्षेत्र में मुश्किल से चल पा रहे थे। उनके अनुसार इसका कारण नदी में सीवेज का निर्वहन है। उन्होंने यह भी पाया कि व्यापार अपशिष्ट के कई अवैध औद्योगिक कनेक्शन हैं जो वर्तमान समस्या को बढ़ा रहे हैं।

यहां तक कि एएमसी का प्रतिनिधित्व करने वाले वरिष्ठ अधिवक्ता मिहिर जोशी ने भी अपनी दलील में स्वीकार किया कि नरोल, ओधव, विंजोल आदि जैसे औद्योगिक समूहों में ऐसे उद्योग और औद्योगिक क्षेत्र थे, जो अवैध रूप से औद्योगिक अपशिष्ट निर्वहन पाइपलाइनों को सीवेज की ट्रंक लाइन में जोड़े हुए है। टैंकरों द्वारा पंपिंग स्टेशन पाइपलाइनों में भी अपशिष्ट डाला जा रहा है।

जस्टिस पारदीवाला ने कहा कि श्री जोशी के अनुसार, सीवेज ड्रेनेज सिस्टम में छोड़े जा रहे अवैध व्यापार अपशिष्ट के खतरे और उपद्रव को जीपीसीबी द्वारा जल्द से जल्द देखा जाना चाहिए और इस पर ध्यान दिया जाना चाहिए। केवल जीपीसीबी है जो उचित कार्रवाई कर सकता है, लेकिन दुर्भाग्य से हमारे पास जीपीसीबी के साथ बहुत अच्छा अनुभव नहीं है। शीर्ष पर ऐसे लोग हैं जो इन उद्योगों की भी रक्षा करते हैं।

एचसी ने एएमसी और गुजरात प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (जीपीसीबी) के अधिकारियों को सूचित किया कि वे किसी भी दिन, सुबह 4 बजे से सुबह 5 बजे के बीच साबरमती नदी का अचानक निरीक्षण करेंगे।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

First Published : 01 Sep 2021, 12:00:01 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

LiveScore Live IPL 2021 Scores & Results

वीडियो

×